कानपुर में मुहर्रम जुलूस को रोकने पर सांप्रदायिक हिंसा , आगजनी,कई घायल

Advertisement

कानपुर.यूपी में कानपुर के जूही क्षेत्र में मुहर्रम पर ताजिए का जुलूस रोकने पर दो पक्षों में बवाल हो गया. बाइकें जला दी गईं. मौके पर पुलिस फोर्स पहुंच रही है. कानपुर के कुछ इलाकों में पिछले कुछ दिनों से ताजिए और भरत मिलाप के जुलूस निकालने के रास्ते को लेकर तनाव चल रहा है.

शहर में माहौल बिगड़ने की आशंका जताई जा रही थी. जूही क्षेत्र में ताजिए के जुलूस को दूसरे पक्ष ने रोका तो बवाल शुरू हो गया. रावतपुर में भी सांप्रदायिक माहौल गरमाया अतिसंवेदनशील क्षेत्र रावतपुर में आखिर एक बार फिर जिला प्रशासन और पुलिस नकारा साबित हुई.

Advertisement

सांप्रदायिक माहौल बिगड़ने से रोकने के लिए पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया. दशहरे और मुहर्रम के मद्देनज़र जिला प्रशासन और पुलिस द्वारा बरती गई लापरवाही आखिरकार सामने आ ही गई. वहीं बीजेपी विधायक और जिले की डीआईजी को घटना मामूली बात लगी.

Advertisement

रावतपुर में पिछले तीन दिनों से सांप्रदायिक माहौल गर्म था. बीते दिन दो समुदायों के लोगो में आपसी छुटपुट घटनाओ में पुलिस ने एक पक्षीय कार्रवाई करते हुए एक समुदाय के चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया जिस पर क्षेत्र के रामलला मंदिर में बीजेपी और बजरंग दल के कार्यकर्ता बैठक कर रहे थे.

Advertisement
youtube shorts kya hai

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधिकारियों से गिरफ्तार कार्यकर्ताओं को छोड़ने की मांग की जिसमें कुछ गर्मागर्मी हुई. बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा नारा लगाए जाने पर पुलिस ने उनपर जमकर लाठीचार्ज किया. कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया.

पुलिस प्रशासन ने संभाला मामला लाठीचार्ज की घटना के बाद मौके पर डीएम और डीआईजी पहुंचीं और लोगों को समझाया. बीजेपी विधायक अभिजीत सिंह साँगा ने मौके पर आकर जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की.

Advertisement

घटना पर वार्तालाप किया लेकिन मीडिया द्वारा घटना के बारे में पूछने पर विधायक अभिजीत सिंह साँगा ने घटना को मामूली बताकर सब कुछ ठीक ठाक होना बताया. वहीं जिले की कप्तान सोनिया सिंह ने लाठीचार्ज की घटना को नकारते हुए जय श्री राम का नारा लगाया और निकल गई.

 

Advertisement