प्रौढ़ शिक्षा- आवश्यकता और महत्व

शिक्षा मनुष्य को सत्य की पहचान कराने वाली है। यह ज्ञान की आँख देती है। यह हमारी सोई प्रतिभा को जगाकर उसे कारगर बनाती है। देखा जाए, तो समूचा विश्व एक खुली पाठशाला है। हर व्यक्ति जीवनभर कुछ न कुछ सीखता ही रहता है। व्यक्ति के लिए उसका अनुभव ही शिक्षा का स्वरूप है। किन्तु उम्र के पहले पड़ाव को, जिसे सामान्यतया विद्यार्थी जीवन कहते हैं यही शिक्षा के लिए उपयुक्त स्वीकार किया गया है। भारतीय दृष्टि से इसे ब्रहमचर्य आश्रम कहते हैं। यहाँ पाँच वर्ष तक बालक माता के निर्देशन में जीवन की प्रारंम्भिक बातें सीखता है। पाँच से पच्चीस वर्ष उसके लिए गुरू के यहाँ शिक्षा पाने के लिए निश्चित किए गए हैं। यह विधिवत् शिक्षा का स्वरूप है। विद्धानों का यह मानना है कि शिक्षा तो जब भी, जहाँ भी मिले, उसे हाथ बढ़ाकर स्वीकार करना चाहिए। लेकिन यहाँ हमारा उदेश्य प्रौढ़ शिक्षा (Adult Education) की आश्वयकता और महत्व को बतलाना है।

प्रौढ़ से अभिप्राय है- गृहस्थ आश्रम का व्यक्ति। दूसरे शब्दों में जिसकी उम्र पच्चीस वर्ष से अधिक हो। यदि उम्र में कोई अनपढ़ व्यक्ति अशिक्षा के कलंक को मिटाना चाहे तो वह अपने कार्य के क्षणों से कुछ अवकाश निकाल करके साक्षर (शिक्षित) हो सकता है। इससे वह अपने दैनिक कार्यों को भली भाँति और आकर्षक ढंग से पूरा कर सकता है।

शिक्षा का प्रचार-प्रसार आज की अपेक्षा 25-30 साल पहले इतना अधिक नहीं था। उस समय जीविकोपार्जन ही प्रमुख रूप से था। इसी कारण खेतिहर किसान लोग, मजदूर, छोटे तबके के लोग और विशेषकर महिलाएं सुचारू रूप से व्यवस्थित शिक्षा नहीं प्राप्त कर सकते थे और एक उम्र बीत जाने के बाद वैसे साधन नहीं थे कि वे कम से कम अक्षर ज्ञान ही प्राप्त कर लें। इसलिए एक पूरी पीढ़ी का अधिकांश भाग अनपढ़ रह गया। यह प्रवृत्ति किसी हद तक आज भी विद्यमान है।

यह भी पढ़िए  Hindi Essay – Aankhon Dekhe Kisi Match ka Varnan – Cricket Match par Nibandh

राष्ट्र की अनेक विकासशील नीतियों में प्रौढ़ शिक्षा नीति का शिक्षा उदेश्य यही है कि वे लोग जो अपने विद्यार्थी जीवन में विधिवत् शिक्षा नहीं पा सके। अक्षर ज्ञान तक नहीं प्राप्त कर सके, वे अपना दैनदिन जीवन सुचारू रूप से चला सकें और सामान्य लिखने पढ़ने के योग्य हो जायें। इसी उदेश्य को सामने रखकर पकी आयु वाले प्रौढ़ व्यक्तियों के लिए शिक्षा योजना लागू की गई है। क्योंकि आज के प्रगतिशील युग में कोई भी व्यक्ति अशिक्षित रहकर समय के साथ नहीं चल सकता। फिर चाहे गांव हो या शहर, वह अपने देश, समाज और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा के बल पर ही जुड़ सकता है। देश विदेश में जो अनेक प्रकार की प्रगति हो रही है, उन्नति विकास की योजनाएं चल रही हैं और साधन और उपकरण सामने आ रहे हैं। अशिक्षित व्यक्ति या तो उनसे अपरिचित रहता हुआ समुचित लाभ नहीं उठा पाएगा या फिर अशिक्षा के कारण ठगा जा सकता है। ऐसे मेंं यह वर्ग स्वयं को शिक्षित बनाकर ही ठीक से जीवन योग्य हो सकता है।

प्रौढ़ शिक्षा का उपयोग की दृष्टि से एक उदेश्य यह भी है कि अब तक जो लोग अनपढ़ और पिछड़े रह गए हैं, वे शिक्षा के महत्व को समझ नहीं सके और कम से कम अपनी संतान को तो आगे विकास करने का अवसर प्रदान कर सकें। चाहे कोई व्यक्ति मजदूर है अथवा किसान या किसी भी वर्ग से संबंधित हैं, कोई भी कार्य करता हो, निश्चय ही एक विशेष स्तर की शिक्षा पाकर वह न केवल अपनी योग्यता बढ़ा सकता है, अपितु अपने में समझ बूझ पैदा कर सकता है। वह अपने धंधे का भी समुचित विकास कर सकता है। पढ़ने लिखने से उसे अनेक जानकारियाँ प्राप्त होगीं, जिनका उपयोग वह जीवन व्यवहार में कर सकता है।

यह भी पढ़िए  भारतीय कला-संस्कृति पर निबंध Essay on Indian culture art in Hindi

प्रौढ़ शिक्षा पाने के लिए व्यक्ति को कहीं दूर जाने की आश्वयकता नहीं और न ही समय की पाबंदी का कोई प्रश्न पैदा होता है। उनके लिए शिक्षा की व्यवस्था ऐसे समय में आयोजित की गई है, जब वह अपने समस्त दैनिक कार्यों से फुर्सत पाकर थोड़ा बहुत समय पढ़ाई में लगा सकें। निश्चय ही यह समय रात्रि लगभग आठ बजे से दस बजे तक का होता है। पढ़ाई के लिए आवश्यक सामग्री भी उन्हें व्यवस्था द्वारा मुफत जुटार्ह जाती है। प्रौढ़ महिला के लिए अध्ययन के समय की व्यवस्था दोपहर में निर्धारित की गई है। ऐसी स्त्रियां अपने दोपहर के भोजन से निवृत्त होकर लगभग दो बजे से चार बजे तक का समय अपनी पढाई के लिए दे सकती हैं। परिवार की स्त्रियों का शिक्षित होना पुरूषों के समान ही उपयोगी और महत्वपूर्ण है। मां के शिक्षित होने के बच्चों के पालन पोषण और प्रारंभिक विकास पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। एक शिक्षित मां स्वयं अपने बच्चों को भी शिक्षा की ओर प्रोत्साहित कर सकती है।

सरकार ने आज जगह जगह नगर, गांव, कस्बों में प्रौढ़ शिक्षा केन्द्र स्थापित कर रखे हैं। अधिकांश लोग इन केन्द्रों का भरपूर लाभ उठा रहे हैं। यह प्रयास सफल होने पर निश्चय ही घर-घर में शिक्षा का प्रकाश फैला सकेगा और एक बात यह भी है कि आज जो लोग किसी संकोच के कारण शिक्षा पाने में आगे नहीं आ रहें, वे अपने पड़ोसी को लाभ उठाते देखकर अवश्य अनुप्रेरित होंगे।

जहाँ इस प्रकार की व्यवस्था अथवा केन्द्र अभी नहीं चालू हो पाए हैं, वहाँ के लोग जिला प्रौढ़ शिक्षा अधिकारी को सामूहिक स्तर पर पत्र लिखकर व्यवस्था करवा सकते हैं। ध्यान रहे, शिक्षा का महत्व जीवन में सर्वोपरि होता है। जो पहले नहीं समझते थे, वे आज समझ रहे हैं, जो आज नहीं समझा पा रहें, वे कल अवश्य समझेंगे। आज की युवा पीढ़ी का भी यह कर्त्तव्य हैं कि वह अपने आस पास अशिक्षित और अनपढ़ लोगों में शिक्षा के प्रति उत्साह जगाने में अपनी भूमिका निभाएं। प्रौढ़ शिक्षा निश्चय ही एक प्रशंसनीय योजना है।

यह भी पढ़िए  सत्संगति पर निबंध – Satsangati Essay in Hindi

(1000 शब्द words)

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
सरिता महर
हेल्लो दोस्तों! मेरा नाम सरिता महर है और मैं रिलेशनशिप तथा रोचक तथ्यों पर आप सब के लिए मजेदार लेख लिखती हूँ. कृपया अपने सुझाव मुझे हिंदी वार्ता के माध्यम से भेजें. अच्छे लेखों को दिल खोल कर शेयर करना मत भूलना