उत्तर प्रदेश चुनाव – सोशल मीडिया पर सबसे आगे हैं अखिलेश यादव

0
73

लखनऊ : 2014 के लोकसभा चुनावों के बाद यह बात खुलकर साफ़ हो गयी कि भारत में अब किसी भी राज्य या केंद्र के चुनावों में टीवी से भी कहीं ज्यादा अहमियत अब सोशल मीडिया निभाने जा रहा है. नतीजतन उत्तर प्रदेश चुनाव में चुनावी नारे सोशल मीडिया पर खूब धूम मचा रहे हैं. एक भारतीय जनता पार्टी का है जिसमें कहा गया है ‘उत्तर देगा उत्तर प्रदेश’ तो दूसरी तरफ अखिलेश सरकार का वायरल हो रहा है कैंपेन सॉन्ग ‘काम बोलता है’. दोनों पार्टियों सोशल मीडिया पर एक दूसरे से होड़ में लगी हुई है. ऐसा लग रहा है जैसे कि अबकी बार उत्तर प्रदेश का चुनाव बैलट से काम और ट्विटर, फेसबुक और व्हाट्सप्प पर ज्यादा लड़ा जा रहा है.

up-election-akhilesh-yadav-leads-on-social-mediaसमाजवादी पार्टी ने कैंपेन टाइटल #काम बोलता है नाम से फेसबुक में बनाए गए पेज को महज कुछ ही दिन में 2 लाख से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है. ट्विटर में भी बीते दिनों #काम बोलता है ट्रेंड पर रहा. जबकि थीम सॉन्ग को अब तक तीन लाख से ज्यादा बार सुना जा चुका है.

वहीं भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश में यूपी के मन की बात नाम के कार्यक्रम की शुरुआत की है, एक वेबसाइट और फेसबुक का पेज बनाया गया है, जिसका कैंपेन टाइटल है #उत्तर देगा उत्तर प्रदेश. बीजेपी के कैंपने टाइटल का यह पेज महज कुछ दिन में ही सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल हो गया, अब तक इस पेज को तकरीबन 14 लाख लोग फॉलो कर चुके हैं जो कि बीजेपी उत्तर प्रदेश के फेसबुक पेज से भी तीन लाख ज्यादा है.

यह भी पढ़िए  नोट बंदी का उत्तर प्रदेश चुनाव पर क्या है असर? किस पार्टी को होगा फायदा ?

उत्तर प्रदेश के जितने भी बड़े नेता हैं सब में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सोशल मीडिया में आगे हैं. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के फेसबुक में 46 लाख से भी ज्यादा फॉलोवर हैं. वहीं ट्विटर में अखिलेश यादव को 20 लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं. उत्तर प्रदेश की दूसरी बड़ी पार्टी बहुजन समाजवादी पार्टी के मुखिया मायावती अभी भी पूरी तरह से सोशल मीडिया से दूरी बनाए हुई हैं.

उत्तर प्रदेश बीजेपी और यूपी कांग्रेस की सोशल मीडिया की टीम थोड़ी बहुत सक्रिय जरूर नजर आती हैं. उत्तर प्रदेश बीजेपी के फेसबुक पेज पर 8 लाख फॉलोअर हैं. समाजवादी पार्टी के फेसबुक पेज पर 11 लाख फॉलोवर हैं. जबकि यूपी कांग्रेस के महज 60 हजार और बीएसपी के महज 20 हजार फॉलोअर हैं.

प्रचार के तरीकों में भी समाजवादी पार्टी और बीजेपी में ही सीधी टक्कर है, जहां भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश जगह-जगह चुनाव में डिजिटल रथ भेज रही है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण, उत्तर प्रदेश के लिए उनकी घोषणाएं दिखाई जा रही है. साथ ही यूपी के मन की बात कार्यक्रम के तहत युवाओं से उनकी राय पूछी जा रही है.

वहीं समाजवादी पार्टी प्रचार के मामले में सबसे आगे नजर आ रही है, जहां एक तरफ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव खुद बेहद हाइटेक रथ लेकर दौरे कर रहे हैं तो दूसरी तरफ हाल ही में 5 युवाओं की टोली को अमेरिका से चुनावी प्रशिक्षण दिलाकर अपनी टीम में भी शामिल कर लिया है. कोर टीम और यूपी पर्यटन प्रोत्साहन बोर्ड की सदस्य निधि यादव ने बताया कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में इस्तेमाल हुई कुछ तकनीकों को यूपी विधानसभा चुनाव में भी इस्तेमाल किया जाएगा.

यह भी पढ़िए  मुद्दे की बात - वन रैंक वन पेंशन का आंदोलन अब जबरदस्ती खींचा तो नहीं जा रहा ?

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 

Comments

comments