टेरर फंडिंग : ईडी ने अलगाववादी नेता शब्बीर शाह के खिलाफ चार्जशीट दायर

दिल्ली.प्रवर्तन निदेशालय ने अलगाववादी नेता शब्बीर शाह से पूछताछ की है. रिपोर्ट के मुताबिक, उसने पाकिस्तान से कनेक्शन की जानकारी दी है. उसके खिलाफ कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल हो सकता है.पूछताछ में जानकारी मिली है कि जमात-उद-दावा प्रमुख और अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी हाफिज सईद से शब्बीर शाह के तार जुड़े हुए हैं.

हाफिज से आखिरी बातचीत इसी साल जनवरी में हुई थी.पूछताछ में जानकारी मिली है कि पाकिस्तान के हवाला ऑपरेटरों के जरिए शब्बीर के पास पैसे आते थे. आतंक के लिए हवाला से आए पैसों पर शब्बीर तीन प्रतिशत कमीशन देता था. इस पैसे का कुछ भाग वह अपने ऊपर खर्च करता था.

रिपोर्ट के मुताबिक, ईडी ने शब्बीर शाह से जुड़े 62 लाख रुपये भी जब्त किए हैं. बता दें कि शब्बीर शाह जम्मू कश्मीर डेमोक्रेटिक फ्रीडम पार्टी का नेता है. उसकी पार्टी का आईपी एड्रेस पाकिस्तान से मिला है. पार्टी का सूचना केंद्र सैटेलाइट टाऊन रावलपिंडी पाकिस्तान में है. वहीं, पार्टी का मुख्यालय शब्बीर शाह का श्रीनगर स्थित घर है.

इन पर आरोप है कि इन्हें कश्मीर में सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, स्कूलों और अन्य सरकारी संस्थानों को जलाने जैसे विध्वंसक गतिविधियों के लिए हाफिज सईद से पैसा मिलता है. सिक्युरिटी फोर्सेस पर पत्थर बरसाने के लिए हुर्रियत नेताओं को पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों और पाक खुफिया एजेंसी से फंडिंग होती है.

शब्बीर शाह के पास आय का कोई जरिया नही है. वह कोई आय़कर रिटर्न भी नहीं फाइल करता है. पार्टी के लिए चंदा केवल नकद में लिया जाता है औऱ कोई रसीद भी नहीं दी जाती है. बता दें कि असलम वानी ने शब्बीर शाह को पाकिस्तान से आए करोड़ों रुपये देने का खुलासा किया था.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कथित हवाला डीलर मोहम्मद असलम वानी को अरेस्ट किया था. पूछताछ में उसने बताया था कि शाह के पास 2.25 करोड़ रुपए पहुंचाए थे. इसके बाद ईडी ने शाह और वानी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत केस दर्ज किया था.

इसके बाद 25 जुलाई को शब्बीर को अरेस्ट कर लिया गया. उन्हें 2005 के एक मनी लॉन्ड्रिंग केस में अरेस्ट किया गया है. यह गिरफ्तारी ईडी के आदेश पर हुई थी. बाद में एजेंसी ने वानी को भी 6 अगस्त को अरेस्ट कर लिया था.