राहुल गाँधी पर भाजपा के ट्रिपल अटैक

1.अमित शाह
अमेठी। गुजरात विधानसभा के आसन्न चुनाव में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के लगातार हमलों से घिरी भाजपा ने  उन्हीं के गढ़ में पलटवार करते हुए उनसे पिछली तीन पीढ़ियों के प्रतिनिधित्व का हिसाब मांगा.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राहुल के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, अमेठी की धरती से मैं कांग्रेस के शहजादे से भी पूछना चाहता हूं कि तीन पीढ़ियों तक आपने अमेठी को क्या दिया.

आप हमारे तीन साल का हिसाब मांगते हैं, अमेठी की जनता आपसे तीन पीढ़ियों का हिसाब मांगती है। उन्होंने कहा, अमेठी में विकास के दो माडल हैं। एक गांधी-नेहरू परिवार का माडल और दूसरा मोदी माडल. कांग्रेस करीब 70 साल तक पंचायत से लेकर संसद तक सरकार चलाती रही. राहुल बाबा आप हिसाब दीजिए.

2.योगी

मुख्यमंत्री योगी ने किसी का नाम लिए बगैर कहा, सम्राट साइकिल के नाम पर राजीव गांधी फाउंडेशन (ट्रस्ट) द्वारा जमीन हड़पने की जो साजिश हो रही है, उसे हम कभी कामयाब नहीं होने देंगे.

योगी ने कहा कहीं पर दामाद जमीन हड़पे और कहीं पर पुत्र ही जमीन हड़पने का कार्य करे. यह उत्तर प्रदेश में तो नहीं चल पाएगा. उनका इशारा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा और पुत्र राहुल गांधी की तरफ था.

किसानों की जमीन पर या तो उद्योग लगेगा, या फिर वह किसानों को वापस की जाएगी. इसको हम किसी फाउंडेशन या किसी परिवार की बपौती नहीं बनने देंगे. योगी ने सवाल उठाया, कांग्रेस आखिर 55-60 वर्षों तक इस देश में क्या करती रही.

3.स्मृति ईरानी 

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेठी से सांसद, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज करते हुए कहा कि उनके तथा भाजपा नेताओं के लगातार दौरों की वजह से राहुल का अमेठी में आना-जाना बढ़ा है और क्षेत्रीय जनता का अपने सांसद से मोहभंग हो रहा है.

कांग्रेस का गढ़ कहे जाने वाले अमेठी के दो दिवसीय दौरे पर आईं केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा कपड़ा मंत्री स्मृति ने  कहा कि राहुल का पिछले सप्ताह हुआ तीन दिवसीय अमेठी दौरा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आज के दौरे को देखते हुए ही तय किया गया था.

स्मृति ने वर्ष 2014 के लोकसभा के चुनाव में अमेठी सीट से राहुल को कड़ी टक्कर दी थी. हालांकि वह जीत नहीं सकी थीं.राहुल की जीत का अंतर वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में तीन लाख 70 हजार मतों के मुकाबले भारी गिरावट के साथ एक लाख सात हजार वोट ही रह गया था.