उदास होने का समय

Advertisement

ज़्यादातर उदासी
खर्च हो चुकी होती है
चालीस की उम्र तक
बची- खुची में भी पुरानापन आ जाता है
जैसे पुरानी किताबों के पन्नों की रंगत
या पुराने नोटों की गंध

राजीव ध्यानी

अब उदास होने का
न तो समय है न ही इच्छा
अच्छा भी तो नहीं लगता
उदास होना
लोगबाग क्या कहेंगे
चालीस पार का आदमी और उदास

कोई पूछता भी नहीं
उदासी का सबब
लोग सोच ही नहीं पाते
कि चालीस पार का आदमी
उदास भी हो सकता है
दुखी या हैरान होना अलग बात है

कभी छुपकर
कोशिश करता भी हूँ तो
कामयाबी नहीं मिलती
ठीक से नहीं आती उदासी
चिंताएं आ जाती हैं
दुःख आ जाता है
निराशा, हताशा सब आती हैं बारी- बारी

Advertisement

हमेशा की तरह
इस बार भी
बहुत देर कर चुका हूँ मैं

उदास होने का
सबसे अच्छा समय
बहुत पहले बीत चुका है

~ राजीव ध्यानी

Advertisement