Advertisement

अपने CIBIL स्कोर को बेहतर बनाने के लिए 9 सुझाव

List of Topics

अपने CIBIL स्कोर को बेहतर बनाने के लिए 9 सुझाव

एक अच्छा क्रेडिट स्कोर (credit score) होना बहुत जरूरी है यानी CIBIL स्कोर क्योंकि यह किसी के वित्तीय जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सबसे बड़ा प्रभाव यह है कि आप भारत में अधिकांश वित्तीय संस्थानों या बैंकों से खराब CIBIL स्कोर के साथ ऋण (loan) नहीं ले सकते हैं। और आज के हालात में आपके घर, कार खरीदने, उच्च शिक्षा या यहां तक कि छोटे व्यवसाय ऋण (loan) के लिए क्रेडिट कार्ड (credit card) या ऋण (loan) के बिना जीवित रहना बहुत मुश्किल है। अब जब आप CIBIL स्कोर के महत्व को जानते हैं, तो यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं कि अपने CIBIL स्कोर को कैसे सुधारें।

Advertisement

उन सभी के लिए जो क्रेडिट स्कोर (credit score) के बारे में नहीं जानते हैं – यह एक व्यक्ति के वित्तीय ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर क्रेडिट ब्यूरो द्वारा दिया जाने वाला स्कोर है। वित्तीय ट्रैक रिकॉर्ड से हमारा मतलब है कि यदि आप समय पर अपने सभी ईएमआई का भुगतान कर रहे हैं, तो आप अपने क्रेडिट कार्ड (credit card) का उपयोग कैसे कर रहे हैं, आपके पास ऋण (loan) कितना हो सकता है, क्या आप हाल ही में कई उधारदाताओं से ऋण (loan) की खोज कर रहे हैं। ये सभी कारक आपके क्रेडिट स्कोर (credit score) की गणना में शामिल होते हैं।

क्रेडिट स्कोर (credit score) और CIBIL स्कोर के बीच अंतर

लोग अक्सर क्रेडिट स्कोर (credit score) और CIBIL स्कोर के बीच भ्रमित हो जाते हैं। क्रेडिट स्कोर (credit score) ही सही शब्द है क्योंकि इसका मतलब है कि आपकी साख की भविष्यवाणी करने के लिए दिया गया स्कोर – आप अपने भविष्य के ऋण (loan) या ईएमआई का भुगतान करने की कितनी संभावना रखते हैं?। वहीं CIBIL स्कोर उन 4 क्रेडिट स्कोर (credit score) में से एक है जो भारत में विभिन्न संस्थानों द्वारा बनाए जाते हैं। चूंकि CIBIL कवरेज के मामले में सबसे पुराना और सबसे बड़ा है, इसलिए लोग CIBIL स्कोर को ही क्रेडिट स्कोर (credit score) मान लिया करते हैं।

Advertisement

भारत में 4 क्रेडिट ब्यूरो हैं: ट्रांसयूनियन CIBIL, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और CRIF हाईमार्क।

CIBIL स्कोर का क्या अर्थ है?

CIBIL का पूरा रूप क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो (इंडिया) लिमिटेड है। जैसा कि पहले कहा गया है, यह उच्चतम कवरेज वाला भारत का सबसे पुराना क्रेडिट ब्यूरो है और इसलिए CIBIL स्कोर के बारे में सबसे अधिक बात की जाती है। CIBIL स्कोर 300 से 900 तक भिन्न होता है – जितना अधिक स्कोर उतना ही बेहतर होता है। यह स्कोर भविष्य के ऋण (loan) के लिए आपकी साख को इंगित करता है जिसके आधार पर आप उधार लेते हैं। CIBIL स्कोर उन प्रमुख कारकों में से एक है जो यह तय करते हैं कि क्या आप ऋण (loan) प्राप्त कर सकते हैं और यदि हाँ, तो कितना?

Advertisement

एक अध्ययन के अनुसार स्वीकृत होने वाले कुल ऋणों का लगभग 58 % भाग 800 या उससे अधिक के CIBIL स्कोर वाले लोगों को मिले लोन का  है।  750 से अधिक स्कोर वाले लोगों को 80% ऋण (loan) जारी किए गए हैंऔर 700 या अधिक के CIBIL स्कोर वाले लोगों को 90% ऋण (loan)। ध्यान देने वाली बात यह है कि 10% से कम स्वीकृत ऋण (loan) खराब स्कोर वाले लोगों को दिए गए हैं, हालांकि खराब CIBIL score पर ऋण मिलना बहुत मुश्किल होगा और आपको गारंटर खोजने आदि जैसी कई अतिरिक्त औपचारिकताएं करनी पड़ सकती हैं।

750 या अधिक का CIBIL स्कोर आपको वित्तीय संस्थानों में अधिकांश ऋणों के लिए योग्य बना देगा। साथ ही कम स्कोर आपके ऋण (loan) को अधिक महंगा बना सकता है या आपकी ऋण (loan) प्रपट करने की पात्रता को कम कर सकता है या कुछ खास तरह के ऋण (loan) के लिए अयोग्य बना सकता है। अच्छी बात यह है कि आप इस स्कोर में सुधार कर सकते हैं। लेकिन पहले ये समझना जरूरी है कि कुछ लोगों का क्रेडिट स्कोर (credit score) खराब क्यों होता है?

खराब क्रेडिट स्कोर (credit score) क्यों होता है?

क्रेडिट स्कोर (credit score) भविष्य के ऋणों को चुकाने की आपकी संभावनाओं और लोन चुकाने के संभावित व्यवहार का एक संकेत है। क्रेडिट ब्यूरो इस स्कोर पर आने के लिए आपके पिछले ऋण के पुनर्भुगतान और आपसे संबन्धित अन्य वित्तीय जानकारी का उपयोग करता है। एक खराब स्कोर का आम तौर पर मतलब है, आप मौजूदा ऋण (loan) या क्रेडिट कार्ड (credit card) के बिलों को चुकाने में सतर्क नहीं रहे हैं। खराब क्रेडिट स्कोर (credit score) के कुछ और कारण यहां दिए गए हैं:

Advertisement

1. मिस किए गए (missing) पुनर्भुगतान (repayments) / ईएमआई या क्रेडिट कार्ड (credit card) भुगतान – लोगों का क्रेडिट स्कोर (credit score) खराब होने का यह प्रमुख कारण है। यदि आपने अतीत में अपने ईएमआई भुगतान या क्रेडिट कार्ड (credit card) बकाया को miss किया है, तो आपके CIBIL स्कोर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यदि आप कुछ लगातार ईएमआई को miss करते हैं या अक्सर बीच बीच में ऐसा करते हैं, तो यह आपके स्कोर पर और भी अधिक प्रतिकूल प्रभाव डालेगा।

दरअसल आपका ऐसा करना दो बातों की तरफ इशारा करता है – 1. या तो आप अक्सर नकदी की कमी का सामना करते हैं या 2. आप जानबूझ कर (आदतन) डिफाल्ट करते हैं। दोनों ही स्थितियों में आप लोन देना बैंक या वित्तीय संस्थानों के लिए जोखिम से भरा है।

2. क्रेडिट कार्ड (credit card) की सीमा से अधिक खर्च करना या उच्च उपयोग अनुपात –क्रेडिट कार्ड (credit card) उपयोग अनुपात आपके क्रेडिट कार्ड के बैलेन्स और आपके खर्च का ratio होता है। उदाहरण के लिए यदि आपके पास 1 लाख रुपये की क्रेडिट कार्ड (credit card) लाइन है और आपने बिलिंग चक्र में 10,000 रुपये खर्च किए हैं तो आपका क्रेडिट उपयोग अनुपात 10% ( 10,000 / 1,00,00 ) है। लेनदारों द्वारा एक उच्च उपयोग अनुपात को CIBIL की दृष्टि से नकारात्मक माना जाता है। यदि आप अपने कार्ड में उपलब्ध क्रेडिट सीमा से भी अधिक खर्च करते हैं, तो यह आपके क्रेडिट स्कोर (credit score) पर और भी अधिक नकारात्मक प्रभाव डालेगा।

3. असुरक्षित ऋणों का उच्च अनुपात – सुरक्षित ऋण (secured loan) वह है जो होम लोन, कार ऋण (loan) आदि जैसी परिसंपत्तियों के लिए लिया गया है। व्यक्तिगत ऋण (loan) , क्रेडिट कार्ड (credit card) जैसे ऋण असुरक्षित ऋण (unsecured loan) हैं क्योंकि आपने बैंक को इन ऋणों के बदले कुछ भी बंधक नहीं रखा है। असुरक्षित ऋण का एक उच्च अनुपात आपके स्कोर को नुकसान पहुंचा सकता है।

4. बार बार या कई तरह के ऋणों के लिए आवेदन करना – हर बार जब आप ऋण (loan) के लिए आवेदन करते हैं, तो बैंक या वित्तीय संस्थान क्रेडिट ब्यूरो से आपके क्रेडिट स्कोर (credit score) के बारे में जांच पड़ताल करता है। यदि आपने बहुत कम समय में कई ऋणों के लिए आवेदन किया है, तो यह आपको “क्रेडिट हंगरी credit hungry” व्यक्ति बना देता है यानी ऐसा व्यक्ति जिसकी आर्थिक स्थिति इतनी खराब है कि वह कम समय में बहुत सारे ऋणों की तलाश कर रहा है।

5. क्रेडिट स्कोर में गलतियां – कई बार क्रेडिट स्कोर बनाने वाले संस्तहनों की त्रुटियों के कारण भी आपका क्रेडिट स्कोर खराब हो सकता है। दरअसल इन संस्थानों का एक बड़ा डेटाबेस सैकड़ों कंपनियों और बैंकों के साथ अपने लाखों करोड़ों ग्राहकों के बारे में हर रोज डेटा share करता है। कम्प्युटर सिस्टम की समस्याओं या मैनुअल डेटा प्रविष्टि में मानवीय त्रुटियां भी हो सकती हैं। ऐसा हो सकता है कि आप तो नियमित रूप से अपने ईएमआई का भुगतान कर रहे हों लेकिन बैंक ने इसे अपडेट नहीं किया है। या फिर आपकी प्रोफ़ाइल में भूलवश कोई गलत क्रेडिट कार्ड (credit card) या ऋण (loan) जोड़ दिया हो। आपकी कोई गलती न होने पर भी ये आपके क्रेडिट स्कोर को नीचे खींच सकते हैं।

Advertisement

अपने CIBIL स्कोर को कैसे सुधारें?

अब जब हम खराब क्रेडिट स्कोर (credit score) के प्रमुख कारणों को जान चुके हैं, तो उसे सुधारने के तरीकों को भी समझते हैं। कृपया समझें कि चूंकि क्रेडिट स्कोर (credit score) भुगतान और अन्य वित्तीय जानकारी को काफी लंबी अवधि तक मॉनिटर करके बनता है तो यह भी संभव है कि अपनी वित्तीय आदतों को बदल कर स्कोर को धीरे-धीरे बेहतर बनाया जा सकता है। नीचे कुछ चीजें हैं जो आपको करनी चाहिए:

किसी भी त्रुटि के लिए क्रेडिट रिपोर्ट की जाँच करें

क्रेडिट रिपोर्ट में त्रुटियां होना कोई नई बात नहीं हैं। सबसे पहले अपनी क्रेडिट रिपोर्ट ऑर्डर कीजिये, फिर उस रिपोर्ट को किसी ऐसे ऋण (loan) के लिए स्कैन करें जिसे आपने कभी लिया ही नहीं। यह भी देखिये कि ऋण देने वाले बैंक आदि ने आपके द्वारा लिए गए ऋण (loan) के बारे में कोई गलत रिपोर्ट तो नहीं भेजी है।

भले ही आपने नियमित रूप से भुगतान किया हो, लेकिन यह संभव है कि आपके कुछ repayments को बैंक ने रिपोर्ट में दर्शाया न हो या इसी तरह कि कोई और गलती। ऐसी सभी गलतियों को अपने उधार देने वाले संस्थान और CIBIL से संपर्क कर ठीक करवाएं।

Advertisement

अपने ईएमआई और क्रेडिट कार्ड (credit card) का नियमित भुगतान करें

जैसा कि पहले कहा गया था कि पिछले ऋणों का नियमित भुगतान आपके क्रेडिट स्कोर (credit score) में सबसे महत्वपूर्ण योगदान करता है तो अब से सुनिश्चित करें कि आप एक भी भुगतान को मिस नहीं करेगें। आप बिलों और ईएमआई का भुगतान करने के लिए बैंकों द्वारा प्रदान की गई ऑटो-डेबिट सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।

अपने क्रेडिट कार्ड (credit card) का उपयोग कम रखें

यह क्रेडिट कार्ड (credit card) पर आपकी उपलब्ध क्रेडिट सीमा से कम खर्च करना धीरे-धीरे आपका क्रेडिट स्कोर सुधारने में मदद करता है। अपना उपयोग कम रखें और अपने क्रेडिट कार्ड (credit card) पर अपनी क्रेडिट सीमा को कभी भी पार न करें। यदि आप बहुत ही ख़र्चीले हैं तो अपने खर्च के अनुसार आप अपने कार्ड की क्रेडिट सीमा बढ़ाने के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

आप बीच में ही पार्ट पेमेंट भी कर सकते हैं – यह आपके क्रेडिट कार्ड उपयोग को कम रिपोर्ट करेगा।

उदाहरण के लिए। आपके पास 1 लाख रुपये की क्रेडिट सीमा है और आपने इस महीने 80,000 रुपये खर्च किए हैं, जिससे 80% का उपयोग होता है। इस संख्या को कम करने के लिए आप बिल उत्पन्न होने से पहले 50,000 रुपये का भुगतान कर सकते हैं, इससे आपका शेष राशि 30,000 रुपये तक कम हो जाएगी। इसका मतलब है कि बिल बनाते समय क्रेडिट ब्यूरो केवल 30% का उपयोग अनुपात देखेगा। याद रखें, रिपोर्टिंग बिल पर होती है न कि आप अपने बिल साइकल के बीच में क्या करते हैं।

अपने क्रेडिट कार्ड को कैन्सल न करें

स्कोर में सुधार के लिए अपने क्रेडिट कार्ड (credit card) को रद्द करने के लिए कई लोग सलाह देते हैं पर यह सही नहीं है। क्रेडिट कार्ड को बनाए रखना बेहतर है क्योंकि यह आपकी टोटल क्रेडिट लिमिट बढ़ाता है और क्रेडिट कार्ड (credit card) पर आपके खर्च का कुल उपयोग अनुपात कम रखता है, यानी क्रेडिट कार्ड को बनाए रखने से आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी और सुरक्शित दिख रही है। हाँ, यदि आपके पास 3 से अधिक कार्ड हैं तो फिर एक्स्ट्रा कार्ड रद्द करना ही बेहतर होगा।

अपने असुरक्षित ऋणों का भुगतान करें

असुरक्षित ऋणों का अर्थ है ऋण (loan) जहां आपने उधार लेने के लिए कुछ भी गिरवी नहीं रखा है। व्यक्तिगत ऋण (loan) , क्रेडिट कार्ड (credit card) खर्च असुरक्षित ऋण (loan) के कुछ प्रकार हैं। इसलिए, यदि आपके पास व्यक्तिगत ऋण (loan) या बकाया क्रेडिट कार्ड (credit card) हैं तो या तो उन्हें बंद कर दें या उनका पूर्व भुगतान (prepayment) कर दें।

कम से कम ऋण या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करें

लॉन्च किए गए हर नए क्रेडिट कार्ड (credit card) के लिए आपको आवेदन करने का प्रलोभन दिया जा सकता है। लेकिन यह आपके स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। ऋण / क्रेडिट कार्ड के लिए तभी आवेदन करें जब आपको आवश्यकता हो और इसके लिए कुछ प्रतिष्ठित बैंक या संस्थानों में ही अपने आवेदन सीमित रखें।

जहां आपने संयुक्त ऋण (joint loan) लिया है या जहां आप किसी के लोन के गारंटर है, वहाँ नियमित भुगतान का विशेष ध्यान रखें

क्या आपने संयुक्त ऋण (loan) लिया है? ईएमआई में एक डिफ़ॉल्ट का सभी उधार लेने वालों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यही बात उन ऋणों पर भी लागू होती है जहां आप गारंटर हैं। एक गारंटर के रूप में आप मूल उधार मांगने वाले बदले कानूनी रूप से भुगतान करने के लिए सहमत हुए हैं।

इसलिए हमेशा उन ऋणों को चेक करते रहें जो आपके पास संयुक्त रूप से हैं या जहाँ आप गारंटर हैं। खास कर गारंटर बनने के लिए बहुत सतर्क रहें – यही माने कि लोन आप ही ले रहे हैं और तभी गारंटी दें।

फिक्स्ड डिपॉजिट क्रेडिट कार्ड (credit card) प्राप्त करें

यदि आपके पास CIBIL स्कोर खराब है, तो इसकी संभावना कम ही है कि आपको क्रेडिट कार्ड या कोई अन्य ऋण (loan) मिलेगा। लेकिन आप फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) द्वारा समर्थित क्रेडिट कार्ड (credit card) के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऐसा करके आपको ऋण मिल सकता है और फिर उस ऋण का नियमित भुगतान करके आप अपने क्रेडिट स्कोर को सुधार सकते हैं।

क्रेडिट रिपेयर कंपनी से दूर रहें

यदि कोई दावा करता है कि वे तुरंत आपके क्रेडिट स्कोर (credit score) में सुधार कर सकते हैं तो उनसे दूर रहें। ज्यादातर मामलों में क्रेडिट रिपेयर कंपनी की सेवाएँ लेने से क्रेडिट स्कोर सुधारने में मदद नहीं मिलती। हालाँकि, यदि आप ओवर-डेट (over debt) की स्थिति में हैं तो आप ऋण परामर्श केंद्रों (loan advisory center) से संपर्क कर सकते हैं।

साथ ही जैसे-जैसे आपके क्रेडिट इतिहास की अवधि बढ़ती है, यह क्रेडिट स्कोर (credit score) पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। इसलिए अगर आप अपना क्रेडिट स्कोर सुधारणा चाहते हैं तो क्रेडिट कार्ड (credit card) जल्दी प्राप्त करें और नियमित भुगतान करते हुए एक दीर्घ अवधि में एक बेहतरीन क्रेडिट स्कोर (credit score) बनाने के लिए इसका सावधानीपूर्वक उपयोग करें। इसका सबसे ज्यादा फ़ायदा आपको घर या कार जैसी महंगी खरीद के लिए उधार लेते वक़्त होगा और आप आपके हजारों रुपये बचा पाएंगे।

अपने CIBIL स्कोर को सुधारने में कितना समय लगता है?

दरअसल आप अपने क्रेडिट स्कोर में सुधार नहीं करते बल्कि अपने क्रेडिट इतिहास दुबारा बना रहे हैं। जैसे जैसे आपकी credit history बेहतर होती जाती है, आपका क्रेडिट स्कोर भी बेहतर होता जाता है। रही बात समय की तो यह इस पर निर्भर करता है कि आपका स्कोर खराब किस कारण से हुआ? उदाहरण के लिए सिर्फ एक मिस हुए भुगतान का बहुत कम प्रभाव पड़ेगा और स्कोर जल्द सुधर जाएगा। लेकिन लगातार मिस हुए भुगतानों का गंभीर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और इसलिए स्कोर को बेहतर बनाने में लगने वाला समय भी अधिक होगा ।

ज्यादातर मामलों में सात साल तक आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में नकारात्मक प्रविष्टियाँ रहती हैं। किन्तु यदि खराब CIBIL स्कोर बैंक की त्रुटि के कारण था, तो बैंक द्वारा त्रुटि को ठीक किए जाने के 30 दिनों के भीतर स्कोर में सुधार हो जाता है।

तो क्रेडिट स्कोर में रातोंरात सुधार नहीं होता है और समय लगता है – इसलिए धैर्य रखें, अपनी वित्तीय आदत में सुधार करें और आप देखेंगे कि स्कोर अपने आप ही धीरे-धीरे पहले से बेहतर हो रहा है।

क्या खराब CIBIL स्कोर का मतलब मुझे ऋण कतई नहीं मिल सकता?

यह जानना महत्वपूर्ण है कि क्रेडिट स्कोर केवल एक मानदंड है । इसलिए यदि आपका ऋण एक बैंक द्वारा अस्वीकार कर दिया जाता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि कोई और आपको ऋण नहीं देगा । बड़े बैंक आमतौर पर कम रिस्क लेना पसंद करते हैं जबकि छोटे NBFC अधिक जोखिम लेते हैं। यदि आप बैंकों से ऋण लेने में सफल नहीं हो पाते हैं तो आप छोटे NBFC से लोन पाने की कोशिश कर सकते हैं ।

आपको ऋण अस्वीकृति (loan rejection) का सामना इसलिए भी करना पड़ सकता है क्योंकि आप क्रेडिट के लिए बहुत नए हो सकते हैं । इसका मतलब है कि आपने पहली बार ऋण के लिए आवेदन किया है और इसलिए ब्यूरो के पास आपका कोई क्रेडिट स्कोर नहीं है । इसलिए क्रेडिट कार्ड प्राप्त करना और कामकाजी जीवन में इसे विवेकपूर्ण तरीके से उपयोग करना बहुत ही उपयोगी है.

क्या आप कम CIBIL स्कोर के साथ व्यक्तिगत ऋण प्राप्त कर सकते हैं?

जैसा कि हमने उल्लेख किया है, खराब CIBIL स्कोर आपके लिए चीजों को मुश्किल तो बनाता है लेकिन किसी भी प्रकार का ऋण प्राप्त करना असंभव नहीं है । कुछ बैंक या NBFC पहले के डिफॉल्टरों या खराब CIBIL स्कोर वाले लोगों को व्यक्तिगत ऋण दे सकते हैं अगर उनके पास बहुत अधिक आय है और वे अपेक्षाकृत कम राशि के ऋण के लिए आवेदन कर रहे हैं । या फिर वे उच्च क्रेडिट स्कोर वाले किसी व्यक्ति के साथ संयुक्त रूप से उधार लेते हैं या यदि उच्च CIBIL स्कोर वाला व्यक्ति गारंटी देता है, तो उन्हें ऋण भी मिल सकता है ।

दूसरा तरीका यह होगा कि व्यक्ति बैंक को पहले डिफ़ॉल्ट का कारण बता सकता है और इस आधार पर बैंक मामले पर विचार कर सकता है। लेकिन ज्यादा संभावना इस बात की है कि आपको NBFC या छोटे बैंकों से उच्च ब्याज दर पर ऋण मिलेगा।

मैं CIBIL के बिना ऋण कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

आज के समय में CIBIL स्कोर के बिना ऋण प्राप्त करना मुश्किल है लेकिन असंभव नहीं है । आप निम्नलिखित कर सकते हैं:

1 . उच्च क्रेडिट स्कोर वाले किसी व्यक्ति के साथ संयुक्त रूप से उधार लें.

2 . अपने ऋण के लिए एक गारंटर प्राप्त करें

3 . घर, कार, शेयर, म्यूचुअल फंड या सोना जैसी अपनी संपत्ति को गिरवी रख कर लोन ले सकते हैं।

4 . लोन के वैकल्पिक स्रोतों की कोशिश करें – Peer to Peer platforms या नए युग के ऐप्स पर उधार लें जो CIBIL स्कोर को लोन देने के लिए इस्तेमाल नहीं करते हैं।

क्या आप CIBIL चेक के बिना क्रेडिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं?

सभी बैंक क्रेडिट कार्ड जारी करने से पहले आपके क्रेडिट स्कोर की जांच करेंगे । हालाँकि यदि आपके पास CIBIL स्कोर खराब है, तो आप FD के आधार पर क्रेडिट कार्ड का विकल्प चुन सकते हैं । यहां बैंक आपकी FD राशि का 90% तक क्रेडिट कार्ड प्रदान करेगा।

एक खराब CIBIL स्कोर क्या है?

CIBIL स्कोर 300 से 900 तक कैलकुलेट होता है । जितना अधिक स्कोर बेहतर होगा, आपकी साख उतनी ही अधिक होगी ।

300 से 549 को BAD CIBIL स्कोर माना जाता है
550 से 750 को FAIR स्कोर माना जाता है
750 से 800 GOOD CIBIL स्कोर है
800 से ऊपर किसी भी स्कोर को बेहतरीन (BEST) CIBIL स्कोर माना जाता है।

हमें उम्मीद है कि आपने क्रेडिट स्कोर और CIBIL स्कोर के बीच के अंतर को समझा होगा और अपने CIBIL स्कोर को बेहतर बनाने के हमारे सुझावों से आपको अपने जीवन के वित्तीय लक्ष्य को पूरा करने में मदद मिलेगी।

Advertisement