आखिर रांची की बेटी योग टीचर रफिया नाज कट्टपंथियों से जीत गई

दिल्ली. झारखंड की राजधानी रांची में हटिया इलाके में रहने वाली योग अध्यापिका रफिया नाज के योग सिखाने के खिलाफ उनके समुदाय से धमकियाँ मिल रही थीं.यहाँ तक की फतवे भी जारी हो गए थे लेकिन रफिया अडिग रही और अंत में उसकी जीत हो गई.

अब रांची की कई मुस्लिम संस्थाएं उसके समर्थन में आगे आई हैं.यही नहीं रांची के मुस्लिमों ने कहा है की हमें रफिया पर नाज़ है.रांची के तमाम लोग रफिया नाज के साथ हैं और हमें उससे कोई परेशानी नहीं है. रफिया को अपनी जिंदगी जीने का पूरा हक़ है और मुस्लिम समाज को उससे कोई दिक्कत नहीं है.

यह कहना है इदारा-ए-शरिया, झारखंड के महासचिव कुतुबुद्दीन का. कुतुबुद्दीन ने जोर देकर यह बात कही कि रफिया के खिलाफ कोई फतवा जारी नहीं किया गया है, यह बिलकुल गलत बात है. उन्होंने कहा कि रफिया की आड़ में जिस तरह से दो धर्मों के बीच नफरत की सियासत हो रही है वह बहुत ही गलत है और दुखद भी.

उन्होंने कहा कि रांची में राफिया का कोई विरोध नहीं हो रहा है, यह बात दीगर है कि दिल्ली और हैदराबाद के कुछ मौलानाओं ने उसका विरोध किया है.

इस बीच मुस्लिम समुदाय के कुछ शरारती तत्वों से मिली मिली धमकी और उसके आवास पर कथित तौर पर कुछ लोगों द्वारा पत्थर फेंकने के बाद पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

रांची के पुलिस प्रवक्ता पुलिस उपाधीक्षक विकासचंद्र श्रीवास्तव के अनुसार रफिया को मंच पर योग करने के खिलाफ उसके समुदाय के ही कुछ लोगों ने धमकी दी थी, जिसकी उसने दो दिनों पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुलदीप द्विवेदी से शिकायत की थी.

इसके बाद उसे पुलिस सुरक्षा प्रदान कर दी गई थी लेकिन एक टीवी चैनल पर उसका साक्षात्कार दिखाए जाने के बाद कथित तौर पर कुछ लोगों ने उसके घर पर पत्थर फेंके जिसके बाद  उसे पूरी सुरक्षा का आश्वासन दिया.

योग गुरु बाबा रामदेव के बाद मशहूर गायक सोनू निगम ने भी राफिया का समर्थन किया है. बाबा रामदेव ने कहा योग को किसी भी धर्म से नहीं जोड़ा जाना चाहिए.उन्होंने कहा है कि योगाभ्यास मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा है. इसमें धर्म को आधार नहीं बनाना चाहिए.

वहीं, बॉलीवुड सिंगर सोनू निगम ने झारखंड की मुस्लिम योगा टीचर रफिया के विरोध और उनके खिलाफ जारी फतवे की निंदा की. उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा कि योग मजहब से परे है. सोनू निगम ने कहा, ‘मेरी योग टीचर भी मुस्लिम है.

मेरी टीचर का नाम रूही है, जो एक मुस्लिम है. उन्होंने मुझे पूरी मेहनत और निष्ठा से योग सिखाया. मैं उनके साथ सुबह 5 से 8 बजे तक हर दिन योग करता हूं. ऐसे ही मेरे पिता भी योग सीख रहे हैं. उनके टीचर का नाम कबीर है, वो भी मुस्लिम हैं.

उल्लेखनीय है कि स्कूली बच्चों को योग सिखाने और योग गुरु बाबा रामदेव के साथ मंच साझा करने की उनकी तस्वीर के बाद से रफिया कट्टपंथियों के निशाने पर आ गयीं.

फोन पर उन्हें उनके खिलाफ फतवा जारी करने की धमकियां दी जाने लगीं. हालांकि, राफिया ने साफ कर दिया है कि वह धमकियों से डरने वाली नहीं हैं. वह योग सिखाना जारी रखेंगी.