‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के बैन की खबर पर बबीता ने दिया ये बयान

टीवी का पॉपुलर शो’ तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के बैन होने की खबर से सभी फैन्स को बड़ा झटका लगा है. दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ की, जो अपने एक सीन की वजह से विवादों में फंस गया है.सिख समुदाय ने इस धारावाहिक पर आरोप लगाया है कि इसमें गुरु गोविंद सिंह जी के जीवित स्वरुप को दिखाया गया है जोकि उनके धर्म के बिल्कुल खिलाफ है.

रिपोर्ट्स की मानें तो शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने ‘तारक मेहता…’ पर ‘ईशनिंदक’ सीन दिखाने का आरोप लगाते हुए इस शो पर बैन लगाने की मांग की. शो ने सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह के जीवित स्वरूप का चित्रण कर समुदाय को ठेस पहुंचाई और ऐसा करना सिख सिद्धांतों के खिलाफ है।कोई भी अभिनेता या कोई भी चरित्र खुद की दसवें सिख गुरु गोविंद सिंह के साथ समानता नहीं कर सकता. यह गलती माफ नहीं की जा सकती है.

इस खबर के बाद जब एंटरटेमेंट साइट बॉलीवुड लाइफ ने शो में बबीता का किरदार निभाने वालीं मुनमुन दत्ता ने इस बारे में अपनी बात रखी है. मुनमुन का कहना है कि उन्हें पहले इस बात के बारे में कुछ नहीं पता था।मुनमुन ने आगे कहा, गुरूचरण (जो शो में सोढ़ी का किरदार निभाते हैं) वो खुद सिख समुदाय से सम्बद्ध हैं वो खुद कुछ ऐसा नहीं कहते जिससे सिख समुदाय की भावनाएं आहत हो.

जिस सीन पर ये विवाद हुआ है उस सीक्वेंस की शूटिंग वाले दिन उन्होंने कहा था कि कोई भी गुरु गोविंद सिंह जी का रोल अदा करने की किसी को भी अनुमति नहीं है. इसके बाद उन्होंने खालसा के रोल को अदा किया और टीवी पर भी हमने यही दिखाया है.जो लोग आपत्ति जता रहे हैं उन्होंने उस एपिसोड को सही से नहीं देखा है.

मुनमुन आगे कहती हैं कि तारक मेहता का उल्टा चश्मा की ये खूबसूरती है कि इसमें हर संस्कृति और धर्म के लोग हैं. तो हम हमेशा इस बात का ध्यान रखते हैं कि कभी भी हमारे डायलॉग या एक्ट की वजह से किसी की भावनाएं ना आहत हो जाए.ये शो 9 साल से चल रहा है और लोग की शुभकामनाओं की वजह से ऐसा है. हम कभी नहीं चाहेंगे कि इसकी वजह से देश में किसी की भी भावना आहत हो.