केन्द्र कश्मीर पर वाजपेई फार्मूला अपनाएं:मीर वायज

Spread the love

श्रीनगर. उदारवादी कश्मीरी अलगाववादी नेता मीर वायज उमर फारूक ने कहा कि वह केन्द्र के साथ बिना शर्त बातचीत के हक में हैं. बातचीत अगर वाजपेई सरकार के फार्मूले के अनुसार होगी तो इसकी सफलता की गुंजाइश सबसे ज्यादा होगी.

कश्मीरियों के मीर वायज अर्थात धार्मिक नेता फारूक ने कहा कि वाजपेई फार्मूला में सभी पक्षों को शामिल किया गया था. संदर्भ में कश्मीरी पृथकतावादी नेताओं को नई दिल्ली के साथ साथ इस्लामाबाद और पाक अधिकृत कश्मीर में उनके समकक्षों के साथ एक साथ संवाद की इजाजत दिए जाने का जिक्र किया.

एक मुलाकात में मीरवायज ने कहा, हम बातचीत के लिए एक ऐसी व्यवस्था चाहते हैं, जिसमें हर किसी को शामिल किया जाए. हम इसे महज तस्वीरें खिंचवाने का मौका ही नहीं बन जाने देना चाहते. उन्होंने कहा, हमें बातचीत का सिलसिला शुरू करना चाहिए.

नतीजे की फिक्र नहीं होनी चाहिए. बस यह प्रक्रिया संजीदा हो. मीरवायज (44) ने हाल ही में केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से बातचीत के प्रस्ताव का स्वागत किया था.

हालांकि यह पहला मौका है जब उन्होंने इस बात पर खुलकर बात की कि 70 वर्ष से चली आ रही समस्या को सुलझाने के लिए होने वाली बातचीत को सफल बनाने के बारे में वह क्या सोचते हैं.

वाजपेई सरकार के फार्मूले पर वापस लौटने की उनकी राय से सरकार के इत्तेफाक रखने की गुंजाइश कम ही है क्योंकि इसमें पाकिस्तान को शामिल करने की बात की गई है.

मीरवायज ने साफ तौर पर कहा कि कश्मीर के सभी पक्षों, जिनसे गृहमंत्री बात करने की बात करते हैं, में पाकिस्तान और जम्मू कश्मीर रियासत के सभी क्षेत्रों को भी शामिल किया जाना चाहिए.