Alif Laila Kahani Dusra budha aur uske do kale kutte दूसरे बूढ़े और उसके दो काले कुत्तोँ की कहानी

Advertisement

Alif Laila Kahani Dusra budha aur uske do kale kutte अलिफ लैला की कहानी दूसरे बूढ़े और उसके दो काले कुत्तोँ की कहानी

दूसरे बूढ़े ने कहा, ‘हे दैत्यराज, ये दोनों काले कुत्ते मेरे सगे भाई हैं। हमारे पिता ने मरते समय हम तीनों भाइयों को तीन हजार अशर्फियाँ दी थीं। हम लोग उन मुद्राओं से व्यापार चलाने लगे। मेरे बड़े भाई को विदेशों में जाकर व्यापार करने की इच्छा हुई सो उसने अपना सारा माल बेच डाला और जो वस्तुएँ विदेशों में महँगी बिकती थीं उन्हें यहाँ से खरीद कर व्यापार को चल दिया। इसके लगभग एक वर्ष बाद मेरी दुकान पर एक भिखमंगा आकर बोला, भगवान तुम्हारा भला करे। मैंने उस पर ध्यान दिए बगैर जवाब दिया, भगवान तुम्हारा भी भला करे। उसने कहा कि क्या तुमने मुझे पहचाना नहीं। मैंने उसे ध्यानपूर्वक देखा और फिर उसे गले लगाकर फूट-फूट कर रोया। मैंने कहा, भैया, मैं तुम्हें ऐसी दशा में कैसे पहचानता। फिर मैं ने उसके परदेश के व्यापार का हाल पूछा तो उसने कहा कि मुझे इस हाल में भी देख कर क्या पूछ रहे हो।

‘फिर मेरे जोर देने पर उसने वे सारी विपदाएँ बताईं जो उस पर पड़ी थीं और बोला कि मैंने संक्षेप ही में तुम्हें सब बताया है, इससे अधिक विस्तार से बताऊँगा तो मेरा भी दुख बढ़ेगा और तुम्हारा भी। उसकी बातें सुनकर मैं अपने सभी काम भूल गया। मैंने उसे स्नान कराया और अच्छे वस्त्र मँगाकर उसे पहनाए। फिर मैंने अपना हिसाब देखा तो मालूम हुआ कि मेरे पास छह हजार रुपए हैं।

Advertisement

‘मैंने तीन हजार रुपए अपने भाई को देकर कहा कि तुम पिछली हानि भूल जाओ और इस तीन हजार से नए सिरे से व्यापार करो। उसने रुपयों को सहर्ष ले लिया और नए सिरे से व्यापार करने लगा और हम सब लोग पहले की तरह रहने लगे।

Advertisement

‘कुछ दिनों बाद मेरे छोटे भाई की इच्छा हुई कि विदेश जाकर व्यापार करे। मैंने उसे बहुत मना किया लेकिन उसने मेरी बात न मानी और अपना सारा माल बेच-बाच कर के वस्तुएँ खरीद लीं जो विदेशों में महँगी मिलती हैं। फिर उस ने मुझ से विदा ली और एक कारवाँ के साथ जो विदेश जा रहा था, रवाना हो गया। एक वर्ष के बाद मेरे बड़े भाई की तरह वह भी अपनी सारी जमा-पूँजी गँवाकर फकीर बनकर मेरे पास वापस आया। मैंने बड़े भाई की तरह छोटे भाई की भी सहायता की और उस वर्ष जो तीन हजार रुपए मुझे व्यापार में लाभ के रूप में मिले थे उसे दिए। वह भी नगर में एक दुकान लेकर पहले की तरह व्यापार करने लगा और सब कुछ पहले की तरह ठीक-ठाक चलने लगा।

Advertisement
youtube shorts kya hai

‘कुछ समय बीता था कि मेरे दोनों भाइयों ने मुझसे कहा, हम सभी लोग विदेश जाकर व्यापार करें। पहले मैंने इनकार किया और कहा कि तुम लोगों ही को विदेशी व्यापार से क्या लाभ हुआ है जो मुझे भी इस बार चलने को कह रह हो। तब दोनों मेरे साथ बहस करने लगे और कहने लगे कि कौन जाने इस बार तुम्हारे भाग्य और तुम्हारी व्यापार बुद्धि ही से हम दोनों की तकदीर जाग जाए और हमारे सारे सपने पूरे हो जाएँ। मैंने फिर इनकार कर दिया लेकिन ये मेरे पीछे पड़े रहे। यहाँ तक कि इसी बहस में पाँच वर्ष बीत गए और इस अवधि में उन्होंने मेरी जान खा डाली। तंग आकर मैंने उसकी बात मान ली।’

‘मैंने व्यापार के लिए आवश्यक वस्तुएँ मोल ले लीं। उसी समय मुझे ज्ञात हुआ कि मेरे भाइयों ने मेरा दिया हुआ धन खर्च कर डाला है और उनके पास कुछ नहीं बचा। मैंने इस पर भी उनसे कुछ नहीं कहा। उस समय मेरे पास बारह हजार रुपए थे। उसमें से आधा धन मैंने दोनों को दे दिया और कहा कि भाइयो, बुद्धिमानी और दूरदर्शिता इसी में है कि हम अपना आधा धन व्यापार में लगाएँ और आधा अपने घर में छोड़ जाएँ। अगर तुम दोनों की तरह इस बार भी हम सब को व्यापार में घाटा हो तो उस समय घर में रखा हुआ धन काम आएगा और हम लोग उसे व्यापार में लगा कर अपना काम चलाएँगे।

Advertisement

‘चुनांचे मैंने उन्हें तीन-तीन हजार रुपए दिए और इतनी ही राशि अपने लिए रखी और बाकी तीन हजार रुपए अपने घर में एक गहरा गढ़ा खोदकर उसमें दबा दिया। फिर हमने व्यापार की वस्तुएँ खरीदीं और जहाज पर सवार होकर एक अन्य देश को निकल गए। एक महीने बाद हम कुशलतापूर्वक एक नगर में पहुँचे और व्यापार आरंभ किया। हमें व्यापार में बहुत लाभ हुआ। फिर हमने उस देश की बहुत-सी अच्छी वस्तुएँ अपने देश में बेचने के मंतव्य से मोल लीं।

‘जब हम उस स्थान पर लेन-देन कर चुके और जहाज पर वापस आने के लिए तैयार हुए तो एक अत्यंत सुंदर स्त्री फटे-पुराने कपड़े पहने हुए मेरे सामने आई। उसने जमीन पर गिरकर मुझे सलाम किया, मेरा हाथ चूमा और मुझसे निवेदन किया कि मेरे साथ विवाह कर लो। मैंने इस बात को उचित न समझा और इनकार कर दिया। लेकिन वह गिड़गिड़ाती और मिन्नतें करती रही। अंत में मुझे उसकी निर्धनता पर दया आ गई और मैंने उसकी प्रार्थना स्वीकार कर के उसके साथ विधिवत विवाह कर लिया और उसे अपने साथ जहाज पर चढ़ा लिया। मैंने रास्ते में देखा कि वह केवल सुंदरी ही नहीं, अत्यंत बुद्धिमती भी है। इस कारण मैं उससे बहुत प्रेम करने लगा।

‘किंतु मेरे इस सौभाग्य को देखकर मेरे दोनों भाई जल मरे और मेरी जान के दुश्मन हो गए। उनका विद्वेष यहाँ तक बढ़ा कि एक रात जब हम दोनों सो रहे थे उन्होंने हमें समुद्र में फेंक दिया। मेरी पत्नी में जैसे कोई अलौलिक शक्ति थी। ज्यों ही हम दोनों समुद्र में गिरे वह मुझे एक द्वीप पर ले गई। जब प्रभात हुआ तो उसने मुझे बताया कि मेरे कारण ही तुम्हारी जान बची है, मैं वास्तव में परी हँ, जब तुम जहाज पर चढ़ने के लिए तैयार हो रहे थे तो मैं तुम्हारे यौवन और सौंदर्य को देखकर तुम पर मोहित हो गई थी और तुम्हारे साथ प्रणय सूत्र में बँधना चाहती थी; मैं तुम्हारी सहृदयता की परीक्षा भी लेना चाहती थी इसलिए मैं फटे-पुराने कपड़े पहन कर भिखारिणियों की भाँति तुम्हारे सामने आई; मुझे इस बात की बड़ी प्रसन्नता हुई कि तुम ने मेरी इच्छा पूरी की; तुम ने मेरे साथ जो उपकार किया है उस से मैं उॠण होना चाहती हूँ किंतु मैं तुम्हारे भाइयों पर अत्यंत कुपित हूँ और उन्हें जीता न छोड़ूँगी।

‘उसकी बातें सुनकर मुझे घोर आश्चर्य हुआ। मैंने उसका बड़ा एहसान माना और अत्यंत दीनतापूर्वक कहा कि तुम मेरे भाइयों को जान से न मारो; यद्यपि उन्होंने मुझे बड़ा कष्ट पहुँचाया है तथापि मैं यह नहीं चाहता कि उन्हें ऐसा कठोर दंड दिया जाए। मैं जितना ही अपने भाइयों की सिफारिश करता था उतना ही परी का क्रोध उन पर बढ़ता जाता था। वह कहने लगी कि मैं यहाँ से उड़कर जाऊँगी और उन दुष्टों समेत उनके जहाज को डुबो दूँगी। मैंने फिर उसकी खुशामद की और उसे परमेश्वर की सौगंध देकर कहा कि तुम उन्हें इतना कड़ा दंड न देना, सज्जनों का काम यही है कि वे बुराई के बदले भलाई करें; तुम अपने क्रोध को ठंडा करो और यदि तुम उन्हें दंड ही देना चाहो तो मृत्यु दंड के अतिरिक्त जो दंड चाहो दे दो।

‘मैं उसे इस तरह समझा-बुझा और मना रहा था कि उसने एक क्षण में मुझे उड़ाकर मेरे मकान की छत पर पहुँचा दिया और स्वयं अंतर्ध्यान हो गई। मैं छत से उतरकर घर के अंदर आया। फिर मैंने गढ़े से अपने दबाए हुए तीन हजार रुपए निकाले और दुकान में जाकर फिर कारोबार करने लगा। जब मैं दुकान से घर को वापस आया तो मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि मकान के अंदर दो काले कुत्ते मौजूद हैं। मुझे देखकर वे दुम हिलाते हुए मेरे पास आए और मेरे पाँवों पर सर रख कर लोटने लगे।

‘उसी समय वह परी मेरे घर में आई और मुझसे बोली कि इन कुत्तों को देख कर घबराना नहीं, ये तुम्हारे दोनों भाई हैं। यह सुनकर मेरा तो खून ही सूख गया। मैंने दुखी होकर परी से पूछा कि ये कुत्ते कैसे बन गए। उसने कहा, मेरी एक बहन है जिसने मेरे कहने पर तुम्हारे जहाज को माल-असबाब समेत डुबो दिया और तुम्हारे भाइयों को दस वर्ष के लिए कुत्ता बना दिया। यह कहकर परी अंतर्ध्यान हो गई। जब दस वर्ष व्यतीत हो गए तो मैं अपने भाइयों को साथ लेकर इधर आ निकला और इस व्यापारी तथा इस हिरनी वाले वृद्ध को देखकर यहाँ रुक गया। यही मेरी कहानी है। हे दैत्यराज, आप को यह कहानी अद्भुत लगी या नहीं?’

दैत्य ने कहा, ‘वास्तव में तेरी आपबीती बड़ी अदभुत है; मैंने व्यापारी के अपराध का दूसरा तिहाई भाग भी माफ कर दिया।’ इस पर तीसरे बूढ़े ने इन दोनों की तरह दैत्य से कहा कि अब मैं भी अपना वृत्तांत आप से कह रहा हूँ। यदि आप इसे भी अद्भुत पाएँ तो कृपया व्यापारी के अपराध का बाकी तिहाई भाग भी क्षमा कर दें। दैत्य ने यह बात स्वीकार की।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif Laila ki kahani – doosare boorhe aur usake do kale kutton ki Kahani

doosare boorhe ne kaha, he daityaraj, ye donon kale kutte mere sage bhai hain. hamare pita ne marate samay ham tinon bhaiyon ko tin hajar asharfiyam di thim. ham log un mudraon se vyapar chalane lage. mere bare bhai ko videshon mein jakar vyapar karane ki ichchha hui so usane apana sara mal bech dala aur jo vastuem videshon mein mahamgi bikati thim unhem yahan se kharid kar vyapar ko chal diya. isake lagabhag ek varsh bad meri dukan par ek bhikhamanga akar bola, bhagavan tumhara bhala kare. maimne us par dhyan die bagair javab diya, bhagavan tumhara bhi bhala kare. usane kaha ki kya tumane mujhe pahachana nahin. maimne use dhyanapoorvak dekha aur fir use gale lagakar foota-foot kar roya. maimne kaha, bhaiya, maim tumhem aisi dasha mein kaise pahachanata. fir maim ne usake paradesh ke vyapar ka hal poochha to usane kaha ki mujhe is hal mein bhi dekh kar kya poochh rahe ho.

fir mere jor dene par usane ve sari vipadaem bataim jo us par pari thim aur bola ki maimne sankshep hi mein tumhem sab bataya hai, isase adhik vistar se bataoomga to mera bhi dukh barhega aur tumhara bhi. usaki batem sunakar maim apane sabhi kam bhool gaya. maimne use snan karaya aur achchhe vastr mamgakar use pahanae. fir maimne apana hisab dekha to maloon hua ki mere pas chhah hajar rupae hain.

maimne tin hajar rupae apane bhai ko dekar kaha ki tum pichhali hani bhool jao aur is tin hajar se nae sire se vyapar karo. usane rupayon ko saharsh le liya aur nae sire se vyapar karane laga aur ham sab log pahale ki tarah rahane lage.

kuchh dinon bad mere chhote bhai ki ichchha hui ki videsh jakar vyapar kare. maimne use bahut mana kiya lekin usane meri bat n mani aur apana sara mal becha-bach kar ke vastuem kharid lim jo videshon mein mahamgi milati hain. fir us ne mujh se vida li aur ek karavam ke sath jo videsh ja raha tha, ravana ho gaya. ek varsh ke bad mere bare bhai ki tarah vah bhi apani sari jama-poomji gamvakar fakir banakar mere pas vapas aya. maimne bare bhai ki tarah chhote bhai ki bhi sahayata ki aur us varsh jo tin hajar rupae mujhe vyapar mein labh ke roop mein mile the use die. vah bhi nagar mein ek dukan lekar pahale ki tarah vyapar karane laga aur sab kuchh pahale ki tarah thika-thak chalane laga.

kuchh samay bita tha ki mere donon bhaiyon ne mujhase kaha, ham sabhi log videsh jakar vyapar karem. pahale maimne inakar kiya aur kaha ki tum logon hi ko videshi vyapar se kya labh hua hai jo mujhe bhi is bar chalane ko kah rah ho. tab donon mere sath bahas karane lage aur kahane lage ki kaun jane is bar tumhare bhagy aur tumhari vyapar buddhi hi se ham donon ki takadir jag jae aur hamare sare sapane poore ho jaem. maimne fir inakar kar diya lekin ye mere pichhe pare rahe. yahan tak ki isi bahas mein pamch varsh bit gae aur is avadhi mein unhomne meri jan kha dali. tang akar maimne usaki bat man li.

maimne vyapar ke lie avashyak vastuem mol le lim. usi samay mujhe jnyat hua ki mere bhaiyon ne mera diya hua dhan kharch kar dala hai aur unake pas kuchh nahin bacha. maimne is par bhi unase kuchh nahin kaha. us samay mere pas barah hajar rupae the. usmein se adha dhan maimne donon ko de diya aur kaha ki bhaiyo, buddhimani aur dooradarshita isi mein hai ki ham apana adha dhan vyapar mein lagaem aur adha apane ghar mein chhor jaem. agar tum donon ki tarah is bar bhi ham sab ko vyapar mein ghata ho to us samay ghar mein rakha hua dhan kam aega aur ham log use vyapar mein laga kar apana kam chalaemge.

chunanche maimne unhem tina-tin hajar rupae die aur itani hi rashi apane lie rakhi aur baki tin hajar rupae apane ghar mein ek gahara garha khodakar usmein daba diya. fir hamane vyapar ki vastuem kharidim aur jahaj par savar hokar ek any desh ko nikal gae. ek mahine bad ham kushalatapoorvak ek nagar mein pahumche aur vyapar arambh kiya. hamein vyapar mein bahut labh hua. fir hamane us desh ki bahuta-si achchhi vastuem apane desh mein bechane ke mantavy se mol lim.

jab ham us sthan par lena-den kar chuke aur jahaj par vapas ane ke lie taiyar hue to ek atyant sundar stri fate-purane kapare pahane hue mere samane ai. usane jamin par girakar mujhe salam kiya, mera hath chooma aur mujhase nivedan kiya ki mere sath vivah kar lo. maimne is bat ko uchit n samajha aur inakar kar diya. lekin vah giragirati aur minnatem karati rahi. ant mein mujhe usaki nirdhanata par daya a gai aur maimne usaki prarthana svikar kar ke usake sath vidhivat vivah kar liya aur use apane sath jahaj par charha liya. maimne raste mein dekha ki vah keval sundari hi nahin, atyant buddhimati bhi hai. is karan maim usase bahut prem karane laga.

kintu mere is saubhagy ko dekhakar mere donon bhai jal mare aur meri jan ke dushman ho gae. unaka vidvesh yahan tak barha ki ek rat jab ham donon so rahe the unhomne hamein samudr mein fenk diya. meri patni mein jaise koi alaulik shakti thi. jyon hi ham donon samudr mein gire vah mujhe ek dvip par le gai. jab prabhat hua to usane mujhe bataya ki mere karan hi tumhari jan bachi hai, maim vastav mein pari ham, jab tum jahaj par charhane ke lie taiyar ho rahe the to maim tumhare yauvan aur saundary ko dekhakar tum par mohit ho gai thi aur tumhare sath pranay sootr mein bamdhana chahati thi; maim tumhari sahridayata ki pariksha bhi lena chahati thi isalie maim fate-purane kapare pahan kar bhikhariniyon ki bhanti tumhare samane ai; mujhe is bat ki bari prasannata hui ki tum ne meri ichchha poori ki; tum ne mere sath jo upakar kiya hai us se maim urin hona chahati hoon kintu maim tumhare bhaiyon par atyant kupit hoon aur unhem jita n chhoroomgi.

usaki batem sunakar mujhe ghor ashchary hua. maimne usaka bara ehasan mana aur atyant dinatapoorvak kaha ki tum mere bhaiyon ko jan se n maro; yadyapi unhomne mujhe bara kasht pahumchaya hai tathapi maim yah nahin chahata ki unhem aisa kathor dand diya jae. maim jitana hi apane bhaiyon ki sifarish karata tha utana hi pari ka krodh un par barhata jata tha. vah kahane lagi ki maim yahan se urakar jaoomgi aur un dushton samet unake jahaj ko dubo doomgi. maimne fir usaki khushamad ki aur use parameshvar ki saugandh dekar kaha ki tum unhem itana kara dand n dena, sajjanon ka kam yahi hai ki ve burai ke badale bhalai karem; tum apane krodh ko thanda karo aur yadi tum unhem dand hi dena chaho to mrityu dand ke atirikt jo dand chaho de do.

maim use is tarah samajha-bujha aur mana raha tha ki usane ek kshan mein mujhe urakar mere makan ki chhat par pahumcha diya aur svayam antardhyan ho gai. maim chhat se utarakar ghar ke andar aya. fir maimne garhe se apane dabae hue tin hajar rupae nikale aur dukan mein jakar fir karobar karane laga. jab maim dukan se ghar ko vapas aya to mujhe yah dekhakar ashchary hua ki makan ke andar do kale kutte maujood hain. mujhe dekhakar ve dum hilate hue mere pas ae aur mere pamvon par sar rakh kar lotane lage.

usi samay vah pari mere ghar mein ai aur mujhase boli ki in kutton ko dekh kar ghabarana nahin, ye tumhare donon bhai hain. yah sunakar mera to khoon hi sookh gaya. maimne dukhi hokar pari se poochha ki ye kutte kaise ban gae. usane kaha, meri ek bahan hai jisane mere kahane par tumhare jahaj ko mala-asabab samet dubo diya aur tumhare bhaiyon ko das varsh ke lie kutta bana diya. yah kahakar pari antardhyan ho gai. jab das varsh vyatit ho gae to maim apane bhaiyon ko sath lekar idhar a nikala aur is vyapari tatha is hirani vale vriddh ko dekhakar yahan ruk gaya. yahi meri Kahani hai. he daityaraj, ap ko yah Kahani adbhut lagi ya nahin?

daity ne kaha, vastav mein teri apabiti bari adabhut hai; maimne vyapari ke aparadh ka doosara tihai bhag bhi maf kar diya. is par tisare boorhe ne in donon ki tarah daity se kaha ki ab maim bhi apana vrittant ap se kah raha hoom. yadi ap ise bhi adbhut paem to kripaya vyapari ke aparadh ka baki tihai bhag bhi kshama kar dem. daity ne yah bat svikar ki.

Advertisement