ऐ मौला

Advertisement

नफरत की उमर मौला तू क्यूँ लम्बी बनाता है
किसी एक को मनाऊ तो दूजा रूठ जाता है

ये धरती तो तेरी है मौला अम्बर भी तेरा ही है
मोहब्बत की उमर मौला फिर क्यूँ छोटी बनाता है

Advertisement

facebook.com/Hamarikalamsei

Advertisement

instagram.com/hamarikalamsei

Advertisement