अशुद्धि शोधन Ashudhi Shodhan for Class 7 CBSE (Shudh Ashudh)

Advertisement

शुद्ध अशुद्ध अशुद्धि शोधन Shudh Ashudh Ashuddhi Shodhan for Class 7 CBSE

 व्याकरण के अल्प  ज्ञान एवं उच्चारण एवं श्रवण में त्रुटियों के कारण वाक्यों में अशुद्धियां होना आम बात है। व्याकरण के नियमों से उन अशुद्धियों का निराकरण कर शुद्ध वाक्य लिखना सीखते हैं। उच्चारण एवं श्रवण में होने वाली त्रुटियां भी अशुद्धियों के लिए उत्तरदाई होती हैं।

भाषा की अशुद्धियां निम्नलिखित दो कारणों से होती हैं।

  1. वर्तनी की अशुद्धियां
  2. वाक्यों की अशुद्धियां

वर्तनी की अशुद्धियां  –

भाषा के शुद्ध प्रयोग के लिए शुद्ध उच्चारण का विशेष महत्व है। वर्तनी की अशुद्धियां का प्रमुख कारण गलत उच्चारण है। सामान्यतः निम्नलिखित कारणों से वर्तनी की अशुद्धियां  होती हैं।

मात्रा संबधि अशुद्धियां-

अशुद्ध – शुद्ध
अगामी –  आगामी
निरिक्षण –   निरीक्षण
तत्कालिक –   तात्कालिक
परलौकिक –  पारलौकिक
निरिह –   निरीह

Advertisement

अल्प प्राण और महाप्राण की अशुद्धियां

अभीष्ठ –   अभिष्ट
वृधदा – वृदधा
धोका – धोखा
झूट – झूठ
मख्खन –  मक्खन
बघ्घी –  बग्घी

ऋ और र की अशुद्धियां

स्रष्टि – सृष्टि
रिषि। –   ऋषि
ध्रणा –  घृणा
क्रिशि –   कृषि
श्रंगार –  श्रृंगार

र के प्रयोग की अशुद्धियां

करम – कर्म –
परणाम –  प्रणाम
वजर –  वज्र
पवित्तर –  पवित्र
मरयादा – मर्यादा

ज्ञ और ग्य की अशुद्धियां

आग्या –   आज्ञा
योज्ञ –  योग्य
भाज्ञ –  भाग्य
विग्यान – विज्ञान
ग्यापन –  ज्ञापन
प्रतिग्या – प्रतिज्ञा

Advertisement

र,ल,ड़ के उच्चारण में अशुद्धियां

उजारना – उजाड़ना
लराई –  लड़ाई
लरकी – लड़की
कोहंरा –   कोहड़ा
बराई –  बड़ाई

व्यंजन गुच्छों में अशुद्धियां

सकंध – स्कंद
महात्मय – महात्म्य
सकूल –  स्कूल
सटेशन – स्टेशन

वाक्यों की अशुद्धियां

वाक्य में प्रयुक्त प्रत्येक शब्द का  व्याकरण के नियमों के अनुसार ना होना , कर्ता , किया और कर्म को  उपयुक्त स्थान पर प्रयोग ना करना ,वाक्यों की अशुद्धियों का प्रमुख कारण है।

संज्ञा सर्वनाम लिंग वचन एवं क्रिया संबंधी अशुद्धियां-

संज्ञा सर्वनाम लिंग वचन एवं  क्रिया के प्रयोग की गलत जानकारी वाक्यों में होने वाली इन अशुद्धियों का प्रमुख कारण है। इन अशुद्धियों से बचने के लिए हमें  संज्ञा सर्वनाम क्रिया , लिंग एवं वचन की सही जानकारी होनी चाहिए । कुछ अशुद्ध प्रयोग नीचे देखे जा सकते हैं-

  1. खेल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए आशुतोष को पारितोषिक अर्पित की गई। (अशुद्ध)
    – खेल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए आशुतोष को पारितोषिक प्रदान किया गया। (शुद्ध )
  2.  सीता इन दिनों कत्थक का व्यायाम कर रही है। (अशुद्ध)
    –  सीता इन दिनों कत्थक का अभ्यास कर रहीहै।  ( शुद्ध)

3. अध्यापक ने  उससे बात करने को कहा परंतु रमेश ने ऐसा नहीं किया। (अशुद्ध)
– अध्यापक ने रमेश से पाठ पढ़ने को कहा परंतु उसने ऐसा नहीं किया। (शुद्ध)
4. मैं आपका दर्शन करने आया हूं। (अशुद्ध)
–  मैं आप के दर्शन करने आया हूं ।(शुद्ध)
5. हमारे माताजी बाजार गए हैं । (अशुद्ध)
–  हमारी माताजी बाजार गई हैं। (शुद्ध)
6. गुलाब के पौधे पर मैंने कई फूलों को देखा। (अशुद्ध )
–  गुलाब के पौधे पर मैंने कई फूल देखे। (शुद्ध)
7. इसमें पैसे खर्च होता है। (अशुद्ध)
–  इसमें पैसा खर्च होता है। (शुद्ध)
8. आपने क्या अभी तक काम पूरा नहीं किए हैं । (अशुद्ध)
–  आपने क्या अभी तक काम पूरा नहीं किया है । (शुद्ध)
9. हमें प्रतिदिन चरखा कातना चाहिए । (अशुद्ध)
–  हमें प्रतिदिन चरखा चलाना चाहिए । (शुद्ध)

विशेषण एवं क्रिया विशेषण संबंधी अशुद्धियां-

वाक्य में विशेषण एवं क्रिया विशेषण संबंधी अनेक अशुद्धियां देखने को मिलती हैं ।विशेषण एवं किया विशेषण का अनावश्यक, अनुप्रयुक्त तथा अनियमित प्रयोग से वाक्य में अशुद्धियां हो जाती हैं।

निम्नलिखित वाक्यों में इन अशुद्धियों को देखा जा सकता है-
1. मोहन के बुद्धि बड़ी विशाल है।(अशुद्ध)
–  मोहन की बुद्धि बड़ी तेज है।( शुद्ध )
2. वहां चारों ओर  बड़ा अंधकार था। (अशुद्ध)
–  वहां चारों और घना अंधकार था । (शुद्ध )
3. वह बड़ा चालाक है। (अशुद्ध ।)
–  वह बहुत चालाक है ।( शुद्ध)

कारकीय परसर्गो की अशुद्धियां-

भाषा की शब्द रचना के लिए कारकीय परसर्गो का समुचित प्रयोग अत्यंत आवश्यक है ।कारक के परसर्गो के अशुद्ध प्रयोग से अशुद्धियां उत्पन्न हो जाती हैं ।
1. उन्होंने एक मित्र परिचय दिया ।(अशुद्ध)
–  उन्होंने एक मित्र का परिचय दिया । (शुद्ध)
2. उसको पेट में दर्द हो रहा है ।(अशुद्ध)
–  उसके पेट में दर्द हो रहा है।( शुद्ध)
3. वह हंसी से बात टाल गया।(अशुद्ध)
–  वह हंसी में बात टाल गया। (शुद्ध)

वाक्य में प्रत्येक शब्द व्याकरण के नियमों के अनुसार ही होना चाहिए ।वाक्य रचना के अनुसार ही वाक्य में कर्ता क्रिया और कर्म का प्रयोग होना आवश्यक है ।यदि ऐसा नहीं किया जाए तो वाक्य में क्रम दोष या अन्विति दोष हो जाता है और वाक्य अशुद्ध हो जाता है। इसे कुछ उदाहरणों के द्वारा समझा जा सकता है –

1. सच में क्या तुम्हें प्रथम स्थान मिला है।( अशुद्ध )
–  क्या सचमुच तुम्हें प्रथम स्थान मिला है। (शुद्ध)
2. पंचों ने जो निर्णय लिया व सभी को मान्य था । (अशुद्ध )
–  पंचों का निर्णय सभी को मान्य था।( शुद्ध)

Shudh Ashudh for Class 5
Shudh Ashudh for Class 6
Shudh Ashudh for Class 7
Shudh Ashudh for Class 8
Shudh Ashudh for Class 9
Shudh Ashudh for Class 10

Shudh Asudh Work Sheet

निम्नलिखित अशुद्ध वाक्यों को शुद्ध करके पुनः लिखिए-

  1. आप अपने मन में सोचे ।
    2. उसकी आवाज कान में सुनाई पड़ी।
    3. वह देर में खाना खाता है ।
    4. यह बात कहने पर कठिनाई है।
    5. वह अभी अभी खाना खाए हैं ।
    6. आपने मुस्कुरा दिया।
    7. कल सभा के बीच इस पर विचार होगा ।
    8. वह अवश्य ही मेरे घर आएगा।
    9. वह स्वयं ही अपना काम कर लेगा ।
    10. देश में सर्वस्व शांति है ।
    11. उसे लगभग पूरे अंक प्राप्त हुए।
    12. भारतीय वीरों के सामने शत्रु की सेनाएं दौड़ गई।
    13. हाथियों की दहाड़ सुनकर हम डर गए।
    14. किसी को क्षमा करने में ही बड़ाईपन है।
    15. दहेज की लेनदेन बहुत बुरा रिवाज है।
    16. हवा ठंडी बह रही थी।
    17. यह उपन्यास जो है वह प्रेमचंद का लिखा हुआ है।
    18. सीता की आंख में आंसू बह रहा था।
    19. आज बाजार में एक भी दुकान नहीं खुला।
    20. दरअसल में वह उससे बहुत से प्रेम करता है।
    21. सच में क्या तुम्हें प्रथम स्थान मिला है ।
    22. जहाज के डूबते ही कप्तान नीचे कूद पड़ा।
    23. मैंने उस घने जंगल में अनेक पशु और पक्षी उड़ते और चरते देखें।

शुद्ध वाक्य –  

  1. आप स्वयं सोचें। ।
    2. उसकी आवाज कान में सुनाई दी।
    3. वह देर से खाना खाता है ।
    4. यह बात कहने में कठिनाई है
    5. उन्होंने अभी-अभी खाना खाया है
    6. आप मुस्कुरा दिए  ।
    7. कल सभा में इस पर विचार होगा
    8. वह मेरे घर अवश्य आएगा।
    9. वह स्वयं अपना काम कर लेगा।
    10. देश में सर्वत्र शांति है।
    11. उसे पूरे अंक प्राप्त हुए।
    12. भारतीय वीरों के सामने शत्रु की सेनाएं भाग गई ।
    13. हाथियों के चिंघार सुनकर हम डर गए ।
    14. किसी को क्षमा करने में ही बड़प्पन है।
    15. दहेज का लेनदेन बहुत बुरा रिवाज है ।
    16. ठंडी हवा बह रही थी।
    17. यह उपन्यास प्रेमचंद द्वारा लिखा गया है।
    18. सीता की आंखों से आंसू बह रहे थे।
    19. आज बाजार में एक भी दुकान नहीं खुली।
    20. दरअसल वह उस से प्रेम करता है।
    21. क्या तुम्हें सचमुच में प्रथम स्थान मिला है।
    22. कप्तान डूबते हुए जहाज से नीचे कूद पड़ा।
    23. मैंने उस घने जंगल में अनेक पशु और पक्षी चरते और होते देखा।

Shudh Asudh Work Sheet

निम्नलिखित शब्दों को शुद्ध रूप में लिखिए-

1.सुसोभित
2.निरस
3.आधीन
4.सासन
5.परताप
6.विशिष्ठ
7.अमावश्या
8.स्मरन
9.शिलष्ठ
10.मयन्क
11.संवारना
12.परति
14.बताइये
15.अत्याधिक
16.जयोतसना
17.परिवरतन
18.जिग्यासा
19.अनुषका
20. नबिनिकरन

सही वर्तनी पर गोला लगाएं-
1.उदभव, उदधभव, उद्भव
2.राष्ट्रीय, राष्ट्रिय, राश्टीय
3.इक्षुक, इच्छुक, इक्क्षुक
4.ओजस्वी, ओजश्वी, ओज्स्वी
5.यथाशक्ति, यथासकति, यथासक्ती
6.क्रितज्ञ, कृतज्ञ, क्रतज्ञ
7.दीर्घायु,  दीघायु, दीघार्यु
8.ब्रम्हचर्य, ब्रह्मर्चय, ब्रह्मचर्य
7.तृश्णा, त्रिष्णा, तृष्णा
10.अंताक्षरी, अन्त्याक्षरी,अनत्याछरी

Advertisement