अपठित गद्यांश – पतंग की कहानी

Apathit Gadyansh with Answers in Hindi unseen passage 

पतंग के जन्म के बारे में ठीक-ठीक जानकारी तो इतिहास में नहीं मिलती, पर कुछ ठोस जानकारी के हिसाब से करीब दो हजार वर्ष पूर्व चीन में किसी किसान ने मजाक-मजाक में अपनी टोपी में डोरी बाँधकर हवा में उछाल दिया था, और वह दुनिया की पहली पतंग बन गई. बाद में कुछ चीनी व्यापारियो से होते हुए यह विश्वभर में प्रचलित हो गई.

आज भारत के गुजरात राज्य के अहमदाबाद शहर में होने वाले काईट उत्सव से हर कोई परिचित है. इस महोत्सव में भाग लेने के लिए हर वर्ष विश्व के कोने-कोने से प्रतियोगी भारत आते हैं. इन दिनों गुजरात की छठा ही निराली होती है. आसमान में उडती रंग-बिरंगी पतंगें मानो जादू सा कर देतीं हैं, हर कोई इस उत्सव में खिंचा चला आता है. पूरा आसमान विभिन्न आकारों की रंग-बिरंगी पतंगों से भर जाता है.

दो हजार ग्यारह में देश की राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर पतंगबाजी आईपीएल दो दिन हुआ था. पहले दिन देश के कोने-कोने से आये खिलाड़ी पेंच लड़ाते नजर आये दूसरा दिन आम लोगों के नाम हुआ. इस मुकाबले में महिलाओं को भी हुनर दिखने का मौक़ा मिला. वैसे तो भारत में बच्चे गर्मियों की छुट्टी में पतंग उड़ाते हैं किन्तु कई राज्यों में मकर-संक्रांति, छब्बीस-जनवरी एवं पंद्रह अगस्त को पतंग उड़ाई जाती हैं. ऊंचीं उड़ती पतंग खिलाड़ियों के मन में सकारात्मक ऊर्जा प्रवाहित करती है तो नकारात्मकता स्वयं दूर हो जाती है.

पतंगबाजी मानव को कल्पनाशील भी बनाती है. जिस प्रकार पतंग विपरीत हवा में आसमान में ऊँची उड़ती है, वैसे ही विपरीत परिस्थितियों में ही मनुष्य के धैर्य तथा साहस की परीक्षा होती है. पतंगबाजी से पूरे शरीर का व्यायाम भी हो जाता है.

उपर्युक्त अपठित गद्यांश के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

प्रश्न 1- दुनिया की पहली पतंग के बारे में बताइए.

प्रश्न 2-काईट उत्सव कहाँ मनाया जाता है?

प्रशन 3- भारत में पतंग कब-कब उड़ाई जाती है?

प्रश्न 4-आसमान में उड़ती पतंग हमें क्या सन्देश देती है?

प्रश्न 5- स्वविवेक से बताइए कि पतंगबाजी से हमारे पूरे शरीर का व्यायाम किस प्रकार होता है?

6. उपर्युक्त गद्यांश का एक उपयुक्त शीर्षक दीजिए।

उत्तर

उत्तर 1- सही जानकारी तो नहीं है किन्तु दो हजार वर्ष पूर्व चीन में किसी किसान ने मजाक-मजाक में अपनी टोपी में डोरी बाँधकर हवा में उछाल दिया था, और वह दुनिया की पहली पतंग बन गई.

उत्तर 2-भारत के गुजरात राज्य के अहमदाबाद शहर में काईट उत्सव मनाया जाता है.

उत्तर 4- भारत में मकर-संक्रांति, छब्बीस-जनवरी एवं पंद्रह अगस्त को पतंग उड़ाई जाती है.

उत्तर 5- जब हम पतंग उड़ाते हैं तब हमारे दोनों हाथ,कंधे,पैर, गर्दन सबका सहयोग रहता है. सब पतंग को ऊँचा उड़ाने के लिए प्रयत्नशील रहते हैं. इस प्रकार पतंगबाजी से हमारे पूरे शरीर का व्यायाम होता है.

6. गद्यांश का एक शीर्षक  – पतंग की कहानी

अपठित गद्यांश के 50 उदाहरण

  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 12
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 11
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 10
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 9
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 8
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 7
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 6
  • Apathit Gadyansh with Answers in Hindi Class 5