सौभाग्य योजना से 2019 तक हर घर होगा रौशन

नयी दिल्ली.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में सभी घरों तक बिजली पहुंचाने के लिये सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) का सोमवार को शुभारम्भ किया. मार्च 2019 तक सभी घरों को बिजली उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है.

दिल्ली में ओएनजीसी के नये कार्पोरेट कार्यालय भवन दीनदयाल ऊर्जा भवन के एक कार्यक्रम में योजना का शुभारम्भ किया.योजना के तहत गरीब परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा.

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विचारक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के मौके पर शुरू की गई . बिजली मंत्री आर के सिंह ने योजना के बारे में बताया कि इसके तहत दिसंबर 2018 तक सभी घरों को बिजली उपलब्ध करा दी जाएगी.

उन्होंने कहा कि सभी घरों को बिजली पहुंचाने के लिये प्री-पेड मॉडल अपनाया जाएगा. जिस गांव में अब तक बिजली नहीं पहुंची है, वहां तय समय से पहले दिसंबर 2017 तक बिजली पहुंचा दी जाएगी. बिजली से वंचित 18,452 गांवों को बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा था.

योजना से 14,483 गांवों को बिजली पहुंचा दी गयी है जबकि 2981 में अभी बिजली पहुँचाना बाक़ी है.प्रधानमंत्री मोदी ने योजना की शुरुआत करते हुए कहा, पिछले वर्ष आज ही के दिन सरकार ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के जन्मशती वर्ष के मौके पर गरीब कल्याण वर्ष का आरंभ किया था.

मोदी ने कहा, जनधन योजना से स्वच्छ भारत अभियान तक, उज्जवला से मुद्रा तक, स्टार्ट अप इंडिया से स्टैंड अप इंडिया तक, उजाला से उड़ान तक आपको सिर्फ गरीबों का कल्याण ही दिखेगा.

पीएम मोदी ने आगे कहा, किसने सोचा था, ऐसी भी सरकार आयेगी जो 30 करोड़ गरीबों के बैंक खाते खुलवाएगी, जो 1 रुपये महीने और 90 पैसे प्रतिदिन के प्रीमियम पर गरीबों को बीमा उपलब्ध कराएगी और जो बिना बैंक गारंटी के कर्ज देगी.

मोदी ने कहा, आज नवरात्रि का पांचवां दिन है और इस दिन स्कंद माता की पूजा की जाती है. पिछले वर्ष आज के ही दिन हमने गरीब कल्याण वर्ष शुरू किया था और आज सौभाग्य योजना की शुरुआत हो रही है.

क्या है सौभाग्य योजना: हर घर में बिजली पहुंचायी जाएगी और गरीबों के मुफ्त में बिजली का कनेक्शन दिया जाएगा. ये फ्री बिजली उन गरीबों को मिलेगी जिनका समाजिक-आर्थिक जनगणना में नाम दर्ज होगा.जिन गरीबों का नाम जनगणना में दर्ज नहीं होगा उन्हें इसके लिए 500 रुपये देने होंगे जो वे 10 किस्तों में दे सकते हैं.