Advertisement

अन्यत्र शब्द में प्रत्यय और मूल शब्द

अन्यत्र शब्द में प्रत्यय बताइये।

अन्य + त्र = अन्यत्र
अतः ‘अन्यत्र’ में ‘त्र’ प्रत्यय और ‘अन्य’ मूल शब्द है।

anyatra shabd mein kaun sa pratyay aur mool shabd hai?

anyatra mein Pratyay hai – त्र aur mool shabd hai – अन्य

Advertisement

अन्यत्र का वाक्य प्रयोग

भगवान पर भक्ति रखने वाले का मन भगवत कृपा के अतिरिक्त अन्यत्र कहीं नहीं लगता।
मैं यहां से अन्यत्र जाना चाहता हूं।

यहाँ पर मूल शब्द ‘अन्य’ एक संज्ञा-विशेषण है जिसमें तद्धित प्रत्यय (संस्कृत) ‘त्र’ जुडने से बना शब्द ‘अन्यत्र’ तद्धितान्त शब्द कहा जाएगा।

प्रत्यय वे शब्द होते हैं दूसरे शब्द के अंत में जुड़ कर उस शब्द के अर्थ में अपने अनुरूप परिवर्तन उत्पन्न कर देते हैं और अर्थ भी बदल देते हैं।

प्रत्यय के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए विद्यार्थी इस लेख को पढ़ें:

प्रत्यय की परिभाषा, भेद और उदाहरण

अन्यत्र शब्द में प्रत्यय को लेकर विभिन्न परीक्षाओं में अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं जैसे – अन्यत्र शब्द में कौन सा प्रत्यय है? अन्यत्र में प्रत्यय और मूल शब्द लिखिए अन्यत्र में मूल शब्द क्या है? अन्यत्र शब्द में प्रयुक्त मूल शब्द लिखिए anyatra mein kaun sa pratyay hai?, उपसर्ग और प्रत्यय में अंतर बताइये आदि
Pratyay in Hindi for class 5 CBSE

Pratyay in Hindi for class 6 CBSE
Pratyay in Hindi for class 7 CBSE
Pratyay in Hindi for class 8 CBSE
Pratyay in Hindi for class 9 CBSE
Pratyay in Hindi for class 10 CBSE


यह भी पढ़ें –

उपसर्ग की परिभाषा, भेद उदाहरण

परीक्षाओं में अक्सर पूछे जाने वाले 10 IMPORTANT प्रत्यय के शब्द

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here