Advertisement

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने अपनी तरफ से बयान जारी करके कहा की ‘प्रोफेसर राजन बहुत से शिक्षा से जुड़े कामों से जुड़े हुए हैं.

उनका शिकागो यूनिवर्सिटी में पूर्णकालिक पढ़ाने की नौकरी छोड़ने का कोई प्लान नहीं है.’इसीलिए उन्होने आम आदमी पार्टी का वो ऑफर ठुकरा दिया है, जिसमें पार्टी ने उनको राज्यसभा भेजने का प्रस्ताव रखा था.

अभी फिलहाल दिल्ली से राज्यसभा की तीन सीटों पर कांग्रेस के जनार्दन द्विवेदी, डा. कर्ण सिंह और परवेज हाशमी सांसद हैं. इनका कार्यकाल भी अगले साल जनवरी में खत्म हो रहा है. इन सीटों पर आप के तीनों उम्मीदवारों की जीत तय है.

दिल्ली से 3 राज्यसभा सांसद मनोनीत होने है और तीनों ही सीट आम आदमी पार्टी को तय करनी है.  सूत्रों के मुताबिक अलग-अलग क्षेत्रो के विशेषज्ञों को उम्मीदवार बनाने पर गंभीरता से विचार चल रहा है.इन्हीं में से एक नाम आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का भी था.

Advertisement

वही दूसरी ओर पार्टी के बड़े नेता कुमार विश्वास खुलकर अपने लिए राज्यसभा सीट मांग चुके हैं. अगर पार्टी बाहर के लोगों को मनोनीत करने का फैसला लेती है. तो कुमार विश्वास का खुद के लिए दबाव बनाना मुश्किल हो जाएगा.

राज्यसभा की सदस्यता के लिये आप के किसी नेता को मैदान में नहीं उतारने के फैसले से संसद के उच्च सदन में पहुंचने का पार्टी नेता कुमार विश्वास का दावा भी निष्प्रभावी हो गया है. इससे पार्टी के अंदर राज्यसभा की सदस्यता को लेकर मचा घमासान भी खत्म हो जायेगा.

Advertisement