15500 करोड़ के कर्ज में डूबी एयरसेल हुई दीवालिया, बताई यह वजह

देश की बड़ी टेलिकॉम कंपनी एयरसेल ने आज कंपनी को दीवालिया घोषित करने के लिए आवेदन दे दिया. कंपनी का कहना है कि वित्तीय दृष्टि से दबाव वाली इस इंडस्ट्री में उसे बुरे वक्त का सामना करना पड़ रहा है। कंपनी ने यह कदम मलयेशियाई प्रमोटर मैक्सिस कम्यूनिकेशन के निवेश करने से इनकार करने के बाद उठाया है।

aircel

कंपनी का कहना है कि कड़ी प्रतिस्पर्धा तथा कानूनी चुनौतियों की वजह से कंपनी को बेहद नुक्सान हुआ है. साथ ही साथ बढ़ता हुआ कर्ज तथा व्यापार घाटा की वजह से कंपनी के कारोबार पर व्यापक प्रभाव पड़ा है जिससे उबर पाना अब संभव नहीं.

आपको बता दें कि एयर सेल के ऊपर 15 500 करोड़ का कर्ज है. कंपनी के बंद होने से इससे जुड़े वेंडर तथा डिस्ट्रीब्यूटर को व्यापक नुक्सान होगा. साथ ही कंपनी के 5000 के अधिक कर्मचारियों की नौकरियां जाएंगी.

120 करोड़ के फायदे में थी कंपनी 

जुलाई 2016  में एयर सेल 120 करोड़ के मुनाफे में थी परन्तु जियो के आने के बाद कंपनी को लगातार नुक्सान हुआ है. मुनाफे में चल रही कंपनी को २०१७ में 120 करोड़ का घाटा हुआ. जिसके बाद से कंपनी कभी उभर ही नहीं पायी.

हालाँकि ऐसा नहीं है कि सिर्फ एयर सेल को ही नुक्सान हुआ है. रिलायंस जिओ के आने के बाद कमोबेश सभी कंपनियों के फायदे में कमी आई है. बढ़ते घाटे को रोकने के लिए वोडाफ़ोन, टेलिनोर तथा आईडिया सेलुलर ने मिलकर काम करने का फैसला लिया था.