यूएन में भारत: टेररिस्तान को सुषमा स्वराज ने दिया करारा जवाब

वाशिंगटन/नई दिल्ली.विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र की महासभा में पाकिस्तान को अपनी शांत,सौम्य और परिपक्व शैली में दिया करारा जवाब.सुषमा जी की पीएम नरेंद्र मोदी और कांग्रेस ने भी की तारीफ़.भारत ने गरीबी से निपटने के लिए दूसरा रास्ता अपनाया.

यूएन की जनरल असेंबली में भारत का पक्ष रखते हुए अपने 22 मिनट के भाषण में कहा कि हमने अपने यहां एम्स और आईआईटियन को पैदा किये हैं, लेकिन पाकिस्तान ने आतंकवादियों को पैदा किया है. उन्होंने कहा कि हम गरीबी से लड़ रहे हैं और पाकिस्तान हमसे लड़ रहा है.

उन्होंने पाकिस्तान पर हमला करते हुए कहा कि बेगुनाहों का खून बहाने वाला पाकिस्तान हमें मानवाधिकार का पाठ पढ़ा रहा है. पीएम मोदी ने शांति और दोस्ती की नीयत दिखायी. पाकिस्तान वालों आपने क्या बनाया? आपने आतंकवादी संगठन बनाये.

पाकिस्तान वालों अपने मुल्क की तरक्की के लिए पैसा खर्च करो. जिस वक्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बोल रहे थे, तो सुनने वाले कह रहे थे ‘लुक हू इज टॉकिंग’. उन्होंने कहा कि आतंकवाद की निंदा करना रस्म सा बन गया है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 72वें सत्र में अपने संबोधन के दौरान भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जलवायु परिवर्तन को लेकर भी चिंता जतायी. उन्होंने कहा कि हम सबके सुख की कामना करते हैं. आतंकवाद को परिभाषित कर उससे लड़ना जरूरी है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के भाषण की चारों तरफ से सराहना हो रही है. खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद ट्वीट का सुषमा स्वराज का शाबाशी दी. मोदी ने कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का संयुक्त राष्ट्र में अतुलनीय भाषण दिया है. उन्होंने वैश्विक मंच पर भारत का गर्व बढ़ाया है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कहा कि पाक पीएम के भड़काऊ और उकसाने वाले भाषण का जवाब देते हुए भी सुषमा ने जिस तरह से परिपक्वता दिखाई, उससे उनकी समझ और मैचुरटी का पता चलता है.

पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी सुषमा स्वराज के भाषण की सराहना की. उनके अनुसार यह भाषण भी भारतीय प्रतिनिधियों द्वारा यूएन के मंच पर दिए गए पूर्व के भाषणों की तरह परिपक्वपूर्ण और समझबूझ से भरा था. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी ट्विटर पर जमकर तारीफ की. उनके अनुसार सुषमा का भाषण लाजवाब था.