ट्विटर पर राहुल की लोकप्रियता को लेकर भाजपा-कांग्रेस में तकरार बढ़ी

नई दिल्ली. ट्विटर पर राहुल गांधी की लोकप्रियता को लेकर भाजपा एवं कांग्रेस के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया है. सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर सुझाव दिया कि रिट्वीट विदेश स्थित फर्जी एकांउटों से किए जाते हैं.

स्मृति ईरानी ने कहा, संभवत: आफिस आफ आरजी रूस, इंडोनेशिया अथवा कजाकिस्तान में चुनाव में सूपड़ा साफ करने की योजना बना रहा है? कजाक में राहुल की लहर.

उन्होंने इस ट्वीट के साथ मीडिया की एक खबर को टैग किया है. आफिस आफ आरजी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का आधिकारिक ट्विटर हैंडल है.

खबर में इस बात पर सवाल उठाया गया कि क्या राहुल के व्यापक रिट्वीट के पीछे स्वचालित बोट्स हैं. खबर के अनुसार 15 अक्तूबर को आफिस आफ आरजी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक ट्वीट को रिट्वीट किया था जिसमें अमेरिकी पाकिस्तानी संबंधों की सराहना की गई थी.

इसमें कहा गया था, मोदीजी, जल्दी करिए, ऐसा लगता है कि राष्ट्रपति ट्रंप एक और झप्पी चाहते हैं.यह ट्वीट जल्द ही 20 हजार बार रिट्वीट किया गया और खबर में दावा किया गया कि अब यह 30 हजार पर पहुंच गया है.

खबर के अनुसार इस ट्वीट का बारीकी से विश्लेषण करने पर पाया गया इसे रूसी, कजाक या इंडोनेशियाई विशेषताओं के साथ इसे कथित रूप से बूट्स किया गया. कांग्रेस उपाध्यक्ष के ट्वीट को नियमित तौर पर रिट्वीट किया जाता है.

कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य राजीव शुक्ला ने राहुल के बचाव में सामने आते हुए कहा कि सोशल मीडिया पूरे विश्व को जोड़ता है तथा रूस, कजाकस्तान एवं इंडोनेशिया से होने वाले रिट्वीट को अचरज के तौर पर नहीं लिया जाना चाहिए.
उन्होंने टीवी चैनलों से कहा, वे (भाजपा) राहुल गांधी एवं उसकी लोकप्रियता से घबराए हुए हैं.

केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर ने रिट्वीट किया, खेल में यह डोपिंग के तहत आएगा.अरे जरा रूकिए. क्या डोप से आपको कुछ याद आ रहा है.भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख अमित मालवीय ने एक टीवी समाचार चैनल से सवाल किया कि कांग्रेस को राहुल गांधी के लिए समर्थन खरीदना क्यों पड़ रहा है.

स्मृति ईरानी ने राज्यसभा सदस्य राजीव चंद्रशेखर सहित अन्य लोगों के ट्वीट को रिट्वीट किया. चंद्रशेखर ने ट्वीट किया, हताशा भरे समय में हताशापूर्ण उपायों की जरूरत पड़ती है.