हो जाइये तैयार एयर इंडिया के निजीकरण की हो रही है तैयारी

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्रिमंडल जल्द ही एयर इंडिया का निजीकरण कर सकता है| महाराज के 50000 करोड़ के कर्ज से छुटकारा पाने के तीन विकल्प पर विचार-विमर्श सरकार की बहुमत हिस्सेदारी विनिवेश और एक विशेष प्रयोजन वाहन (एसपीवी) के निर्माण पर विचार करने से राज्य के स्वामित्व वाली वाहक एयर इंडिया के भाग्य का फैसला करेंगे|

हो जाइये तैयार एयर इंडिया के निजीकरण की हो रही है तैयारी

मंत्रिमंडल के लिए निवेश और सार्वजनिक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईएपीएएम) द्वारा तैयार किए गए नोट के मुताबिक मेज पर तीन विकल्प, पूर्ण 100% बेचना, 74% हिस्सेदारी बिक्री या एयरलाइन में 49% हिस्सेदारी को बनाए रखना है। विचार, विकास के बारे में पता करने वाले अधिकारियों ने कहा।

एयर इंडिया के लिए तीन विकल्पों पर हो रही है माथापच्ची

कैबिनेट के लिए नोट महाराजा में हिस्सेदारी बेचने के लिए तीन विकल्प दिए गए हैं। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि अंतिम निर्णय केंद्रीय मंत्रिमंडल के साथ है जिसकी जल्द ही निर्णय लेने की उम्मीद है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले महीने कहा था कि सरकार राष्ट्रीय वाहक के निजीकरण की तलाश कर रही है। केंद्रीय सरकार के थिंक टैंक निटिऑ आयोज और वित्त मंत्रालय एयरलाइन की पूर्ण बिक्री के पक्ष में हैं| सिविल एविएशन मिनिस्ट्री उत्सुक है कि सरकार प्रबंधन को निजी क्षेत्र को सौंपने के बाद राष्ट्रीय वाहक में एक हितधारक बनी रहें।

कैबिनेट एयर स्पेशल पर्पज व्हीकल (एसपीवी) का गठन करके एयर इंडिया की देनदारी को खत्म करने के प्रस्ताव पर भी विचार करेगी| जो अपने सहायक विमानों और रियल एस्टेट संपदाओं के साथ अपने गैर-विमान ऋण का एक हिस्सा रखेगा।

एयर इंडिया की संपत्ति और ऋण

ऋण और संपत्ति
अधिकारी ने कहा, एयर इंडिया के स्वामित्व वाली कार्यशील पूंजी ऋण, सहायक कंपनियों और प्रमुख संपत्तियों का एक बड़ा हिस्सा एसपीवी में रखा जाना प्रस्तावित है। प्लान के मुताबिक एयरलाइंस के 30,000 करोड़ रुपए के कुल कार्यशील पूंजीगत ऋण के लिए, एसपीवी के लिए 25,000 करोड़ रुपये निर्धारित किए जाएंगे। एयर इंडिया का कुल 52,000 करोड़ रूपए का कर्ज है. जिसमें 22,000 करोड़ रूपए विमान ऋण और शेष कार्यशील पूंजी ऋण शामिल हैं।

हो जाइये तैयार एयर इंडिया के निजीकरण की हो रही है तैयारी

अधिकारी ने कहा, संपत्ति और सहायक कंपनियों की बिक्री के माध्यम से प्राप्त आय एसपीवी के कार्यशील पूंजी ऋण की देनदारी को पूरा करने के लिए पर्याप्त होगी।

आंशिक पट्टा
वैश्विक परामर्श केपीएमजी में एयरोस्पेस और रक्षा के भारत के प्रमुख एम्बर दूबे ने सलाह दी थी कि केंद्र को एयर इंडिया की किताबों में परिसंपत्तियां और देनदारियों को रखने के दौरान एसआईपी के लिए एयर इंडिया की परिसंपत्तियां पट्टे चाहिए। एसपीवी की 74-100% इक्विटी निजी क्षेत्र से उच्चतम बोलीदाता को बेची जा सकती है।

एक वैकल्पिक संरचना जिसमें एसपीवी एयर इंडिया की देनदारियों, सहायक कंपनियों और अचल संपत्ति की परिसंपत्तियों का अधिग्रहण करती है| वह भी संभव है। इसमें ऋणदाताओं की सहमति और सहमति वाले कानूनी कानूनों के विस्तृत विश्लेषण की आवश्यकता हो सकती है – श्री दुबे ने कहा।

एयर इंडिया की सहायक कंपनियां

महाराजा के पास चार पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियां शामिल हैं| जिनमें एमआरओ इकाई एयर इंडिया इंजीनियरिंग सर्विसेज लिमिटेड (एआईएसजीएल), जमीन से निपटने वाले हाथी एयर इंडिया ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड, एयरलाइन अलायड सर्विसेज लिमिटेड शामिल हैं| जो एलायंस एयर और एयर इंडिया चार्टर्स लिमिटेड संचालित करती हैं जो एयर इंडिया एक्सप्रेस से सम्बंधित है। होटल कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (जो सेंटॉर होटल का मालिक है) एक और सहायक कंपनी है जबकि इसके संयुक्त उद्यम एआईएसएटीएस है|

अपनी प्रमुख रियल एस्टेट संपत्तियों में से कुछ में नरिमन प्वाइंट का एक भवन और दूसरा मुंबई में सांताक्रूज के पुराने हवाई अड्डे पर है| चेन्नई के अन्ना सलाई में मुफ्त स्थान, नई दिल्ली में कनॉट प्लेस के बाबा खारक सिंह मार्ग पर फ्रीहोल्ड ज़मीन और हैदराबाद भवन में है| हालांकि, एयरलाइन ने इनमें से कुछ को बैंकों के साथ ऋण के लिए सुरक्षा के रूप में गिरवी रखी है।