नई दिल्ली: इधर भारत में अनुपम खेर पर भाजपा और नरेंद्र मोदी की अंधभक्ति के आरोप लग रहे हैं वहीँ पाकिसस्तान भी अब इस विवाद में शामिल हो गया है । पाकिस्तान उच्चायोग ने अनुपम खेर को वीज़ा देने से मना कर दिया है जिसपर अनुपम खेर ने कहा कि मुझे पाकिस्तान ने वीज़ा देने से इसलिए मना कर दिया है क्यूंकि वे अरसे से काश्मीरी पंडितों के हक़ में आवाज उठा रहे हैं । साथ ही अनुपम खेर ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करना भी वीज़ा न मिलना के एक वजह हो सकता है ।

Pakistan denies visa to anupam kher for kashmir standअनुपम खेर ने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता तो १८ आवेदकों में से १७ को वीज़ा मिल गया लेकिन सिर्फ उनका आवेदन रद्द कर दिया गया। अनुपम खेर ने कराची साहित्य सम्मेलन के अधिकारियों और उनके सहयोगी अशोक के बीच मेल पर की गई बातचीत के आधार पर पाकिस्तानी उच्चायोग के दावे को खारिज कर दिया।

गौरतलब है कि अनुपम खेर को पाकिस्तान में पांच फरवरी से शुरू होने वाले साहित्य सम्मलेन के लिए वीजा नहीं दिया गया है। इस मसले पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अनुपम खेर ने वो इ-मेल भी दिखाया जिसमें उन्हें पाकिस्तान साहित्य फेस्टिवल में शामिल होने के लिए बुलावे के तौर पर भेजा गया गया था । उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में इस सम्मलेन के आयोजकों ने प्रचार के पोस्टरों में उनकी तस्वीरें भी लगाएं हैं और उनके लिए होटल में कमरा भी बुक करवाया गया था । अनुपम खेर ने कहा कि पाकिस्तान से अच्छे संबंधों के लिए शुरू किए गए प्रयास के नाते मैं वहां जाना चाहता था।

यह भी पढ़िए  जाट आरक्षण को लेकर बुरी फंसी भाजपा, सांप छछूंदर वाली स्थिति

वहीँ पाकिस्तान के इस लिट-फेस्ट की आयोजक अमीना सैय्यद ने इस मसले पर अफ़सोस जताया है।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
सरिता महर
हेल्लो दोस्तों! मेरा नाम सरिता महर है और मैं रिलेशनशिप तथा रोचक तथ्यों पर आप सब के लिए मजेदार लेख लिखती हूँ. कृपया अपने सुझाव मुझे हिंदी वार्ता के माध्यम से भेजें. अच्छे लेखों को दिल खोल कर शेयर करना मत भूलना