देश के 14वें राष्ट्रपति ने शपथ ली


राष्ट्रपति कोविंद ने कहा हर नागरिक राष्ट्र निर्माता है

दिल्ली.नव निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने आज भारत के 14वें राष्ट्रपति के रुप में शपथ ली. इससे पहले आज शपथ ग्रहण से पहले कोविंद ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी इस दौरान उनकी पत्नी भी मौजूद थीं.सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस खेहर संसद के केंद्रीय हाल में उन्हें शपथ दिलाई.शपथ के बाद प्रणव मुखर्जी अपनी कुर्सी से उठे और रामनाथ कोविंद को अपनी कुर्सी पर बैठाया.प्रणब मुखर्जी, उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, स्पीकर सुमित्रा महाजन, पीएम नरेंद्र मोदी सहित मंत्रिमंडल और सांसदों के साथ गणमान्य लोगों की मौजूदगी में ये शपथग्रहण समारोह संपन्न हुआ.
इससे पहले, कोविंद ने मुखर्जी से राष्ट्रपति भवन के स्टडी रूम में मिले. मुखर्जी ने गुलदस्ता देकर कोविंद का स्वागत किया. राष्ट्रपति भवन पहुंचने से पहले कोविंद राजघाट भी गए. उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. उनके साथ पत्नी भी थीं। कोविंद के परिवार के सदस्य भी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए संसद भवन पहुंचे.
शपथ ग्रहण के बाद नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भाषण हिंदी में दिया. उन्होंने सेंट्रल हॉल में आने के बाद कहा उनकी सभी यादें ताजा हो गईं। कोविंद ने अपनी शुरुआती जिंदगी की चुनौतियों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि वह मिट्टी के घरों में पले हैं। कोविंद ने कहा कि खेतों में काम करने वाली महिलाएं, किसान, वैज्ञानिक, स्टार्टअप कारोबारी से लेकर सुरक्षाबलों तक राष्ट्र निर्माता हैं। राष्ट्रनिर्माण अकेले सरकारों द्वारा नहीं किया जा सकता है. हमें भारत की संस्कृति, परंपरा एवं अध्यात्म पर गर्व है. देश का हर नागरिक राष्ट्र निर्माता है. देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले सशस्त्र बल राष्ट्र निर्माता है. किसान, वैज्ञानिक राष्ट्रनिर्माता है. नर्स-डॉक्टर नौजवान राष्ट्रनिर्माता है.