Alif Laila Kahani Budha aur uski hirni बूढ़े और उसकी हिरनी की कहानी

Advertisement

Alif Laila Kahani Budha aur uski hirni अलिफ लैला की कहानी बूढ़े और उसकी हिरनी की कहानी

वृद्ध बोला, ‘हे दैत्यराज, अब ध्यान देकर मेरा वृत्तांत सुनें। यह हिरनी मेरे चचा की बेटी और मेरी पत्नी है। जब यह बारह वर्ष की थी तो इसके साथ मेरा विवाह हुआ। यह अत्यंत पतिव्रता थी और मेरे प्रत्येक आदेश का पालन करती थी। किंतु जब विवाह को तीस वर्ष हो गए और इससे कोई संतान नहीं हुई तो मैंने एक दासी मोल ले ली क्योंकि मुझे संतान की अति तीव्र अभिलाषा थी। कुछ समय बाद दासी से एक पुत्र का जन्म हुआ। बच्चा पैदा होने पर मेरी पत्नी उस बच्चे और उसकी माता से अत्यंत द्वेष रखने लगी। मुझे इस बात का अति खेद है कि मुझे अपनी पत्नी के विद्वेष का हाल बहुत दिन बाद मालूम हुआ।

‘संयोगवश मुझे एक अन्य देश को जाना पड़ा। मैंने अपनी पत्नी से जोर देकर कहा कि मेरे पीछे इन दोनों की अच्छी तरह देखभाल करना और इनके आराम-तकलीफ का खयाल करना। भगवान चाहेगा तो मैं एक वर्ष में लौट आऊँगा।

Advertisement

‘मेरी स्त्री ने मेरे जाने के बाद उन दोनों से दुश्मनी रखना शुरू कर दिया। वह जादू-टोना भी सीखने लगी थी। मेरे जाने के बाद उस दुष्ट ने अपने जादू से मेरे बच्चे को बछड़ा बना दिया और उसे मेरे नौकर ग्वाले के सुपुर्द कर दिया कि अपने घर ले जाकर इसे खिला-पिला कर मोटा-ताजा कर दे। इसी प्रकार उसने मेरी दासी को जादू के जोर से गाय बना दिया और उसे भी ग्वाले के घर भेज दिया।

‘विदेश से वापस आकर मैंने अपनी पत्नी से अपने पुत्र और उसकी माँ के बारे में पूछा। उसने कहा कि तुम्हारी दासी तो मर गई है और तुम्हारे पुत्र को मैंने दो महीने से नहीं देखा, मालूम नहीं वह कहाँ चला गया। मुझे अपनी दासी के मरने का बड़ा दुख हुआ किंतु सब्र कर के बैठ गया। किंतु मुझे आशा थी कि कभी न कभी पुत्र से मेरी भेंट हो जाएगी।

‘आठ महीने बाद ईद का त्योहार आया। मेरी इच्छा हुई कि इस त्योहार पर मैं किसी पशु का बलिदान करूँ। मैंने अपने ग्वाले को बुला कर कहा कि कुरबानी के लिए एक स्वस्थ गाय ले आ। संयोग से वह मेरी दासी ही को ले आया जो जादू के जोर से गाय बन गई थी। मैंने उसे बलिदान करने के लिए उसके पैरों को बाँधा तो वह बड़े करुणापूर्ण स्वर में डकारने लगी और उसकी आँखों से आँसू की धारा बहने लगी। उसका यह हाल देखकर मुझे उस पर दया आ गई और मुझसे उसके गले पर छुरी न चल सकी। मैंने ग्वाले से कहा कि इसे ले जा और कुरबानी के लिए दूसरी गाय ले आ। यह सुनकर मेरी पत्नी बहुत क्रुद्ध हुई और कहने लगी कि इसी गाय की बलि दी जाएगी, ग्वाले के पास इससे अधिक हृष्ट-पुष्ट और कोई गौ नहीं है।


‘उसके भला-बुरा करने से मैंने फिर छुरी हाथ में ली और गाय को मारने के लिए उद्यत हुआ। इस पर गाय और भी चीख-पुकार करने लगी। मैं अजीब दुविधा में पड़ा। अंत में मैंने छुरी ग्वाले को दे दी और कहा, मुझ से इस गाय पर छुरी नहीं चलती, तू ही इसका बलिदान कर दे। ग्वाले को गाय के रोने-चिल्लाने पर दया न आई और उसने छुरी फेर दी।

Advertisement
learn ms excel in hindi

‘जब गाय की खाल उतारी गई तो सब ने देखा कि उसके अंदर अस्थिपंजर मात्र है, मांस का कहीं पता नहीं। कारण यह था कि गाय की हृष्टतापुष्टता तो केवल मायाजाल के कारण थी। मैं उस ग्वाले पर नाराज हुआ कि गाय को ऐसी दशा में क्यों रखा कि वह ऐसी दुबली-पतली हो गई। मैंने गाय ग्वाले ही को दे दी और कहा, तू इसे अपने ही काम में ला, मेरे कुरबानी करने के लिए कोई बछड़ा ही ले आ, किंतु वह मोटा-ताजा होना चाहिए, इस गाय की तरह नहीं।

‘ग्वाला शीघ्र ही एक मोटा-ताजा बछड़ा ले आया। बछड़ा देखने में भी बड़ा सुंदर था। यद्यपि उस बछड़े के बारे में मुझे मालूम न था कि यह मेरा ही पुत्र है तथापि उसे देखकर मेरे हृदय में प्रेम उमड़ने लगा और वह बछड़ा भी मुझे देखते ही रस्सी तुड़ाकर मेरे पैरों पर गिर पड़ा। इस बात से मेरे हृदय में प्रेम का स्रोत और जोर से उबलने लगा और मैं सोचने लगा कि ऐसे प्यारे बछड़े को कैसे मारूँ। इन भावनाओं ने मुझे अत्यंत विह्वल कर दिया। उस बछड़े की आँखों से आँसू बहने लगे। इससे उसके प्रति मेरा प्यार और उमड़ा और मैंने ग्वाले से कहा कि इस बछड़े को वापस ले जा और इसकी जगह कोई दूसरा बछड़ा ले आ।

‘इस पर मेरी पत्नी ने कहा कि तुम इतने मोटे-ताजे बछड़े की कुर्बानी क्यों नहीं करते। मैंने कहा कि यह बछड़ा मुझे बड़ा प्यारा लगता है और मेरा जी नहीं करता है कि इसका वध करूँ, तुम इसके लिए कुछ जोर मत दो। लेकिन उस निष्ठुर दुष्ट ने तकरार जारी रखी और विद्वेषवश उसके वध पर जोर देती रही। मैं उसकी बहस से तंग आकर छुरी लेकर पुत्र की गर्दन काटने चला। उसने फिर मेरी ओर देखकर आँसू बहाए। मेरे हृदय में ऐसी दया और प्रीति उमड़ी कि छुरी हाथ से गिर गई।


‘फिर मैंने अपनी पत्नी से कहा कि मेरे पास एक और बछड़ा है, मैं उसे कुरबान कर दूँगा। वह दुष्टमना फिर भी उसी बछड़े को मारने पर जोर देती रही। किंतु इस बार मैंने उसके बकने-झकने की परवाह नहीं की और बछड़े को वापस कर दिया। हाँ, पत्नी के हृदय को सांत्वना देने के लिए कह दिया कि बकरीद के दिन इसी बछड़े की बलि दूँगा।

‘ग्वाला बछड़े को अपने घर ले गया। लेकिन दूसरे दिन तड़के ही मुझ से एकांत में कहा कि मैं आप से कुछ कहना चाहता हूँ और मुझे आशा है कि आप मेरी बात सुन कर प्रसन्न होंगे। मेरी बेटी जादू-टोने में प्रवीण है। कल जब मैं उस बछड़े को वापस लेकर गया तो वह उसे देख कर हँसी भी और रोई भी। मैंने इस विचित्र बात का कारण पूछा तो बोली कि अब्बा, जिस बछड़े को तुम लौटा कर जिंदा लाए हो वह हमारे मालिक का बेटा है, इसलिए मैं इसे जीता-जागता देखकर प्रसन्न हुई। रोई इसलिए कि इसके पहले इसकी माँ की कुरबानी दे दी गई थी। हमारे स्वामी की पत्नी ने सौतिया डाह के कारण इन माता-पुत्र को जादू के जोर से गाय और बछड़ा बना दिया था। मैंने जो अपनी बेटी के मुँह से सुना, जैसा का तैसा आपको बता दिया।

‘हे दैत्यराज, अब आप सोचिए कि यह वृत्तांत सुनकर मेरे हृदय में कितना शोक और संताप उठा होगा। मैं कुछ देर मर्माहत होकर चुप रहा फिर ग्वाले के साथ उसके घर पर चला गया ताकि इस वृत्तांत को उसकी बेटी के मुँह से सुनूँ। सबसे पहले मैं उसकी पशुशाला में गया ताकि अपने बछड़ा बने हुए पुत्र को देखूँ। मैं उस पर हाथ फेरूँ इसके पहले ही वह मेरे पास आकर इतना लाड़ करने लगा कि मुझे विश्वास हो गया कि यह मेरा पुत्र ही है।

‘मैंने लड़की के पास जाकर ग्वाले के मुँह से सुना हुआ हाल दुबारा सुना और लड़की से कहा कि क्या तुम इस बछड़े को फिर से मनुष्य का रूप दे सकती हो। उसने कहा, निश्चय ही मैं उसे दुबारा मनुष्य बना सकती हूँ। मैंने कहा, अगर तुम ऐसा कर दो तो मैं तुम्हें अपनी सारी धन-संपदा दे दूँगा। लड़की ने मुस्करा कर कहा कि हम लोग आप के सेवक हैं, आप हमारे मालिक हैं, आपकी आज्ञा शिरोधार्य है; किंतु बछड़े को मनुष्य रूप मैं दो शर्तों पर दूँगी – एक तो यह कि उसके मनुष्य बन जाने पर आप उसका विवाह मेरे साथ कर दें और दूसरा यह कि जिसने इसे मनुष्य से पशु बनाया है उसे भी थोड़ा दंड दिया जाए।

‘मैंने उत्तर दिया, मुझे तुम्हारी पहली शर्त बिल्कुल मंजूर है, मैं तुम्हारा विवाह उसके साथ कर दूँगा और तुम दोनों को इतना धन-धान्य दूँगा कि जीवन पर्यंत तुम्हें किसी चीज की कमी नहीं रहेगी। दूसरी शर्त में निर्णय मैं तुम्हारे ही हाथ छोड़ता हूँ, तुम जो भी दंड उसके लिए उचित समझोगी वही दंड मेरी पत्नी को दिया जाएगा, हाँ यह जरूर कहूँगा कि यद्यपि वह दुष्ट दंडनीय है किंतु उसे प्राणदंड न दे देना।

‘लड़की ने कहा कि जैसा उस ने आप के पुत्र के साथ किया है वैसा ही मैं उस के साथ करूँगी। यह कहकर उसने एक प्याले में पानी लिया और उसे अभिमंत्रित कर के बछड़े को सामने लाकर कहा कि ऐ खुदा के बंदे, अगर तू आदमी है और केवल जादू के कारण बछड़ा बना है तो भगवान की दया से अपना पूर्व रूप प्राप्त कर ले। यह कहकर उसने अभिमंत्रित जल उस पर छिड़का और वह तुरंत ही मनुष्य रूप में आ गया। मैंने प्रीतिपूर्वक उसे छाती से लगाया और गदगद स्वर में उससे कहा कि इस लड़की के कारण ही तुमने फिर से मानव देह पाई है, तुम इसका एहसान चुकाओ और इसके साथ विवाह कर लो। पुत्र ने सहर्ष मेरी बात मानी। लड़की ने इसी प्रकार जल को अभिमंत्रित कर के मेरी पत्नी को हिरनी का रूप दे दिया।

‘मेरे पुत्र ने उस कन्या के साथ विवाह किया किंतु दुर्भाग्यवश वह थोड़े ही समय के बाद मर गई। मेरे पुत्र को इतना दुख हुआ कि वह देश छोड़कर कहीं चला गया। बहुत दिनों तक मुझे उसका कोई समाचार नहीं मिला। अतएव मैं उसे ढूँढ़ने निकला हूँ। मुझे किसी पर इतना भरोसा नहीं था कि अपनी हिरनी बनी हुई पत्नी को उसके पास छोड़ता, इसलिए मैं उसे अपने साथ लिए हुए देश-देश अपने पुत्र की खोज में घूमता हूँ। यही मेरी और इस हिरनी की कहानी है। अब आप स्वयं निर्णय कर लें कि यह घटना विचित्र है या नहीं।’ दैत्य ने कहा, ‘निःसंदेह विचित्र है। मैंने व्यापारी के अपराध का एक तिहाई हिस्सा माफ कर दिया।’

फिर शहरजाद ने शहरयार से निवेदन किया कि जब पहला वृद्ध मनुष्य अपनी कहानी कह चुका तो दूसरे बूढ़े ने, जो अपने साथ दो काले कुत्ते लिए था, दैत्य से कहा कि मैं भी अपना और इन दोनों कुत्तों का इतिहास आपके सम्मुख रखता हूँ। यदि यह पहली कहानी से भी अच्छा हो तो आशा करता हूँ कि उसे सुनने के बाद व्यापारी के अपराध का एक तिहाई भाग और क्षमा कर दिया जाएगा। दैत्य ने कहा कि अगर तुम्हारी कहानी पहली कहानी से अधिक विचित्र हुई तो मैं तुम्हारी बात जरूर मानूँगा।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif Laila ki kahani – Boodhe aur usaki hirani ki Kahani

vriddh bola, he daityaraj, ab dhyan dekar mera vrittant sunem. yah hirani mere chacha ki beti aur meri patni hai. jab yah barah varsh ki thi to isake sath mera vivah hua. yah atyant pativrata thi aur mere pratyek adesh ka palan karati thi. kintu jab vivah ko tis varsh ho gae aur isase koi santan nahin hui to maimne ek dasi mol le li kyonki mujhe santan ki ati tivr abhilasha thi. kuchh samay bad dasi se ek putr ka janm hua. bachcha paida hone par meri patni us bachche aur usaki mata se atyant dvesh rakhane lagi. mujhe is bat ka ati khed hai ki mujhe apani patni ke vidvesh ka hal bahut din bad maloon hua.

samyogavash mujhe ek any desh ko jana para. maimne apani patni se jor dekar kaha ki mere pichhe in donon ki achchhi tarah dekhabhal karana aur inake arama-takAlif ka khayal karana. bhagavan chahega to maim ek varsh mein laut aoomga.

meri stri ne mere jane ke bad un donon se dushmani rakhana shuroo kar diya. vah jadoo-tona bhi sikhane lagi thi. mere jane ke bad us dusht ne apane jadoo se mere bachche ko bachhara bana diya aur use mere naukar gvale ke supurd kar diya ki apane ghar le jakar ise khila-pila kar mota-taja kar de. isi prakar usane meri dasi ko jadoo ke jor se gay bana diya aur use bhi gvale ke ghar bhej diya.

videsh se vapas akar maimne apani patni se apane putr aur usaki mam ke bare mein poochha. usane kaha ki tumhari dasi to mar gai hai aur tumhare putr ko maimne do mahine se nahin dekha, maloon nahin vah kaham chala gaya. mujhe apani dasi ke marane ka bara dukh hua kintu sabr kar ke baith gaya. kintu mujhe asha thi ki kabhi n kabhi putr se meri bhent ho jaegi.

ath mahine bad id ka tyohar aya. meri ichchha hui ki is tyohar par maim kisi pashu ka balidan karoom. maimne apane gvale ko bula kar kaha ki kurabani ke lie ek svasth gay le a. samyog se vah meri dasi hi ko le aya jo jadoo ke jor se gay ban gai thi. maimne use balidan karane ke lie usake pairon ko bamdha to vah bare karunapoorn svar mein dakarane lagi aur usaki amkhon se amsoo ki dhara bahane lagi. usaka yah hal dekhakar mujhe us par daya a gai aur mujhase usake gale par chhuri n chal saki. maimne gvale se kaha ki ise le ja aur kurabani ke lie doosari gay le a. yah sunakar meri patni bahut kruddh hui aur kahane lagi ki isi gay ki bali di jaegi, gvale ke pas isase adhik hrishta-pusht aur koi gau nahin hai.

usake bhala-bura karane se maimne fir chhuri hath mein li aur gay ko marane ke lie udyat hua. is par gay aur bhi chikha-pukar karane lagi. maim ajib duvidha mein para. ant mein maimne chhuri gvale ko de di aur kaha, mujh se is gay par chhuri nahin chalati, too hi isaka balidan kar de. gvale ko gay ke rone-chillane par daya n ai aur usane chhuri fer di.

jab gay ki khal utari gai to sab ne dekha ki usake andar asthipanjar matr hai, mams ka kahim pata nahin. karan yah tha ki gay ki hrishtatapushtata to keval mayajal ke karan thi. maim us gvale par naraj hua ki gay ko aisi dasha mein kyon rakha ki vah aisi dubali-patali ho gai. maimne gay gvale hi ko de di aur kaha, too ise apane hi kam mein la, mere kurabani karane ke lie koi bachhara hi le a, kintu vah mota-taja hona chahie, is gay ki tarah nahin.

gvala shighr hi ek mota-taja bachhara le aya. bachhara dekhane mein bhi bara sundar tha. yadyapi us bachhare ke bare mein mujhe maloon n tha ki yah mera hi putr hai tathapi use dekhakar mere hriday mein prem umarane laga aur vah bachhara bhi mujhe dekhate hi rassi turakar mere pairon par gir para. is bat se mere hriday mein prem ka srot aur jor se ubalane laga aur maim sochane laga ki aise pyare bachhare ko kaise maroom. in bhavanaon ne mujhe atyant vihval kar diya. us bachhare ki amkhon se amsoo bahane lage. isase usake prati mera pyar aur umara aur maimne gvale se kaha ki is bachhare ko vapas le ja aur isaki jagah koi doosara bachhara le a.

is par meri patni ne kaha ki tum itane mote-taje bachhare ki kurbani kyon nahin karate. maimne kaha ki yah bachhara mujhe bara pyara lagata hai aur mera ji nahin karata hai ki isaka vadh karoom, tum isake lie kuchh jor mat do. lekin us nishthur dusht ne takarar jari rakhi aur vidveshavash usake vadh par jor deti rahi. maim usaki bahas se tang akar chhuri lekar putr ki gardan katane chala. usane fir meri or dekhakar amsoo bahae. mere hriday mein aisi daya aur priti umari ki chhuri hath se gir gai.

fir maimne apani patni se kaha ki mere pas ek aur bachhara hai, maim use kuraban kar doomga. vah dushtamana fir bhi usi bachhare ko marane par jor deti rahi. kintu is bar maimne usake bakane-jhakane ki paravah nahin ki aur bachhare ko vapas kar diya. ham, patni ke hriday ko santvana dene ke lie kah diya ki bakarid ke din isi bachhare ki bali doomga.

gvala bachhare ko apane ghar le gaya. lekin doosare din tarake hi mujh se ekant mein kaha ki maim ap se kuchh kahana chahata hoon aur mujhe asha hai ki ap meri bat sun kar prasann honge. meri beti jadoo-tone mein pravin hai. kal jab maim us bachhare ko vapas lekar gaya to vah use dekh kar hamsi bhi aur roi bhi. maimne is vichitr bat ka karan poochha to boli ki abba, jis bachhare ko tum lauta kar jinda lae ho vah hamare malik ka beta hai, isalie maim ise jita-jagata dekhakar prasann hui. roi isalie ki isake pahale isaki mam ki kurabani de di gai thi. hamare svami ki patni ne sautiya dah ke karan in mata-putr ko jadoo ke jor se gay aur bachhara bana diya tha. maimne jo apani beti ke mumh se suna, jaisa ka taisa apako bata diya.

he daityaraj, ab ap sochie ki yah vrittant sunakar mere hriday mein kitana shok aur santap utha hoga. maim kuchh der marmahat hokar chup raha fir gvale ke sath usake ghar par chala gaya taki is vrittant ko usaki beti ke mumh se sunoom. sabase pahale maim usaki pashushala mein gaya taki apane bachhara bane hue putr ko dekhoom. maim us par hath feroon isake pahale hi vah mere pas akar itana lar karane laga ki mujhe vishvas ho gaya ki yah mera putr hi hai.

maimne laraki ke pas jakar gvale ke mumh se suna hua hal dubara suna aur laraki se kaha ki kya tum is bachhare ko fir se manushy ka roop de sakati ho. usane kaha, nishchay hi maim use dubara manushy bana sakati hoom. maimne kaha, agar tum aisa kar do to maim tumhem apani sari dhana-sampada de doomga. laraki ne muskara kar kaha ki ham log ap ke sevak hain, ap hamare malik hain, apaki ajnya shirodhary hai; kintu bachhare ko manushy roop maim do sharton par doomgi – ek to yah ki usake manushy ban jane par ap usaka vivah mere sath kar dem aur doosara yah ki jisane ise manushy se pashu banaya hai use bhi thora dand diya jae.

maimne uttar diya, mujhe tumhari pahali shart bilkul manjoor hai, maim tumhara vivah usake sath kar doomga aur tum donon ko itana dhana-dhany doomga ki jivan paryant tumhem kisi chij ki kami nahin rahegi. doosari shart mein nirnay maim tumhare hi hath chhorata hoom, tum jo bhi dand usake lie uchit samajhogi vahi dand meri patni ko diya jaega, ham yah jaroor kahoomga ki yadyapi vah dusht dandaniy hai kintu use pranadand n de dena.

laraki ne kaha ki jaisa us ne ap ke putr ke sath kiya hai vaisa hi maim us ke sath karoomgi. yah kahakar usane ek pyale mein pani liya aur use abhimantrit kar ke bachhare ko samane lakar kaha ki ai khuda ke bande, agar too adami hai aur keval jadoo ke karan bachhara bana hai to bhagavan ki daya se apana poorv roop prapt kar le. yah kahakar usane abhimantrit jal us par chhiraka aur vah turant hi manushy roop mein a gaya. maimne pritipoorvak use chhati se lagaya aur gadagad svar mein usase kaha ki is laraki ke karan hi tumane fir se manav deh pai hai, tum isaka ehasan chukao aur isake sath vivah kar lo. putr ne saharsh meri bat mani. laraki ne isi prakar jal ko abhimantrit kar ke meri patni ko hirani ka roop de diya.

mere putr ne us kanya ke sath vivah kiya kintu durbhagyavash vah thore hi samay ke bad mar gai. mere putr ko itana dukh hua ki vah desh chhorakar kahim chala gaya. bahut dinon tak mujhe usaka koi samachar nahin mila. ataev maim use dhoomrhane nikala hoom. mujhe kisi par itana bharosa nahin tha ki apani hirani bani hui patni ko usake pas chhorata, isalie maim use apane sath lie hue desha-desh apane putr ki khoj mein ghoomata hoom. yahi meri aur is hirani ki Kahani hai. ab ap svayam nirnay kar lem ki yah ghatana vichitr hai ya nahin. daity ne kaha, nihsandeh vichitr hai. maimne vyapari ke aparadh ka ek tihai hissa maf kar diya.

fir shaharajad ne shaharayar se nivedan kiya ki jab pahala vriddh manushy apani Kahani kah chuka to doosare boorhe ne, jo apane sath do kale kutte lie tha, daity se kaha ki maim bhi apana aur in donon kutton ka itihas apake sammukh rakhata hoom. yadi yah pahali Kahani se bhi achchha ho to asha karata hoon ki use sunane ke bad vyapari ke aparadh ka ek tihai bhag aur kshama kar diya jaega. daity ne kaha ki agar tumhari Kahani pahali Kahani se adhik vichitr hui to maim tumhari bat jaroor manoomga.

Advertisement