मुंबई: 1993 मुंबई सीरियल बम विस्फोट के लिए सलेम और अन्य छह अभियुक्तों को पहले मुकदमे के अंत में गिरफ्तार किया गया था, इसलिए अदालत ने आदेश दिया कि उनका मुकदमा अलग से चलाया जाए। जिसकी फाइनल तारीख आज है और पूरा देश मानता है कि सभी आरोपिओ को आज फांसी कि सजा मिलेगी|

टाडा अदालत ने विशेष आतंकवाद और विघटनकारी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत शुक्रवार को 1993 के मुंबई के सीरियल बम धमाकों के लिए सात आरोपी के खिलाफ फैसला किया, जिसमें 257 लोग मारे गए थे और 713 घायल हुए थे। आरोपी – मुस्तफा डोसा, अबू सलेम, फिरोज अब्दुल रशीद खान, ताहिर मर्चेंट, रियाज सिद्दीकी, अब्दुल कय्यूम शेख और करीमुल्लाह खान – भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने और भारतीय दंड संहिता के तहत हत्या करने, और भारतीय विस्फोटक अधिनियम और विस्फोटक के प्रासंगिक अनुभागों के तहत आपराधिक साजिश सहित आरोपों का सामना करने के लिए अपना फैसला सुनाया|

सातो आरोपिओ ने बम धमाकों के लिए अपने दूसरे समूह के लोगो का इस्तेमाल किया, जिनको 2003 से 2010 के बीच गिरफ्तार किया गया था। चूंकि सलेम और अन्य छह अभियुक्तों को पहले मुकदमे के अंत में गिरफ्तार किया गया था, इसलिए अदालत ने आदेश दिया कि उन्हें अलग से मुकदमा चलाया जाए।

1993 मुंबई मे हुए सीरियल ब्लास्ट पर आज टाडा अदालत अपना फैसला सुनाएगी

सीबीआई का दावा, कहा ये पूरा षड़यंत्र हिंसा और आपसी रंजिश बढ़ाने के मकसद से हुआ था

सीबीआई की रिपोर्ट के अनुसार बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद, मुंबई सहित देश के विभिन्न हिस्सों में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी। अभियुक्त, जिनमें से ज्यादातर सक्रिय संगठित अपराध सिंडिकेट के सदस्य थे, विध्वंस के लिए ‘बदला’ और बाद के दंगों का आयोजन किया था। दाऊद इब्राहिम और इब्राहिम मुश्ताक अब्दुल रजाक मेमन (टाइगर मेमन) के नेतृत्व में 31 लोगो के साथ मिलकर इस पूरे घटना को अंजाम तक पहुंचाया |

सीबीआई का दावा है कि साजिश का उद्देश्य ‘लोगों में आतंक फैलाना’ और भारतीय समाज के विभिन्न वर्गों के बीच ‘सद्भाव पर प्रतिकूल प्रभाव डालना’ था और मुस्तफा ने सीरियल बम विस्फोटों के लिए हथियार, गोला-बारूद और विस्फोटक की तस्करी की थी – सीबीआई के लिए, दुनिया में इतना बड़ा पहली बार आतंकवादी हमला था जिसमें द्वितीय विश्व युद्ध के बाद आरडीएक्स का इस्तेमाल किया गया था।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Pankaj Sharma
देश की राजनीति से जुडी ख़बरों पर कड़ी नजर रखते हैं. फिल्में देखने का है शौक. नयी जगहों पर घूमना अत्याधिक पसंद