शेर

टूटा हुआ वजूद है कुछ इस तरह मेरा
चुप हो गया हूँ खुद से अदावत* किये बगैर

साजिद असग़र

*दुश्मनी