छोटे कारोबारियों की बिगड़ी दिवाली,लोगों के पास कैश की कमी का असर दिखा रिटेल मार्किट पर

नई दिल्ली.कारोबारियों के मुताबिक इस साल दिवाली पर सेल बीते साल की तुलना में 30 फीसद तक कम हुई है. कस्टमर के पास ई-कॉमर्स कंपनियों के डिस्काउंट ऑफर, कैश की कमी और ज्यादा टैक्स रेट की सीधा असर सेल पर पड़ा. कारोबारियों के मुताबिक इस साल कस्टमर बाजारों में खरीदारी के लिए कम आएं हैं.

कस्टमर के पास कैश की कमी और ई-कॉमर्स कंपनियों के डिस्काउंट सेल ऑफर्स का निगेटिव असर कारोबार पर सबसे ज्यादा पड़ा.

रिटेल में कन्ज्यूमर ड्यूरेबल, एफएमसीजी प्रोडक्ट, इलेक्ट्रॉनिक्स, किचन ऐप्लायंस और एक्सेसरी, लगेज, घड़ियां, गिफ्ट आइटम, मिठाई, ड्राई फ्रूट्स, होम डेकोर, लाइट और फिटिंग्स, घड़ियां, रेडीमेड गारमेंट्स, डेकोरेशन आइटम, फर्निशिंग और फैबिरक की सेल पर सबसे ज्यादा असर पड़ा.

कुछ प्रोडक्ट पर 28 फीसद जीएसटी से कस्टमर और ट्रेडर्स दोनों परेशान रहे क्योंकि कोई भी प्रोडक्ट की कीमत का वन थर्ड से ज्यादा टैक्स देने को तैयार नहीं था. ई-कॉमर्स पोर्टल के हैवी डिस्काउंट ऑफर और बिग बिलियन सेल ने ऑफलाइन बिजनेस को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया है.

इस बार सेल पिछली दिवाली की तुलना में 30 फीसद तक कम रही है। ट्रेडर्स को अपने स्टॉक को लेकर चिंता हो रही है क्योंकि उनका फेस्टिवल के लिए खरीदा गया स्टॉक 50 फीसद तक बचा हुआ है.ऑनलाइन शॉपिंग और GST का सीधा असर दिवाली पर रिटेल सेक्टर की सेल पर पड़ा है.

फेस्टिव सीजन खत्म होने को है और इसका सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है रिटेलर्स को. ऑनलाइन शॉपिंग और GST ने रिटेलर्स की कमर तोड़ दी है. कारोबारियों के मुताबिक इस साल दिवाली पर बीते साल की तुलना में 30 फीसद सेल कम हुई है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑफलाइन रिटेलर्स के पास कैश की कमी और ई-कॉमर्स कंपनियों के डिस्काउंट सेल ऑफर्स का निगेटिव असर कारोबार पर सबसे ज्यादा पड़ा. एक महीने में कारोबारियों का 30 से 40 फीसद कारोबार होता है. जो इस साल काफी कम रहा, इससे कारोबारियों और स्टॉकिस्ट को बड़ा नुकसान हुआ.