लालू की महारैली में दिखी ‘विपक्ष’ की ताकत, तेजस्वी को मिली नई राह

Advertisement

 पटना.बीजेपी के खिलाफ लड़ाई में सभी विपक्षी दलों को साथ लेकर पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रविवार को आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने महारैली का आयोजन कर  विपक्षी ताक़त दिखा दी. वहीँ राजनितिक पंडितों का मानना है कि इस महारैली ने लालू के बेटे को राजनीति में स्थापित कर दिया है और उसे आगे बढ़ने के लिए नई राह मिल गई है.

रैली में पांच पूर्व मुख्यमंत्री- लालू प्रसाद, राबड़ी देवी, हेमंत सोरेन, बाबूलाल मरांडी और अखिलेश यादव मौजूद थे. साथ ही पश्चिम बंगाल की मौजूदा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी रैली में शामिल हुईं.इसके अलावा कांग्रेस, डीएमके, आरएलडी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, जनता दल(एस) और वाम दलों के प्रतिनिधियों ने आरजेडी की इस महारैली में भाग लिया.

Advertisement

लालू यादव ने अपने समर्थकों का आह्वान करते हुए उन्हें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के असली चेहरे को बेनकाब करने के साथ ही नीतीश और बीजेपी को जनादेश की धज्जियां उड़ाने पर सबक सिखाने के लिए कहा.लालू ने कहा  ‘मैं हमेशा से जानता था कि नीतीश कुमार के पास कोई नैतिकता और सिद्धांत नहीं है. लेकिन बीजेपी को दूर रखने के लिए मैंने नीतीश को समर्थन देने का फैसला लिया. वो मेरे बेटे और उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की बढ़ती लोकप्रियता से सहज नहीं थे.’

Advertisement