रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर सी. रंगराजन की राय,अर्थ व्यवस्था को सरकार पटरी पर लाए

दिल्ली. पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा और आरएसएस प्रमुख मोहन भगवत के बाद रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर सी. रंगराजन ने आने वाले महीनों में अर्थव्यवस्था में मजबूती की उम्मीद जताते हुए कहा कि बेहतर सालाना वृद्धि दर को बरकरार रखने के लिए अर्थव्यवस्था को तेजी से पटरी पर लाने की जरूरत है.

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर सी रंगराजन ने आने वाले महीनों में अर्थव्यस्था में मजबूती की उम्मीद जताते हुए आज कहा कि बेहतर सालाना वृद्धि दर को बरकार रखने के लिये अर्थव्यवस्था को तेजी से पटरी पर लाने की जरूरत है.उन्होंने यह भी कहा कि वृद्धि दर को बढ़ाने के लिए सरकार को त्वरित उपाय करने की जरूरत है.

रंगराजन ने कहा कि अर्थव्यवस्था की “वास्तविक तेजी” के लिये सरकार को त्वरित कदम उठाने की जरुरत है. उन्होंने अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिये सभी व्यावहारिक परियोजनाओं के पुनरुद्धार, बैंकों के पुनर्पूंजीकरण और उच्च कॉर्पोरेट निवेश के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने का सुझाव दिया है.

एक कार्यक्रम से इतर रंगराजन ने कहा,कुछ मायनों में कहा जा सकता है कि अर्थव्यवस्था अब गिरावट से उबर रही है, क्योंकि दो तिमाही के लिये वृद्धि दर 5.7 प्रतिशत पर बनी हुयी है.उन्होंने यह भी कहा कि वृद्धि दर को बढ़ाने के लिये सरकार को त्वरित उपाय करने की जरुरत है.

उन्होंने कहा कि जीएसटी को लेकर समस्याएं खत्म हो सकती हैं. साथ ही नयी मुद्रा आने से नोटबंदी का कुछ प्रभाव भी बेअसर हुआ है. इसलिये अर्थव्यवस्था ऊपर आ सकती है, लेकिन इसे बहुत तेजी से ऊपर लाने की जरुरत है.”

रंगराजन ने कहा कि पूरे वर्ष में 6.5 प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल करने के लिये बाकी बची तीनों तिमाहियों में अर्थव्यवस्था का सात प्रतिशत की दर से बढ़ना जरूरी है. पहली तिमाही में वृद्धि दर 5.7 प्रतिशत थी और पूरे साल के लिये 6.5