बेटियां…

दुआ करते हैं बेटे की और ,
हो जाती हैं बेटियां,
बड़ी जीवट होती हैं ये,
यूं ही पल जाती हैं बेटियां|

चौका बर्तन करती,घर में,

पढ़ लिख जाती है बेटियां,
सु ख सुविधाएँ बेटों को ,
पर आगे निकल जाती हैं बेटियां |
जन्मदायिनी हैं फिर भी,
मारी जाती हैं बेटियां ,
कभी लालच कभी वासना की,
बलि चढ़ जाती हैं बेटियां |रुलाते हैं जब बेटे ,,
आंसू पोछती हैं बेटियां,
नफरत पाकर भी,
सिर्फ प्यार लुटाती हैं बेटियां|कडककड़ाती ठण्ड में,
सुहानी धूप होती हैं बेटियां ,
मानो या न मानो ,
भगवान् का वरदान होती है बेटियां …
~ ममता जोशी