अयोध्या में बनेगी सरयू तट पर राम की सबसे ऊँची प्रतिमा

लखनऊ.उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अयोध्या में भगवान राम की विशाल मूर्ति लगाने की तैयारी में है. यह भगवान राम की दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति होगी. यह मूर्ति 108 फुट लंबी है. इसके लिए प्रदेश सरकार एनजीटी से भी इजाजत लेगी.

अयोध्या में रामलला के मंदिर का मसला भले ही सुप्रीम कोर्ट में अटका हो लेकिन विवादित स्थल से थोड़ी ही दूर सरयू के किनारे उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ भगवान राम की एक विशाल प्रतिमा स्थापित करेंगे.

भगवान राम की यह प्रतिमा योगी सरकार की ‘नव्य अयोध्या’ योजना का एक हिस्सा होगी.मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बार दीपावली के एक दिन पहले अयोध्या में रहेंगे. वहां पर त्रेतायुग की थीम पर दीपावाली मनाई जाएगी. सीएम योगी आदित्यनाथ भगवान राम की शोभा का स्वागत करेंगे.

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या को पर्यटन मानचित्र पर ऊभारने के लक्ष्य से सरयू तट पर भगवान राम की भव्य प्रतिमा की स्थापना करने समेत अनेक योजनाएं शुरू करने वाली है. इन वजहों से आध्यात्मिक नगरी में इस बार दीपावली बेहद खास और गहमागहमी भरी होगी.

अयोध्या को पर्यटन मानचित्र पर ऊभारने के लक्ष्य से सरयू तट पर भगवान राम की भव्य प्रतिमा का निर्माण पर्यटन विभाग कराएगा. इसके लिए राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) से अनापत्ति प्रमाणपत्र प्राप्त लिया जाएगा.

इसके अलावा रामकथा गैलरी, सरयू तट का विकास, रानी हो के स्मारक घाटों का सुधार विशेषकर गुप्तार घाट, जहाँ भगवान राम ने जल समाधि ली थी, राम की पौड़ी, पर्यटकों के ठहरने के स्थल, आवागमन के साधन सहित अन्य नागरिक सुविधाएं जैसे शौचालय तथा जल निकासी की समुचित व्यवस्था करेगी.

अयोध्या को एक प्रमुख पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित करने के लिए पर्यटन मंत्रालय को 195.89 करोड़ रुपए की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) भेजी गई थी, जिसके सापेक्ष रूपए 133.70 करोड़ की धनराशि स्वीकृत कर राज्य सरकार को दी गई है.

18 अक्तूबर को छोटी दीपावली पर अयोध्या में आयोजित होने वाले दीपोत्सव कार्यक्रम में राम की पौड़ी पर।,71,000 दीप जलाए जाएंगे.