एयर चीफ मार्शल ने कहा वायुसेना चीन को जवाब देने में सक्षम

Advertisement

नई दिल्ली।.वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने कहा कि भारतीय वायु सेना चीन का मुकाबला करने में सक्षम है और दो मोर्चों पर युद्ध की स्थित का सामना करने के लिए तैयार है.

एयर चीफ मार्शल ने कहा कि उनका बल पूर्ण विस्तार वाले अभियान के लिए तैयार है हालांकि उन्होंने साफ किया कि वायुसेना को शामिल करते हुए सर्जिकल स्ट्राइक पर कोई भी फैसला सरकार को लेना है. उन्होंने कहा, हम किसी भी चुनौती का मुकाबला करने के लिए तैयार हैं.

Advertisement

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वायुसेना दो मोर्चों पर युद्ध की चुनौती के लिए तैयार है. सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पिछले महीने कहा था कि देश को दो मोर्चों पर युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए.

Advertisement

उन्होंने जोर देकर कहा कि चीन ने अपनी ताकत का प्रदर्शन शुरू कर दिया है जबकि पाकिस्तान की तरफ से भी शांति की कोई गुंजाइश नहीं है जिसका सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व भारत में एक विरोधी को देखता है.

Advertisement
youtube shorts kya hai

वायु सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि वायुसेना 2032 तक अपनी 42 फाइटर स्क्वाड्रन की क्षमता हासिल कर लेगी.

एयरफोर्स की एनुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में एयर चीफ मार्शल ने कहा- अगर दो मोर्चों पर जंग के हालात बनते हैं तो स्ट्रैंथ की कमी पूरी करने के लिए हमारे पास प्लान बी भी तैयार है. हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि आज के हालात को देखते हुए इस बात की आशंका कम ही है कि दो मोर्चों पर जंग होगी.

Advertisement

गुरुवार को एयर चीफ मार्शल ने कहा- एयर फोर्स में पहली तीन महिला फाइटर पायलट इस साल दिसंबर में कमीशन लेंगी.बता दें कि एयरफोर्स में वुमन फाइटर पायलट शामिल करने को पिछले साल हरी झंडी दी गई थी.

एक और सवाल के जवाब में धनोआ ने कहा- दो मोर्चों पर जंग के लिए हमें 42 स्क्वॉड्रन्स की जरूरत है.
चुम्बी वैली में चीनी फौज की मौजूदगी पर एयर चीफ मार्शल ने कहा- हां, वहां पर चीन की फौज मौजूद है. लेकिन, हम उम्मीद करते हैं कि समर एक्सरसाइज के बाद वो वहां से हट जाएंगे.

धनोआ से जब पाकिस्तान के न्युक्लियर वेपन्स के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा- हमारे पास पाकिस्तान के इन हथियारों को लोकेट करने और तबाह करने की काबिलियत और ताकत मौजूद है.

हम शॉर्ट नोटिस पर भी जंग के लिए तैयार हैं। इसमें हमें अपनी दो सहयोगी सेनाओं (थल और नौसेना) की मदद मिलेगी. हमारी फोर्स में मौजूद पुरुष और महिला सैनिक किसी भी हमले का जवाब देने या फिर ऑपरेशन करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं.

Advertisement