क्या हैं कौवे और उल्लू से जुडी दुनिया भर की शुभ-अशुभ की कहानियां

0
435

Kya Hain Kauve Aur Ullu Se Judi Duniya Bhar Ki Shubh-Ashubh Ki Kahaniyan

ना केवल भारत, बल्कि कई ऐसे देश हैं जो जानवरों, विभिन्न बेजान वस्तुओं को लेकर शकुन एवं अपशकुन जैसी बातों पर विश्वास करते हैं। इन देशों में बाकायदा इन विश्वासों की पूरी सूची है।

इस जानकारी को गहराई से जानने के बाद ही आप यह समझने को तैयार होंगे, कि ना केवल भारत में बल्कि कई देशों में शुभ-अशुभ के नाम पर कई मानदंड खड़े किए गए हैं। आज यहां हम आपको इन सभी देशों में उल्लू एवं कौए को लेकर क्या अंधविश्वास हैं, इसके बारे में बताने जा रहे हैं।Kya Hain Kauve Aur Ullu Se Judi Duniya Bhar Ki Shubh-Ashubh Ki Kahaniyan

भारत में तो काली बिल्ली रास्ता काट जाए या घर में चमगादड़ आ जाए तो मौत हो सकती है, ऐसी बातें अधिक प्रचलित हैं। लेकिन देश-देशांतर में उल्लू और कौए को किस नज़रिए से देखा जाता है, यह जानने के बाद आप यकीन नहीं कर पाएंगे।

उल्लू और कौए से जुड़े शकुन-अपशकुन वाकई जानकरी प्राप्त करने के लिहाज से रोचक हैं। इसके मुताबिक उल्लू और कौए के कुछ इशारे हमारे लिए शुभ होते हैं, वहीं कुछ अशुभ भी होते हैं। इसलिए यदि हमें कभी उल्लू या कौए दिखाई दें या उनका स्वर सुनाई दे तो हमें उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

कौए और उल्लू से जुड़े शकुन-अपशकुन में से पहला है यह – यदि कोई उल्लू किसी के घर पर बैठना प्रारंभ कर दे, तो वह घर शीघ्र ही उजड़ सकता है। इसके अलावा ऐसा भी माना जाता है कि उस घर के मालिक पर कोई विपत्ति आने की संभावना बढ़ जाती है।

यह भी पढ़िए  क्या ये सच है कि श्री कृष्ण थे ६४ कलाओं के माहिर? बताते है आपको सच्चाई

आप शायद यकीन ना कर पाएं, लेकिन दक्षिण अफ्रीका में उल्लू की आवाज को मृत्युसूचक कहा जाता है। यदि किसी को उसकी आवाज़ सुनाई दे जाए, तो वह थर-थर कांपने लगता है। वहीं दूसरी ओर भारत के पड़ोसी देश चीन में उल्लू दिखाई देने पर स्वयं की नहीं, पड़ोसी की मृत्यु का सूचक मानते हैं।

एक और मान्यता यह कहती है कि यदि बहुत से कौए किसी नगर या गांव में एकत्रित होकर शोर करें, तो उस नगर या गांव पर भारी विपत्ति आने के योग बनते हैं। यदि ऐसी घटना कभी भी देखने को मिले, तो गांव वालों को सचेत हो जाना चाहिए।

परंतु जब कौए का झुंड किसी स्थान या गांव की बजाय, किसी के घर पर आकर चिल्लाए तो यह उस घर के लिए श्रापित सिद्ध होता है। यह इस बात का सूचक होता है कि बहुत जल्द उस भवन के मालिक पर कई बड़े संकट आने वाले हैं, जिनमें से शायद कोई एक संकट उसकी मौत का कारण भी बन जाए।

कई बार कौए हमारे ऊपर भी आकर बैठ जाते हैं। कौए शायद ही किसी को पसंद हों, इसलिए उनसे घृणा के कारण ही हम उन्हें उड़ा देते हैं। लेकिन शकुन शास्त्र के अनुसार कौआ यदि आपके ऊपर आकर बैठा है तो सबसे पहले इस घटना से मिलने वाले संकेतों को समझें।

यदि कौआ किसी व्यक्ति के ऊपर आकर बैठ जाए, तो उसे धन व सम्मान की हानि हो सकती है। यदि किसी महिला के सिर पर कौआ बैठता है, तो उसके पति को गंभीर संकट का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़िए  क्यों है हिन्दू धर्म के अनुसार पूजा घर में मृत पूर्वजों की तस्वीरें रखने की मनाही ?

लेकिन कौआ हमें लाभ भी दे सकता है, यह जरूर जानें। कुछ संकेतों के अनुसार कौए द्वारा किए गए कार्य हमें फायदा पहुंचाते हैं। जैसे कि यदि आप घर से किसी यात्रा के लिए निकले हैं, और रास्ते में कौआ आपके सामने आकर सामान्य स्वर में कांव-कांव करे और चला जाए तो यह कार्य सिद्धि का सूचक है।

यदि कौआ पानी से भरे घड़े पर बैठा दिखाई दे तो धन-धान्य की वृद्धि होती है। कौआ मुंह में रोटी, मांस आदि का टुकड़ा लाता दिखाई दे, तो ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति ऐसे कौए को देख ले उसके मन की इच्छा पूरी होती है।

कौए की तरह ही उल्लू के भी कुछ संकेतों को कई जगहों पर शुभ माना गया है। जैसे कि यदि उल्लू रात में यात्रा कर रहे व्यक्ति को होम-होम की आवाज करता मिले तो शुभ फल मिलता है, क्योंकि इसी प्रकार की ध्वनि यदि वह फिर करता है तो उसकी इच्छा रमण करने की होती है।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 

Comments

comments