Alif Laila Kahani Vyapari aur daitya व्यापारी और दैत्य की कहानी

Advertisement

अलिफ लैला की कहानी व्यापारी और दैत्य की कहानी

प्राचीन काल में एक अत्यंत धनी व्यापारी बहुत-सी वस्तुओं का कारोबार किया करता था। यद्यपि प्रत्येक स्थान पर उसकी कोठियाँ, गुमाश्ते और नौकर-चाकर रहते थे तथापि वह स्वयं भी व्यापार के लिए देश-विदेश की यात्रा किया करता था। एक बार उसे किसी विशेष कार्य के लिए अन्य स्थान पर जाना पड़ा। वह अकेला घोड़े पर बैठ कर चल दिया। गंतव्य स्थान पर खाने-पीने को कुछ नहीं मिलता था, इसलिए उसने एक खुर्जी में कुलचे और खजूर भर लिए। काम पूरा होने पर वह वापस लौटा। चौथे दिन सवेरे अपने मार्ग से कुछ दूर सघन वृक्षों के समीप एक निर्मल तड़ाग देखकर उस की विश्राम करने की इच्छा हुई। वह घोड़े से उतरा और तालाब के किनारे बैठ कर कुलचे और खजूर खाने लगा। जब पेट भर गया तो उसने जगह साफ करने के लिए खजूरों की गुठलियाँ इधर-उधर फेंक दीं और आराम करने लगा।

इतने में उसे एक महा भयंकर दैत्य अपनी ओर बड़ी-सी तलवार खींचे आता दिखाई दिया। पास आकर दैत्य क्रोध से गरज कर बोला, ‘इधर आ। तुझे मारूँगा।’ व्यापारी उसका भयानक रूप देखकर और गर्जन सुनकर काँपने लगा और बोला, ‘स्वामी, मैंने क्या अपराध किया है कि आप मेरी हत्या कर रहे हैं?’ दैत्य ने कहा, ‘तूने मेरे पुत्र की हत्या की है, मैं तेरी हत्या करूँगा।’

Advertisement

व्यापारी ने कहा, ‘मैने तो आपके पुत्र को देखा भी नहीं, मैंने उसे मारा किस तरह?’

दैत्य बोला, ‘क्या तू अपना रास्ता छोड़कर इधर नहीं आया? क्या तूने अपनी झोली से निकाल कर खजूर नहीं खाए और उनकी गुठलियाँ इधर-उधर नहीं फेंकीं?’ व्यापारी ने कहा, ‘आपकी बातें ठीक हैं। मैंने ऐसा ही किया है।’ दैत्य ने कहा, ‘जब तू गुठलियाँ फेंक रहा था तो इतनी जोर से फेंक रहा था कि एक गुठली मेरे बेटे की आँख में लगी और बेचारे का उसी समय प्राणांत हो गया। अब मैं तुझे मारूँगा।’

Advertisement
youtube shorts kya hai

व्यापारी बोला, ‘स्वामी मैंने आप के पुत्र को जान-बूझकर तो मारा नहीं है। फिर मुझ से जो भूल हो गई है उसके लिए मैं आप के पैरों पर गिर कर क्षमा माँगता हूँ।’ दैत्य ने कहा, ‘मैं न दया करना जानता हूँ न क्षमा करना। और क्या खुद तुम्हारी शरीयत में नरवध के बदले नरवध की आज्ञा नहीं दी गई है? मैं तुझे मारे बगैर नहीं रहूँगा।’

अलिफ़ लैला की अन्य कहानियाँ भी पढ़ें:
यह कह कर दैत्य ने व्यापारी की बाँह पकड़कर उसे पृथ्वी पर गिरा दिया और उसे मारने के लिए तलवार उठाई। व्यापारी अपने स्त्री-पुत्रों की याद कर-कर के विलाप करने लगा, साथ ही ईश्वर और पवित्रात्माओं की सौगंध दिला-दिला कर दैत्य से अपने प्राणों की भिक्षा माँगने लगा। दैत्य ने यह सोच कर हाथ रोक लिया कि जब यह थक कर हाथ-पाँव पटकना बंद कर देगा तो इसे मारूँगा। लेकिन व्यापारी ने रोना-पीटना बंद ही नहीं किया। अंत में दैत्य ने उससे कहा, ‘तू बेकार ही अपने को और मुझे तंग कर रहा है। तू अगर आँसू की जगह आँखों से खून बहाए तो भी मैं तुझे मार डालूँगा।’

व्यापारी ने कहा, ‘कितने दुख की बात है कि आपको किसी भाँति मुझ पर दया नहीं आती। आप एक दीन, निष्पाप मनुष्य को अन्यायपूर्वक मारे डाल रहे हैं और मेरे रोने- गिड़गिड़ाने का आप पर कोई प्रभाव नहीं होता। मुझे तो अब भी विश्वास नहीं होता कि आप मुझे मार डालेंगे।’ दैत्य ने कहा, ‘नहीं। निश्चय ही मैं तुम्हें मार डालूँगा।’

इतने में सवेरा हो गया। शहरजाद इतनी कहानी कह कर चुप हो गई। उसने सोचा, बादशाह के नमाज पढ़ने का समय हो गया है और उसके बाद वह दरबार को जाएगा। दुनियाजाद ने कहा, ‘बहन, यह कितनी अच्छी कहानी थी।’ शहरजाद बोली, ‘तुम्हें यह कहानी पसंद है? अभी तो कुछ नहीं, आगे तो और भी आश्चर्यप्रद है। तुम सुनोगी तो और भी खुश होगी। अगर बादशाह सलामत ने आज मुझे जीवित रहने दिया और फिर कहानी कहने की अनुमति दी तो कल रात मैं तुम्हें शेष कथा सुनाऊँगी, वरना भगवान के पास चली जाऊँगी।’

शहरयार को भी यह कहानी बेहद पसंद आई थी। उसने विचार किया कि जब तक कहानी पूरी न हो जाए शहरजाद को नहीं मरवाना चाहिए इसलिए उसने उस दिन उसे प्राणदंड देने का इरादा छोड़ दिया। पलँग से उठकर वह नमाज पढ़ने गया और फिर दरबार में जा बैठा। शोक-कातर मंत्री भी उपस्थित था। वह अपनी बेटी का भाग्य सोच कर सारी रात न सोया था। वह प्रतीक्षा में था कि शाही हुक्म हो तो मैं अपनी बेटी को ले जाकर जल्लाद के सुपुर्द करूँ। किंतु उसे यह देख कर आश्चर्य हुआ कि बादशाह ने यह अत्याचारी आदेश नहीं दिया। शहरयार दिन भर राजकाज में व्यस्त रहा और रात को शहरजाद के साथ सो रहा।

एक घड़ी रात रहे दुनियाजाद फिर जागी और उसने बड़ी बहन से कहा कि यदि तुम सोई नहीं तो वह कहानी आगे कहो। शहरयार भी जाग गया और बोला, ‘यह ठीक कहती है। मैं भी व्यापारी और दैत्य की कहानी सुनना चाहता हूँ। तुम कहानी को आगे बढ़ाओ।’

शहरजाद ने फिर कहना शुरू किया :

जब व्यापारी ने देखा कि दैत्य मुझे किसी प्रकार जीवित न छोड़ेगा तो उसने कहा, ‘स्वामी, यदि आपने मुझे वध्य समझ ही लिया है और किसी भाँति भी मुझे प्राण दान देने को तैयार नहीं हैं तो मुझे इतना अवसर तो दीजिए कि मैं घर जाकर अपने स्त्री-पुत्रों से विदा ले लूँ और अपनी संपत्ति अपने उत्तराधिकारियों में बाँट आऊँ ताकि मेरे पीछे उनमें संपत्ति को लेकर लड़ाई-झगड़ा न हो। मैं प्रतिज्ञा करता हूँ कि यह सब करने के बाद मैं इसी स्थान पर पहुँच जाऊँगा। उस समय आप जो ठीक समझें वह मेरे साथ करें।’ दैत्य ने कहा, ‘यदि मैं तुम्हें घर जाने दूँ और तुम वापस न आओ फिर क्या होगा? ‘ व्यापारी बोला, ‘मैं जो कहता हूँ उससे फिरता नहीं। फिर भी यदि आपको विश्वास न हो तो मैं उस भगवान की, जिसने पृथ्वी-आकाश आदि सब कुछ रचा है, सौगंध खाकर कहता हूँ कि मैं घर से इस स्थान पर अवश्य वापस आऊँगा।’ दैत्य ने कहा, ‘तुम्हें कितना समय चाहिए?’ व्यापारी ने कहा, ‘मुझे केवल एक वर्ष की मुहलत चाहिए जिसमें मैं अपनी सारी जाएदाद का प्रबंध कर के आऊँ और मरते समय मुझे कोई चिंता न रहे। मैं प्रतिज्ञा करता हूँ कि वर्षोपरांत मैं इसी स्थान पर आकर स्वयं को आप के सुपुर्द कर दूँगा।’ दैत्य ने कहा, ‘अच्छा, मैं तुम्हें एक वर्ष के लिए जाने दूँगा किंतु तुम यह प्रतिज्ञा ईश्वर को साक्षी देकर करो।’ व्यापारी ने ईश्वर की सौगंध खाकर प्रतिज्ञा दुहराई और दैत्य व्यापारी को उसी तालाब पर छोड़ कर अंतर्ध्यान हो गया। व्यापारी अपने घोड़े पर सवार होकर घर को चल दिया।

रास्ते में व्यापारी की अजीब हालत रही। कभी तो वह इस बात से प्रसन्न होता कि वह अभी तक जीवित है और कभी एक वर्ष बाद की निश्चित मृत्यु पर शोकातुर हो उठता था। जब वह घर पहुँचा तो उसकी पत्नी और बंधु-बांधव उसे देखकर प्रसन्न हुए किंतु वह उन लोगों को देख कर रोने लगा। वे लोग उसके विलाप से समझे कि उसे व्यापार में कोई भारी घाटा हुआ है या कोई और प्रिय वस्तु उसके हाथ से निकल गई है जिससे उसका धैर्य जाता रहा है।

जब व्यापारी का चित्त सँभला और उसके आँसू थमे तो उसकी पत्नी ने कहा, ‘हम लोग तो तुम्हें देखकर प्रसन्न हुए हैं; तुम क्यों इस तरह रो-धो रहे हो?’व्यापारी ने कहा, ‘रोऊँ-धोऊँ नहीं तो और क्या करूँ। मेरी जिंदगी एक ही वर्ष की और है।’ फिर उसने सारा हाल बताया और दैत्य के सामने ईश्वर को साक्षी देकर की गई अपनी प्रतिज्ञा का वर्णन किया। यह सारा हाल सुन कर वे सब भी रोने-पीटने लगे। विशेषतः उसकी पत्नी सिर पीटने और बाल नोचने लगी और उसके लड़के-बच्चे ऊँचे स्वर में विलाप करने लगे। वह दिन रोने-पीटने ही में बीता।

दूसरे दिन से व्यापारी ने अपना सांसारिक कार्य आरंभ कर दिया। उस ने सब से पहले अपने ॠणदाताओं का धन वापस किया। उसने अपने मित्रों को बहुमूल्य भेंटें दीं, फकीरों-साधुओं को जी भर कर दान किया, बहुत-से दास-दासियों को मुक्त किया। उसने अपनी पत्नी को यथेष्ट धन दिया, अवयस्क बेटे-बेटियों के लिए अभिभावक नियुक्त किए और संतानों में संपत्ति को बाँट दिया।

इन सारे प्रबंधों में एक वर्ष बीत गया और वह अपनी प्रतिज्ञा निभाने के लिए दुखी मन से चल दिया। अपने कफन-दफन के खर्च के लिए उसने कुछ रुपया अपने साथ रख लिया। उसके चलते समय सारे घर वाले उससे लिपट कर रोने लगे और कहने लगे कि हमें भी अपने साथ ले चलो ताकि हम भी तुम्हारे साथ प्राण दे दें। व्यापारी ने अपने चित्त को स्थिर किया और उन सब को धैर्य दिलाने के लिए कहने लगा, ‘मैं भगवान की इच्छा के आगे सिर झुका रहा हूँ। तुम लोग भी धैर्य रखो। यह समझ लो कि एक दिन सभी की मृत्यु होनी है। मृत्यु से कोई भी नहीं बच सकता। इसलिए तुम लोग धैर्यपूर्वक अपना काम करो।’

अपने सगे-संबंधियों से विदा लेकर व्यापारी चल दिया और कुछ समय के बाद उस स्थान पर पहुँच गया जहाँ उसने दैत्य से मिलने को कहा था। वह घोड़े से उतरा और तालाब के किनारे बैठ कर दुखी मन से अपने हत्यारे दैत्य की राह देखने लगा। इतने में एक वृद्ध पुरुष एक हिरनी लिए हुए आया और व्यापारी से बोला, ‘तुम इस निर्जन स्थान में कैसे आ गए? क्या तुम नहीं हानते कि बहुत-से मनुष्य धोखे से इसे अच्छा विश्राम स्थल समझते हैं और यहाँ आकर दैत्यों के हाथों भाँति-भाँति के दुख पाते हैं?’ व्यापारी ने कहा, ‘आप ठीक कहते हैं। मैं भी इसी धोखे में पड़ कर एक दैत्य का शिकार होने वाला हूँ।’ यह कह कर उसने बूढ़े को अपना सारा वृत्तांत बता दिया।

बूढ़े ने आश्चर्य से कहा, ‘यह तुमने ऐसी बात बताई जैसी संसार में अब तक किसी ने नहीं सुनी होगी। तुमने ईश्वर की जो सौंगध खाई थी उसे पूरा करने में प्राणों की भी चिंता नहीं की। तुम बड़े सत्यवान हो और तुम्हारी सत्यनिष्ठा की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। अब में यहाँ ठहर कर देखूँगा कि दैत्य तुम्हारे साथ क्या करता है।’

वे आपस में वार्तालाप करने लगे। इतने ही में एक और वृद्ध पुरुष आया जिसके हाथ में रस्सी थी और दो काले कुत्ते उस रस्सी से बँधे हुए थे। वह उन दोनों से उनका हालचाल पूछने लगा। पहले बूढ़े ने व्यापारी का संपूर्ण वृतांत कहा और यह भी कहा कि मैं आगे का हाल-चाल देखने यहाँ बैठा हूँ। दूसरा बूढ़ा भी यह सब सुनकर आश्चर्यचकित हुआ और वहीं बैठकर दोनों से बातें करने लगा।

कुछ समय के उपरांत एक और बूढ़ा एक खच्चर लिए हुए आया और पहले दो बूढ़ों से पूछने लगा कि यह व्यापारी इतना दुखी होकर यहाँ क्यों बैठा है। दोनों ने उस व्यापारी का पूरा हाल कहा। तीसरे वृद्ध पुरुष ने वहाँ ठहरकर इस व्यापार का अंत देखने की इच्छा प्रकट की। अतएव वह भी वहाँ बैठ गया।

अभी तीसरा बूढ़ा अच्छी तरह साँस भी नहीं ले पाया था कि उन चारों व्यक्तियों ने देखा कि सामने के जंगल में एक बड़ा गहन धूम्रपुंज उठ रहा है। वह धुएँ का बादल उनके समीप आकर गायब हो गया। वे लोग आश्चर्य से आँखें मल ही रहे थे कि एक अत्यंत भयानक दैत्य उपस्थित हो गया। उसके हाथ में तलवार थी और उसने व्यापारी से कहा, ‘उठकर इधर आ। मैं तुझे मारूँगा, तून मेरे बेटे को मारा है।’ यह सुन कर व्यापारी और तीनों बूढ़े काँपने लगे और उच्च स्वर में विलाप करने लगे। उन सब के रोने- चिल्लाने से जंगल गूँज उठा। किंतु दैत्य व्यापारी को पकड़कर एक ओर ले ही गया।

हिरनी वाले बूढ़े ने यह देखा और वह दौड़कर दैत्य के पास पहुँचा और बोला, ‘दैत्य महाराज, मैं आपसे कुछ निवेदन करना चाहता हूँ। आप अपने क्रोध पर कुछ देर के लिए संयम रखें। मेरी इच्छा है कि मैं अपनी और इस हिरनी की कहानी आपको सुनाऊँ। किंतु कहानी के लिए एक शर्त है। यदि आप को यह कहानी विचित्र लगे और पसंद आए तो आप इस व्यापारी का एक तिहाई अपराध क्षमा कर दें।’ दैत्य ने कुछ देर तक सोचकर कहा, ‘अच्छा, मुझे तुम्हारी शर्त स्वीकार है।

अलिफ लैला की 64 कहानियों का संकलन

Alif Laila ki kahani vyapari aur daity ki Kahani

shaharajad ne kaha :

prachin kal mein ek atyant dhani vyapari bahuta-si vastuon ka karobar kiya karata tha. yadyapi pratyek sthan par usaki kothiyam, gumashte aur naukara-chakar rahate the tathapi vah svayam bhi vyapar ke lie desha-videsh ki yatra kiya karata tha. ek bar use kisi vishesh kary ke lie any sthan par jana para. vah akela ghore par baith kar chal diya. gantavy sthan par khane-pine ko kuchh nahin milata tha, isalie usane ek khurji mein kulache aur khajoor bhar lie. kam poora hone par vah vapas lauta. chauthe din savere apane marg se kuchh door saghan vrikshon ke samip ek nirmal tarag dekhakar us ki vishram karane ki ichchha hui. vah ghore se utara aur talab ke kinare baith kar kulache aur khajoor khane laga. jab pet bhar gaya to usane jagah saf karane ke lie khajooron ki guthaliyam idhara-udhar fenk dim aur aram karane laga.

itane mein use ek maha bhayankar daity apani or bari-si talavar khinche ata dikhai diya. pas akar daity krodh se garaj kar bola, idhar a. tujhe maroomga. vyapari usaka bhayanak roop dekhakar aur garjan sunakar kampane laga aur bola, svami, maimne kya aparadh kiya hai ki ap meri hatya kar rahe hain? daity ne kaha, toone mere putr ki hatya ki hai, maim teri hatya karoomga.

vyapari ne kaha, maine to apake putr ko dekha bhi nahin, maimne use mara kis taraha?

daity bola, kya too apana rasta chhorakar idhar nahin aya? kya toone apani jholi se nikal kar khajoor nahin khae aur unaki guthaliyam idhara-udhar nahin fenkim? vyapari ne kaha, apaki batem thik hain. maimne aisa hi kiya hai. daity ne kaha, jab too guthaliyam fenk raha tha to itani jor se fenk raha tha ki ek guthali mere bete ki amkh mein lagi aur bechare ka usi samay pranant ho gaya. ab maim tujhe maroomga.

vyapari bola, svami maimne ap ke putr ko jana-boojhakar to mara nahin hai. fir mujh se jo bhool ho gai hai usake lie maim ap ke pairon par gir kar kshama mamgata hoom. daity ne kaha, maim n daya karana janata hoon n kshama karana. aur kya khud tumhari shariyat mein naravadh ke badale naravadh ki ajnya nahin di gai hai? maim tujhe mare bagair nahin rahoomga.

Alif laila ki any Kahaniyam bhi parhem:
yah kah kar daity ne vyapari ki bamh pakarakar use prithvi par gira diya aur use marane ke lie talavar uthai. vyapari apane stri-putron ki yad kara-kar ke vilap karane laga, sath hi ishvar aur pavitratmaon ki saugandh dila-dila kar daity se apane pranon ki bhiksha mamgane laga. daity ne yah soch kar hath rok liya ki jab yah thak kar hatha-pamv patakana band kar dega to ise maroomga. lekin vyapari ne rona-pitana band hi nahin kiya. ant mein daity ne usase kaha, too bekar hi apane ko aur mujhe tang kar raha hai. too agar amsoo ki jagah amkhon se khoon bahae to bhi maim tujhe mar daloomga.

vyapari ne kaha, kitane dukh ki bat hai ki apako kisi bhanti mujh par daya nahin ati. ap ek din, nishpap manushy ko anyayapoorvak mare dal rahe hain aur mere rone- giragirane ka ap par koi prabhav nahin hota. mujhe to ab bhi vishvas nahin hota ki ap mujhe mar dalenge. daity ne kaha, nahin. nishchay hi maim tumhem mar daloomga.

itane mein savera ho gaya. shaharajad itani Kahani kah kar chup ho gai. usane socha, badshah ke namaj parhane ka samay ho gaya hai aur usake bad vah darabar ko jaega. duniyajad ne kaha, bahan, yah kitani achchhi Kahani thi. shaharajad boli, tumhem yah Kahani pasand hai? abhi to kuchh nahin, age to aur bhi ashcharyaprad hai. tum sunogi to aur bhi khush hogi. agar badshah salamat ne aj mujhe jivit rahane diya aur fir Kahani kahane ki anumati di to kal rat maim tumhem shesh katha sunaoomgi, varana bhagavan ke pas chali jaoomgi.

shaharayar ko bhi yah Kahani behad pasand ai thi. usane vichar kiya ki jab tak Kahani poori n ho jae shaharajad ko nahin maravana chahie isalie usane us din use pranadand dene ka irada chhor diya. palamg se uthakar vah namaj parhane gaya aur fir darabar mein ja baitha. shoka-katar mantri bhi upasthit tha. vah apani beti ka bhagy soch kar sari rat n soya tha. vah pratiksha mein tha ki shahi hukm ho to maim apani beti ko le jakar jallad ke supurd karoom. kintu use yah dekh kar ashchary hua ki badshah ne yah atyachari adesh nahin diya. shaharayar din bhar rajakaj mein vyast raha aur rat ko shaharajad ke sath so raha.

ek ghari rat rahe duniyajad fir jagi aur usane bari bahan se kaha ki yadi tum soi nahin to vah Kahani age kaho. shaharayar bhi jag gaya aur bola, yah thik kahati hai. maim bhi vyapari aur daity ki Kahani sunana chahata hoom. tum Kahani ko age barhao.

shaharajad ne fir kahana shuroo kiya :

jab vyapari ne dekha ki daity mujhe kisi prakar jivit n chhorega to usane kaha, svami, yadi apane mujhe vadhy samajh hi liya hai aur kisi bhanti bhi mujhe pran dan dene ko taiyar nahin hain to mujhe itana avasar to dijie ki maim ghar jakar apane stri-putron se vida le loon aur apani sampatti apane uttaradhikariyon mein bamt aoon taki mere pichhe unamein sampatti ko lekar larai-jhagara n ho. maim pratijnya karata hoon ki yah sab karane ke bad maim isi sthan par pahumch jaoomga. us samay ap jo thik samajhem vah mere sath karem. daity ne kaha, yadi maim tumhem ghar jane doon aur tum vapas n ao fir kya hoga? vyapari bola, maim jo kahata hoon usase firata nahin. fir bhi yadi apako vishvas n ho to maim us bhagavan ki, jisane prithvi-akash adi sab kuchh racha hai, saugandh khakar kahata hoon ki maim ghar se is sthan par avashy vapas aoomga. daity ne kaha, tumhem kitana samay chahie? vyapari ne kaha, mujhe keval ek varsh ki muhalat chahie jisamein maim apani sari jaedad ka prabandh kar ke aoon aur marate samay mujhe koi chinta n rahe. maim pratijnya karata hoon ki varshoparant maim isi sthan par akar svayam ko ap ke supurd kar doomga. daity ne kaha, achchha, maim tumhem ek varsh ke lie jane doomga kintu tum yah pratijnya ishvar ko sakshi dekar karo. vyapari ne ishvar ki saugandh khakar pratijnya duharai aur daity vyapari ko usi talab par chhor kar antardhyan ho gaya. vyapari apane ghore par savar hokar ghar ko chal diya.

raste mein vyapari ki ajib halat rahi. kabhi to vah is bat se prasann hota ki vah abhi tak jivit hai aur kabhi ek varsh bad ki nishchit mrityu par shokatur ho uthata tha. jab vah ghar pahumcha to usaki patni aur bandhu-bandhav use dekhakar prasann hue kintu vah un logon ko dekh kar rone laga. ve log usake vilap se samajhe ki use vyapar mein koi bhari ghata hua hai ya koi aur priy vastu usake hath se nikal gai hai jisase usaka dhairy jata raha hai.

jab vyapari ka chitt sambhala aur usake amsoo thame to usaki patni ne kaha, ham log to tumhem dekhakar prasann hue hain; tum kyon is tarah ro-dho rahe ho?vyapari ne kaha, rooom-dhooon nahin to aur kya karoom. meri jindagi ek hi varsh ki aur hai. fir usane sara hal bataya aur daity ke samane ishvar ko sakshi dekar ki gai apani pratijnya ka varnan kiya. yah sara hal sun kar ve sab bhi rone-pitane lage. visheshatah usaki patni sir pitane aur bal nochane lagi aur usake larake-bachche oomche svar mein vilap karane lage. vah din rone-pitane hi mein bita.

doosare din se vyapari ne apana samsarik kary arambh kar diya. us ne sab se pahale apane rinadataon ka dhan vapas kiya. usane apane mitron ko bahumooly bhentem dim, fakirom-sadhuon ko ji bhar kar dan kiya, bahuta-se dasa-dasiyon ko mukt kiya. usane apani patni ko yathesht dhan diya, avayask bete-betiyon ke lie abhibhavak niyukt kie aur santanon mein sampatti ko bamt diya.

in sare prabandhon mein ek varsh bit gaya aur vah apani pratijnya nibhane ke lie dukhi man se chal diya. apane kafana-dafan ke kharch ke lie usane kuchh rupaya apane sath rakh liya. usake chalate samay sare ghar vale usase lipat kar rone lage aur kahane lage ki hamein bhi apane sath le chalo taki ham bhi tumhare sath pran de dem. vyapari ne apane chitt ko sthir kiya aur un sab ko dhairy dilane ke lie kahane laga, maim bhagavan ki ichchha ke age sir jhuka raha hoom. tum log bhi dhairy rakho. yah samajh lo ki ek din sabhi ki mrityu honi hai. mrityu se koi bhi nahin bach sakata. isalie tum log dhairyapoorvak apana kam karo.

apane sage-sambandhiyon se vida lekar vyapari chal diya aur kuchh samay ke bad us sthan par pahumch gaya jahan usane daity se milane ko kaha tha. vah ghore se utara aur talab ke kinare baith kar dukhi man se apane hatyare daity ki rah dekhane laga. itane mein ek vriddh purush ek hirani lie hue aya aur vyapari se bola, tum is nirjan sthan mein kaise a gae? kya tum nahin hanate ki bahuta-se manushy dhokhe se ise achchha vishram sthal samajhate hain aur yahan akar daityon ke hathon bhanti-bhanti ke dukh pate hain? vyapari ne kaha, ap thik kahate hain. maim bhi isi dhokhe mein par kar ek daity ka shikar hone vala hoom. yah kah kar usane boorhe ko apana sara vrittant bata diya.

boorhe ne ashchary se kaha, yah tumane aisi bat batai jaisi sansar mein ab tak kisi ne nahin suni hogi. tumane ishvar ki jo saungadh khai thi use poora karane mein pranon ki bhi chinta nahin ki. tum bare satyavan ho aur tumhari satyanishtha ki jitani prashamsa ki jae kam hai. ab mein yahan thahar kar dekhoomga ki daity tumhare sath kya karata hai.

ve apas mein vartalap karane lage. itane hi mein ek aur vriddh purush aya jisake hath mein rassi thi aur do kale kutte us rassi se bamdhe hue the. vah un donon se unaka halachal poochhane laga. pahale boorhe ne vyapari ka sampoorn vritant kaha aur yah bhi kaha ki maim age ka hala-chal dekhane yahan baitha hoom. doosara boorha bhi yah sab sunakar ashcharyachakit hua aur vahim baithakar donon se batem karane laga.

kuchh samay ke uparant ek aur boorha ek khachchar lie hue aya aur pahale do boorhon se poochhane laga ki yah vyapari itana dukhi hokar yahan kyon baitha hai. donon ne us vyapari ka poora hal kaha. tisare vriddh purush ne vaham thaharakar is vyapar ka ant dekhane ki ichchha prakat ki. ataev vah bhi vaham baith gaya.

abhi tisara boorha achchhi tarah sams bhi nahin le paya tha ki un charon vyaktiyon ne dekha ki samane ke jangal mein ek bara gahan dhoomrapunj uth raha hai. vah dhuem ka badal unake samip akar gayab ho gaya. ve log ashchary se amkhem mal hi rahe the ki ek atyant bhayanak daity upasthit ho gaya. usake hath mein talavar thi aur usane vyapari se kaha, uthakar idhar a. maim tujhe maroomga, toon mere bete ko mara hai. yah sun kar vyapari aur tinon boorhe kampane lage aur uchch svar mein vilap karane lage. un sab ke rone- chillane se jangal goomj utha. kintu daity vyapari ko pakarakar ek or le hi gaya.

hirani vale boorhe ne yah dekha aur vah daurakar daity ke pas pahumcha aur bola, daity maharaj, maim apase kuchh nivedan karana chahata hoom. ap apane krodh par kuchh der ke lie samyam rakhem. meri ichchha hai ki maim apani aur is hirani ki Kahani apako sunaoom. kintu Kahani ke lie ek shart hai. yadi ap ko yah Kahani vichitr lage aur pasand ae to ap is vyapari ka ek tihai aparadh kshama kar dem. daity ne kuchh der tak sochakar kaha, achchha, mujhe tumhari shart svikar hai.

Advertisement