सबसे सुन्दर बच्चा – अकबर बीरबल की कहानियां

एक बार बादशाह अकबर (Akbar) ने दरबार में यह घोषणा करवाई कि उनका पोता पूरे देश में सबसे सुदंर बच्चा है। वह अपने नवजात पोते को बहुत प्यार करते थे। अकबर (Akbar) अपने पोते से इतना अधिक प्यार करते थे कि उस बच्चे के जन्म के बाद अकबर (Akbar) मुश्किल से सम्राट के रूप में अपने कर्तव्यों पर ध्यान केंद्रित कर पर रहे थे। वह बच्चे के साथ पूरा दिन खेलते रहते थे। इससे सभी मंत्री बहुत परेशान हुए।

सबसे सुन्दर बच्चा - अकबर बीरबल की कहानियां

इसलिए जब अकबर (Akbar) ने कहा, कि उसका पोता देश का सबसे सुंदर बच्चा है तो बीरबल (Birbal) ने कहा, ”जहांपनाह, कृपया नाराज न हो आप। राजकुमार निसंदेह बहुत खूबसूरत हैं पर मेरे ख्याल से और भी बच्चे हैं जो इनसे भी ज्यादा सुंदर हैं।“

अकबर (Akbar) ने जब यह सुना तो वे बहुत क्रोधित हुए। उसने कहा, ”तुम ऐसा कैसे कह सकते हो? मैं सभी मंत्रियों को यह आदेश देता हूं कि वह उस बच्चे को लेकर आएं जिसे वह सबसे ज्यादा सुंदर समझते हैं। यदि वह बच्चे मेरे पोते से ज्यादा सुंदर हुए तो मैं सहमत हो जाऊंगा जैसा बीरबल (Birbal) ने कहा है।“

इसलिए अगले दिन हर मंत्री अपने साथ एक बच्चा लेकर दरबार में आया। पर बीरबल (Birbal) कहीं दिखाई नहीं दे रहा था। फिर कुछ समय के बाद बीरबल (Birbal) दरबार में आया। वह पसीने से भीगा हुआ था। अकबर (Akbar) ने पूछा, ”कहां है वह बच्चा जिसे तुमने मेरे पोते से ज्यादा सुंदर बताया था?“ बीरबल (Birbal) ने कहा, ”महाराज, मैंने दरबार में बच्चे को लाने की कोशिश की, लेकिन उसकी मां ने मुझे ऐसा करने नहीं दिया। यदि आप एक सामान्य इंसान की तरह तैयार हो सकते हैं, तो हम बच्चे को देखने के लिए जा सकते हैं।“

अकबर (Akbar) और उसके कुछ मंत्रियों ने सामान्य लोगों की तरह कपड़े पहन लिए और बीरबल (Birbal) के साथ उस बच्चे को देखने चल पड़े। लंबे समय तक चलने के बाद वे एक झोपड़ी के पास पहुंचे। एक बच्चा झोपड़ी के बाहर गंदगी के ढेर पर खेल रहा था। वह गंजा था और धूल में लिपटा हुआ था। उसकी एक आंख दूसरी आंख से छोटी थी और उसकी नाक से पानी गिर रहा था। अकबर (Akbar) ने बीरबल (Birbal) से कहा, ”आपको लगता है कि यह बच्चा राजकुमार से ज्यादा सुंदर है?“

”यह तो बहुत ही बदसूरत है!“ जैसे ही अकबर (Akbar) ने यह कहा, बच्चे की मां झोपड़ी से बाहर आ गई। वह उस आदमी पर बहुत गुस्सा होने लगी, जो उसकी झोपड़ी के सामने खड़ा होकर बच्चे को घूर रहा था। उसने कहा, ”तुम कौन हो?“ तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरे बच्चे को बदसूरत कहने की। निकल जाओ यहां से! और फिर उसने बच्चे को गोद में उठा लिया, अपने साड़ी के पल्लू से उसका चेहरा पौंछते हुए उसे चूम लिया। उसने बच्चे से कहा, ”मेरे प्यारे बेटे, इन लोगों को मत सुनो, तुम इस देश में सबसे सुंदर बच्चे हो।“ और वह छोटे बच्चे को अंदर ले गई।

अकबर (Akbar) समझ गया कि बीरबल (Birbal) क्या कहना चाहता था। उसने कहा, ”अपने माता-पिता के लिए हर बच्चा देश में सबसे सुंदर होता है।“ बीरबल (Birbal) मुस्काराया और कहा, ”और समय आने पर अपने दादा दादी के लिए भी।“