मोदी ने डिजिटल इंडिया को बताया गुड गवर्नेंस की गारंटी

गाँधी नगर.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने गृह राज्‍य गुजरात के दो दिन के दौरे पर हैं, उन्होंने अपने दौरे की शुरुआत द्वारकाधीश मंदिर में दर्शन करके की. प्रधानमंत्री मोदी ने द्वारका में ओखा-बेट द्वारका पुल का शिलान्यास किया.

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आईआईटी-गांधीनगर की नई इमारत का उद्घाटन किया. आईआईटी कैंपस में एक जनसभा को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  कहा कि जीएसटी की दरों में बदलाव पर लिए गए फैसलों ने छोटे और मंझोले कारोबार को राहत दी है, जिससे देश भर में 15 दिन पहले से दिवाली का त्योहारी माहौल है.

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में डिजिटल असंतुलन नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘डिजिटल डिवाइड एक बहुत बड़ा सामाजिक संकट पैदा कर सकता है, समाज की समरसता के लिए विकास के मूलभूत बिंदुओं को समावेशित करने के लिए ग्रामीण भारत में डिजिटल अभियान चलाया गया है.

जब गांव के किसी घर में टीवी आता है तो शुरू में सबको लगता है कि यह क्या है, लेकिन बच्चा जब कुछ ही दिन में चैनल बदलना सीख जाता है तो उसके बाद बुजुर्ग भी सीखना शुरू कर देते हैं. अगर यूजर फ्रेंडली तकनीक को पेश किया जाता है तो हम देश को डिजिटल साक्षरता के पथ पर ला सकते हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकास का जैम (JAM) फार्मूला बताया.उन्होंने कहा कि अब विकास की जेएएम अवधारणा सामने आई है.जिसमें जे फॉर जन, ए फॉर आधार और एम फॉर मोबाइल फोन है.

उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते कि कारोबारी वर्ग लालफीताशाही में फंस जाए. सरकार के पास मौजूद सूचना के आधार पर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कल जीएसटी काउंसिल की बैठक में हर किसी को इसके कुछ प्रावधानों में बदलाव करने की जरूरत के बारे में सहमत किया.

मोदी ने कहा, मैं इस बात को लेकर खुश हूं कि इसका देश भर में एक स्वर में स्वागत किया गया है. उन्होंने कहा कि जब सरकार विश्वास से भरी होती है, जब नीतियां अच्छी नीयत से तैयार की जाती हैं तब लोग स्वभाविक रूप से व्यापक राष्ट्र हित में समर्थन देते हैं.