Alif Laila Kahani teesra budha aur uska khachchar तीसरे बूढ़े और उसके खच्चर की कहानी

Advertisement

Alif Laila Kahani teesra budha aur uska khachchar अलिफ लैला की कहानी तीसरे बूढ़े और उसके खच्चर

तीसरे बूढ़े ने कहना शुरू किया : ‘हे दैत्य सम्राट, यह खच्चर मेरी पत्नी है। मैं व्यापारी था। एक बार मैं व्यापार के लिए परदेश गया। जब मैं एक वर्ष बाद घर लौटकर आया तो मैंने देखा कि मेरी पत्नी एक हब्शी गुलाम के पास बैठी हास-विलास और प्रेमालाप कर रही है। यह देखकर मुझे अत्यंत आश्चर्य और क्रोध हुआ और मैंने चाहा कि उन दोनों को दंड दूँ। तभी मेरी पत्नी एक पात्र में जल ले आई और उस पर एक मंत्र फूँक कर उसने मुझ पर अभिमंत्रित जल छिड़क दिया जिससे मैं कुत्ता बन गया। पत्नी ने मुझे घर से भगा दिया और फिर अपने हास-विलास में लग गई।

‘मैं इधर-उधर घूमता रहा फिर भूख से व्याकुल होकर एक कसाई की दुकान पर पहुँचा और उसकी फेंकी हुई हड्डियाँ उठाकर खाने लगा। कुछ दिन तक मैं ऐसा ही करता रहा। फिर एक दिन कसाई के साथ उसके घर जा पहुँचा। कसाई की पुत्री मुझे देखकर अंदर चली गई और बहुत देर तक बाहर नहीं निकली। कसाई ने कहा, तू अंदर क्या कर रही है, बाहर क्यों नहीं आती? लड़की बोली, मैं अपरिचित पुरुष के सामने कैसे जाऊँ? कसाई ने इधर-उधर देखकर कहा कि यहाँ तो कोई अपरिचित पुरुष नहीं दिखाई देता, तू किस पुरुष की बात कर रही है?

Advertisement

‘लड़की ने कहा, यह कुत्ता जो तुम्हारे साथ घर में आया है तुम्हें इसकी कहानी मालूम नहीं है। यह आदमी है। इसकी पत्नी जादू करने में पारंगत है। उसी ने मंत्र शक्ति से इसे कुत्ता बना दिया है। अगर तुम्हें इस बात पर विश्वास न हो मैं तुरंत ही इसे मनुष्य बना कर दिखा सकती हूँ। कसाई बोला, भगवान के लिए सो ही कर। तू इसे मनुष्य बना दे ताकि यह लोक-परलोक दोनों का धर्म संचित करे।

‘यह सुन कर वह लड़की एक पात्र में जल लेकर अंदर से आई और जल को अभिमंत्रित करके मुझ पर छिड़का और बोली, तू इस देह को छोड़ दे और अपने पूर्व रूप में आ जा। उसके इतना कहते ही मैं दुबारा मनुष्य के रूप में आ गया और लड़की फिर परदे के अंदर चली गई। मैंने उसके उपकार से अभिभूत होकर कहा, हे भाग्यवती, तूने मेरा जो उपकार किया है उससे तुझे लोक-परलोक का सतत सुख प्राप्त हो। अब मैं चाहता हूँ कि मेरी पत्नी को भी कुछ ऐसा ही दंड मिले।

‘यह सुनकर लड़की ने अपने पिता को अंदर बुलाया और उसके हाथ थोड़ा अभिमंत्रित जल बाहर भिजवाकर बोली, तू इस जल को अपनी पत्नी पर छिड़क देना। फिर तू उसे जो भी देह देना चाहे उस पशु का नाम लेकर स्त्री से कहना कि तू यह हो जा। वह उसी पशु की देह धारण कर लेगी। मैं उस जल को अपने घर ले गया। उस समय मेरी पत्नी सो रही थी। इससे मुझे काम करने का अच्छा मौका मिल गया। मैंने अभिमंत्रित जल के कई छींटे उसके मुँह पर मारे और कहा, तू स्त्री की देह छोड़कर खच्चर बन जा। वह खच्चर बन गई और तब से मैं इसी रूप में अपने साथ लिए घूमता हूँ।’

शहरजाद ने कहा – बादशाह सलामत, जब तीसरा वृद्ध अपनी कहानी कह चुका तो दैत्य को बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने खच्चर से पूछा कि क्या यह बात सच है जो यह बूढ़ा कहता है? खच्चर ने सिर हिला कर संकेत दिया कि बात सच्ची है। तत्पश्चात दैत्य ने व्यापारी के अपराध का बचा हुआ तिहाई भाग भी क्षमा कर दिया और उसे बंधनमुक्त कर दिया। उसने व्यापारी से कहा, तुम्हारी जान आज इन्हीं तीन वृद्ध जनों के कारण बची है। यदि ये लोग तुम्हारी सहायता न करते तो तुम आज मारे ही गए थे। अब तुम इन तीनों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करो। यह कहने के बाद दैत्य अंतर्ध्यान हो गया। व्यापारी उन तीनों के चरणों में गिर पड़ा। वे लोग उसे आशीर्वाद देकर अपनी-अपनी राह चले गए और व्यापारी भी घर लौट गया और हँसी-खुशी अपने प्रियजनों के साथ रहकर उसने पूरी आयु भोगी।

शहरजाद ने इतना कहने के बाद कहा, ‘मैंने जो यह कहानी कही है इससे भी अच्छी एक कहानी जानती हूँ जो एक मछुवारे की है।’ बादशाह ने इस पर कुछ नहीं कहा लेकिन दुनियाजाद बोली, ‘बहन, अभी तो कुछ रात बाकी है। तुम मछुवारे की कहानी भी शुरू कर दो। मुझे आशा है कि बादशाह सलामत उस कहानी को सुनकर भी प्रसन्न होंगे।’ शहरयार ने वह कहानी सुनने की स्वीकृति भी दे दी। शहरजाद ने मछुवारे की कहानी इस प्रकार आरंभ की।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif Laila ki kahani – Tisare boodhe aur usake khachchar ki Kahani

tisare boorhe ne kahana shuroo kiya : he daity samrat, yah khachchar meri patni hai. maim vyapari tha. ek bar maim vyapar ke lie paradesh gaya. jab maim ek varsh bad ghar lautakar aya to maimne dekha ki meri patni ek habshi gulam ke pas baithi hasa-vilas aur premalap kar rahi hai. yah dekhakar mujhe atyant ashchary aur krodh hua aur maimne chaha ki un donon ko dand doom. tabhi meri patni ek patr mein jal le ai aur us par ek mantr foomk kar usane mujh par abhimantrit jal chhirak diya jisase maim kutta ban gaya. patni ne mujhe ghar se bhaga diya aur fir apane hasa-vilas mein lag gai.

maim idhara-udhar ghoomata raha fir bhookh se vyakul hokar ek kasai ki dukan par pahumcha aur usaki fenki hui haddiyam uthakar khane laga. kuchh din tak maim aisa hi karata raha. fir ek din kasai ke sath usake ghar ja pahumcha. kasai ki putri mujhe dekhakar andar chali gai aur bahut der tak bahar nahin nikali. kasai ne kaha, too andar kya kar rahi hai, bahar kyon nahin ati? laraki boli, maim aparichit purush ke samane kaise jaoom? kasai ne idhara-udhar dekhakar kaha ki yahan to koi aparichit purush nahin dikhai deta, too kis purush ki bat kar rahi hai?

laraki ne kaha, yah kutta jo tumhare sath ghar mein aya hai tumhem isaki Kahani maloon nahin hai. yah adami hai. isaki patni jadoo karane mein parangat hai. usi ne mantr shakti se ise kutta bana diya hai. agar tumhem is bat par vishvas n ho maim turant hi ise manushy bana kar dikha sakati hoom. kasai bola, bhagavan ke lie so hi kara. too ise manushy bana de taki yah loka-paralok donon ka dharm sanchit kare.

yah sun kar vah laraki ek patr mein jal lekar andar se ai aur jal ko abhimantrit karake mujh par chhiraka aur boli, too is deh ko chhor de aur apane poorv roop mein a ja. usake itana kahate hi maim dubara manushy ke roop mein a gaya aur laraki fir parade ke andar chali gai. maimne usake upakar se abhibhoot hokar kaha, he bhagyavati, toone mera jo upakar kiya hai usase tujhe loka-paralok ka satat sukh prapt ho. ab maim chahata hoon ki meri patni ko bhi kuchh aisa hi dand mile.

yah sunakar laraki ne apane pita ko andar bulaya aur usake hath thora abhimantrit jal bahar bhijavakar boli, too is jal ko apani patni par chhirak dena. fir too use jo bhi deh dena chahe us pashu ka nam lekar stri se kahana ki too yah ho ja. vah usi pashu ki deh dharan kar legi. maim us jal ko apane ghar le gaya. us samay meri patni so rahi thi. isase mujhe kam karane ka achchha mauka mil gaya. maimne abhimantrit jal ke kai chhinte usake mumh par mare aur kaha, too stri ki deh chhorakar khachchar ban ja. vah khachchar ban gai aur tab se maim isi roop mein apane sath lie ghoomata hoom.

shaharajad ne kaha – badshah salamat, jab tisara vriddh apani Kahani kah chuka to daity ko bara ashchary hua. usane khachchar se poochha ki kya yah bat sach hai jo yah boorha kahata hai? khachchar ne sir hila kar sanket diya ki bat sachchi hai. tatpashchat daity ne vyapari ke aparadh ka bacha hua tihai bhag bhi kshama kar diya aur use bandhanamukt kar diya. usane vyapari se kaha, tumhari jan aj inhim tin vriddh janon ke karan bachi hai. yadi ye log tumhari sahayata n karate to tum aj mare hi gae the. ab tum in tinon ke prati kritajnyata prakat karo. yah kahane ke bad daity antardhyan ho gaya. vyapari un tinon ke charanon mein gir para. ve log use ashirvad dekar apani-apani rah chale gae aur vyapari bhi ghar laut gaya aur hamsi-khushi apane priyajanon ke sath rahakar usane poori ayu bhogi.

shaharajad ne itana kahane ke bad kaha, maimne jo yah Kahani kahi hai isase bhi achchhi ek Kahani janati hoon jo ek machhuvare ki hai. badshah ne is par kuchh nahin kaha lekin duniyajad boli, bahan, abhi to kuchh rat baki hai. tum machhuvare ki Kahani bhi shuroo kar do. mujhe asha hai ki badshah salamat us Kahani ko sunakar bhi prasann honge. shaharayar ne vah Kahani sunane ki svikriti bhi de di. shaharajad ne machhuvare ki Kahani is prakar arambh ki.

Advertisement