Hindi Essay – Aadhunik Sanchar Kranti par Nibandh

आधुनिक संचार क्रांति पर लघु निबंध

प्रगति के पथ पर मानव बहुत दूर चला आया है। जीवन के हर क्षेत्र में कई ऐसे मुकाम प्राप्त हो गये हैं जो हमें जीवन की सभी सुविधाएँ, सभी आराम प्रदान करते हैं। आज संसार मानव की मुटृी में समाया हुआ है। जीवन के क्षेत्रों में सबसे अधिक क्रांतिकारी कदम संचार क्षेत्र में उठाए गए हैं। अनेक नए स्रोत, नए साधन और नई सुविधाएँ प्राप्त कर ली गई हैं जो हमें आधुनिकता के दौर में काफी ऊपर ले जाकर खड़ा करता है। ऐसे ही संचार साधनों में आज एक बड़ा ही सहज नाम है इंटरनेट।

यूँ तो इसकी शुरूआत 1969 में एडवान्स्ड रिसर्च प्रोजेक्टस एजेंसिज द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका के चार विश्वविद्यालयों के कम्यूटरों की नेटवर्किंग करके की गई थी। इसका विकास मुख्य रूप से शिक्षा, शोध एवं सरकारी संस्थाओं के लिए किया गया था। इसके पीछे मुख्य उदेश्य था संचार माध्यमों को वैसी आपात स्थिति में भी बनाए रखना जब सारे माध्यम निष्फल हो जाएँ। 1971 तक इस कम्पनी ने लगभग दो दर्जन कम्यूटरों को इस नेट से जोड़ दिया था। 1972 में शुरूआत हुई ई-मेल अर्थात् इलेक्ट्रोनिक मेल की जिसने संचार जगत में क्रांति ला दी।


इंटरनेट प्रणाली में प्राटोकाल एवं एक टी.पी. की सहायता से इंटरनेट यूजर किसी भी कम्प्यूटर से जुडकर फाइलें डाउनलोड कर सकता है। 1973 में ट्रांसमिशन कंट्रोल प्राटोकाल जिसे इंटरनेट प्राटोकाल को डिजाइन किया गया। 1983 तक यह इंटरनेट पर एवं कम्प्यूटर के बीच संचार माध्यम बन गया।

मोन्ट्रीयल के पीटर ड्यूस ने पहली बार 1989 में मैक्-गिल यूनिवर्सिटी में इंटरनेट इंडेक्स बनाने का प्रयोग किया। इसके साथ ही थिंकिंग मशीन कापेरिशन के बिडस्टर कहले ने एक दूसरा इंडेक्सिंग सिस्स्ड वाइड एरिया इन्फोर्मेशन सर्वर विकसित किया। उसी दौरान यूरोपियन लेबोरेटरी फार पार्टिकल फ्रिसिक्स ने बर्नर्स ली ने इंटरनेट पर सूचना के वितरण के लिए एक नई तकनीक विकसित की जिसे वर्ल्ड-वाइड वेब के नाम से जाना गया। यह हाइपर टैक्सट पर आधारित होता है जो किसी इंटरनेट यूजर को इंटरनेट की विभिन्न साइट्स पर एक डाक्यूमेन्ट को दूसरे को जोड़ता है। यह काम हाइपर लिंक के माध्यम से होता है। हाइपर लिंक विशेष रूप से प्रोग्राम किए गए शब्दों, बटन अथवा ग्राफिक्स को कहते हैं।

धीरे-धीरे इंटरनेट के क्षेत्र में विकास हुआ। 1994 में नेटस्केप काम्यूनिकेशन और 1995 में माइक्रोसाफट के ब्राउजर बाजार में उपलब्ध हो गए जिससे इंटरनेट का प्रयोग काफी आसान हो गया। 1996 तक इंटरनेट की लोकप्रियता काफी बढ़ गई। लगभग 4.5 करोड़ लोगों ने इंटरनेट का प्रयोग शुरू कर दिया। इनमें सर्वाधिक संख्या अमेरिका (3 करोड़) की थी, यूरोप से 90 लाख और 60 लाख एशिया एवं प्रशांत क्षेत्रों से था।

ई-काम की अवधारण काफी तेजी से फैलती गई। संचार माध्यम के नए-नए रास्ते खुलते गए। नई-नई शब्दावलियाँ जैसे ई-मेल, वी-मेल, वेबसाइट, वायरेस, लवबग आदि इसके अध्यायों में जुड़ते रहे। वर्ष 2000 में इंटरनेट इतनी बढ़ गई कि इसमें कई तरह की समस्याएँ भी उठने लगीं। कई नए वायरस समय-समय पर दुनिया के लाखों कम्प्यूटरों को प्रभावित करते रहे। इन समस्याओं से जूझते हुए संचार का क्षेत्र आगे बढ़ता गया। भारत भी अपनी भागीदारी इन उपलब्धियों में जोडता रहा। आज भारत में इंटरनेट कनेशनों और प्रयोगकर्ताओं की संख्या लाखों में है।