अशुद्धि शोधन Ashudhi Shodhan for Class 9 CBSE (Shudh Ashudh)

 शुद्ध अशुद्ध अशुद्धि शोधन Shudh Ashudh Ashuddhi Shodhan for Class 9 CBSE

 किसी भी भाषा को शुद्ध रूप से लिखने और बोलने के लिए भाषा का ज्ञान आवश्यक है। भाषा के ज्ञान के साथ-साथ भाषा में वाक्यों शब्दों का उचित प्रयोग  की जानकारी भी आवश्यक होती है। व्याकरण के अंतर्गत हम   वाक्यों की संरचना एवं उपयुक्त शब्दो का प्रयोग करना सीखते हैं। अशुद्धि शोधन के अंतर्गत हम शुद्ध भाषा लिखना पढ़ना और बोलना सीखते हैं।

वाक्यों की संरचना  करते समय मुख्यत दो बातों का विशेष ध्यान दिया जाता है-

वाक्य में प्रयुक्त शब्द उचित स्थान पर प्रयोग किए गए हों एवं वाक्य में प्रयुक्त सभी  शब्दों का आपस में संबंध स्पष्ट हो ।

सामान्यतः निम्न प्रकार की अशुद्धियां पाई जाती है-

संज्ञा संबंधी अशुद्धियां-

(Sangya ki Ashudhiyan)

अशुद्ध  वाक्य
मैं रविवार के दिन तुम्हारे घर आऊंगा।
उसके पैरों में लोहे की हथकड़ियां पड़ गई है ।
सफल होने की उसे निराशा है।
मैंने जंगल में हिरण को भागते हुए देखा ।
सांप के चलने की आवाज आ रही है ।

शुद्ध वाक्य
मैं रविवार को तुम्हारे घर आऊंगा।
उसके पैरों में लोहे की बेड़ियां पड़ गई है।
उसे सफल होने की  आशा है ।
मैंने हिरण को जंगल में  कुलांचे मारते हुए देखा।
सांप के रेंकने की आवाज आ रही है ।

सर्वनाम संबंधी अशुद्धियां

(Sarvnam ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
तुम कहां जा रहे हैं।
वह सोएगा वह खोएगा।
मैं यह आप कर लूंगा।
सृष्टि सृष्टि की सहेली के संग पढ़ने जाती है ।

शुद्ध प्रयोग
तुम कहां जा रहे हो?
जो सोएगा वो खोएगा ।
मैं यह कार्य स्वयं कर लूंगा ।
सृष्टि अपनी सहेली के संग पढ़ने जा रही है ।

विशेषण संबंधी अशुद्धियां –

(Visheshan ki Ashudhiyan)

अशद्ध प्रयोग
भारत में कई आदरणीय स्थल है।
यह पुस्तक सुंदर है ।
किसका किताब चोरी हुई थी।
वह सबसे कोमलतर है ।
शुद्ध प्रयोग
भारत में कई दर्शनीय स्थल है ।
यह पुस्तक अच्छी है।
किसकी किताब चोरी हुई थी ।
वह सबसे कोमल कम है ।

लिंग एवं वचन संबंधी अशुद्धियां-

(Ling vachan ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
प्रसिद्ध कवि और कवियत्री आ रहे हैं ।
वह अपने साथ बच्चों को लेकर चलते हैं ।
शिक्षिकाएं शीघ्र कक्षा में जा रहे हैं।
उल्लू अंधेरे में देख सकते हैं।
कल लड़की घूमने जा रही है।
शुद्ध प्रयोग
प्रसिद्ध कवि और कवियत्री आ रही हैं।
वे अपने साथ बच्चों को लेकर चलते हैं ।
शिक्षिकाएं शीघ्र कक्षा में जा रही हैं ।उल्लू अंधेरे में देख सकता है।
कल लड़की घूमने जाएगी।

कारक संबंधी अशुद्धियां-

(Karak ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
राधा ने नौकर बुलाया।
मुझे पत्र से सूचना प्राप्त हुई ।
मैं गिलास द्वारा पानी पीता हूं
मैंने राधा के वास्ते कपड़े खरीदे।
रंजीत सिंह एक आंख का अंधा था।
शुद्ध प्रयोग
राधा ने नौकर को बुलाया।।
मुझे पत्र द्वारा सूचना प्राप्त हुई ।
मैं गिलास से पानी पीता हूं।
मैंने राधा के लिए कपड़े खरीदे।
रंजीत सिंह एक आंख से अंधे थे

कर्म संबंधी अशुद्धियां

(karm sambandhi  Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
कीचड़ से ही पैदा होता है हमारा अन्न ।
कभी किसी ने कीचड़ का वर्णन नहीं किया ।
उन्होंने तुरंत विनती स्वीकार यह ली ।
एक औरत अधेड़ उम्र की बैठी खरबूजे के समीप रो रही थी।
उनके जीते जी गांधीजी के दिल में इस मौत का घाव बना ही रहा।
शुद्ध प्रयोग
कीचड़ से ही अन्न पैदा होता है।
कीचड़ का वर्णन कभी किसी ने नहीं किया ।
उन्होंने तुरंत ही यह विनती स्वीकार कर ली ।
एक अधेड़ उम्र की औरत खरबूजों के समीप बैठी रो रही थी।
इस मौत का घाव गांधीजी के दिल में उनके जीते जी बना ही रहा।

पुनरुक्ति संबंधी अशुद्धियां-

(Punrukti ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
वह  कक्षा का सबसे सर्वश्रेष्ठ विद्यार्थी है।
वह अपने अनुज भाई के साथ रहता है।
शुद्ध प्रयोग
वह कक्षा का सर्वश्रेष्ठ विद्यार्थी है।
वह अपने अनुज के साथ रहता है।

मुहावरे संबंधी अशुद्धियां-

(Muhavare ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
युग की मांग का यह बीड़ा कौन चलाता है ।
उस पर घड़ों पानी गिर गया।
वह अंधे में अंधा राजा है ।
वह श्याम पर बिफर गया ।
उसने शत्रु को लोहे के चने खिला दिए।
शुद्ध प्रयोग-
युग की मांग का यह बीड़ा कौन उठाता है ।
उस पर घड़ों पानी पड़ गया।
अंधों में काना राजा है ।
वह श्याम पर विफर पड़ा ।
उसने शत्रुओं को लोहे के चने चबा दिए।

विराम चिन्ह संबंधी अशुद्धियां-

(Viram Chinh ki Ashudhiyan)

अशुद्ध प्रयोग
सभी त्योहार होली दिवाली ईद क्रिसमस मिलकर मनाओ। कल पत्नी ने धीरे से पूछा था कब तक टिकेगे यह।
मैंने उसे दृढ़ता पूर्वक कहा मैं भी औरों की तरह पर्वतारोही हूं इसलिए इस दल में आई हूं ।
शुद्ध प्रयोग –
सभी त्योहार होली ,दिवाली, ईद, क्रिसमस मिलकर मनाते हैं।
कल  पत्नी ने धीरे से पूछा था ,”कब तक टिकेंगे ये?
मैंने उसे दृढ़ता पूर्वक कहा,’ मैं भी औरों की तरह पर्वतारोही हूं ,इसलिए इस दिल में आई हूं।’

व्यंजन और स्वर संबंधी अशुद्धियां

गाड़ी देर रात इस्टेशन पर रुकी । (गाड़ी देर रात स्टेशन पर रुकी)
इस अनुछेद में कई महत्वपूर्ण तथ्य छूट से गए हैं ।(इस अनुच्छेद में कई महत्वपूर्ण तथ्य छूट गए हैं।)

Shudh Ashudh for Class 5
Shudh Ashudh for Class 6
Shudh Ashudh for Class 7
Shudh Ashudh for Class 8
Shudh Ashudh for Class 9
Shudh Ashudh for Class 10

Shudh Asudh Work Sheet

निम्नलिखित वाक्यों को शुद्ध करें और अशुद्धता की पहचान भी करें:-

अशुद्ध वाक्य।
1. हमारी सभ्यता धूल के साथ से बचना चाहती है।
2. गोधूली पर कितने कवियों ने अपनी कलम नहीं बनाई।
3. एक प्रसिद्ध पुस्तक विक्रेता के निमंत्रण पत्र में गोधूली के समय आने का आग्रह किया गया था ।
4. हमारी देशभक्ति धूल को दिमाग से न लगाएं तो कम से कम उस पर हाथ तो रखें ।
5. उसने अपने अग्रज को शाम को आने का आदेश दिया ।
6. अनेकों लोग उस सभा में आए थे।
7. यहां ताजा गन्ने का रस मिलता है ।
8. हम नहीं पढ़े हैं ये पुस्तकें।
9.राम लक्ष्मण और सीता वन को गई।
10. आपकी स्वास्थ्य कैसी है।
11. मेरी काला घोड़ा खो गया ।
12. मेरे को सब मालूम है ।
13. तुम सबसे सुंदरतम हो।
14. वहां भारी-भरकम भीड़ जमा थी ।
15. राम और उसकी बहन तथा मोहन जाते हैं ।
16. बसंत रितु अच्छा लगता है ।
17. यहां लोग इमानदार और उदार रहते हैं।
18. कौन है भाई ? देखो।
19. मुझको पत्र नहीं लिखा जाता।
20. रमा सब को बुलाई है
21. वह किताब जो कोने में रखी है वह बहुत अच्छी है।
22. वह तो मेलजोल बढ़ाना चाहते हैं पर आपका मुंह देखने को जी नहीं चाहता है।
23. इस विद्यालय में जो विद्यार्थी डॉक्टर बनना चाहते हैं उनको इस विद्यालय में शिक्षा दी जाती है ।
24. वह गुनगुने गर्म पानी से स्नान करता है।
25. पिछले कुछ वर्षों के बीच भारत और पाकिस्तान के बीच शत्रुता बढ़ी ।
26. ताज़ा भैंस का दूध होता है ।
27. बालक ने रोटी खाया।
28. मैं आपका दर्शन करने आया हूं ।
29. लगता है मानसून आ गई
30. रामचरितमानस पढ़कर पाठक की आंख खुल गई ।
31. प्रत्येक चित्र बुरे नहीं होते ।
32. जो लोग बाढ़ पीड़ित हैं उनके परिवारों की सहायता देना सरकार का दायित्व है ।
33. मैंने को आपका काम पसंद है।
34. उसकी बुद्धि विशाल है।
35. किसी को क्षमा करने में ही बड़ाईपन है।
36. किसी के स्नेह का मूल्य मापा नहीं जा सकता ।
37. मैं संकल्प लेता हूं कि इस वर्ष कड़ी मेहनत करूंगा।
38. उसने आसानी पूर्वक काम समाप्त कर लिया ।
39. मुंबई जाने में एकमात्र 2 दिन शेष हैं।
40. जितना गुड़ डालोगे वही मीठा होगा ।
41. महात्मा गांधी का देश सदा आभारी रहेगा।
42. कांग्रेस को अल्पसंख्यकों से नहीं बल्कि भगवान राम से क्षमा मांगना चाहिए।
43. बीती बातों को भुला देनी चाहिए।
44. संजय ने पुस्तकें पढ़ी ।
45. कक्षा में बड़े बड़े लड़के और बड़े बड़े लड़कियां पढ़ते है
46. आपका स्वास्थ्य कैसी है ।
47. उस सभा में अनेकों लोगों ने गाना सुनाया ।
48. राम ने एक बर्फी और दो रसगुल्ले खिलाई ।
49. जब भी आप आओ मुझसे मिलो।
50. प्रधानाचार्य कक्षा में आता है।

शुद्ध वाक्य-
1. हमारी सभ्यता धूल के संसर्ग से बचना चाहती है। संज्ञा की अशुद्धि
2. खुजली पर कितने कवियों ने अपनी कलम नहीं तोड़ी। संज्ञा की अशुद्धि
3. एक प्रसिद्ध पुस्तक विक्रेता को निमंत्रण पत्र में गोधूली के बेला में आने का आग्रह किया गया था ।पुनः उक्ति दोष
4. हमारी देशभक्ति धूल को माथे से ना लगाएं पर कम से कम पैर तो रखे। असंगत पद दोष
5. उसने अपने अग्रज से शाम को आने का आग्रह किया। संज्ञा पद दोष
6. अनेक लोग उस सभा में आए थे। वचन संबंधी अशुद्धि
7. यहां गन्ने का ताजा रस मिलता है ।पद क्रम दोष
8. हमने ये पुस्तकें नहीं पढ़ी है । पद क्रम अशुद्धि
9. राम लक्ष्मण और सीता वन को गई। लिंग संबंधी अशुद्धि
10. आपका स्वास्थ्य कैसा है। लिंग संबंधी अशुद्धि
11. मेरा काला घोड़ा खो गया है। लिंग संबंधी अशुद्धि
12. मुझे सब मालूम है ।सर्वनाम संबंधी अशुद्धि
13. वह सबसे सुंदर तर है। विशेषण संबंधी अशुद्धि
14. वहां बहुत भीड़ जमा थी । क्रियाविशेषण संबंधी अशुद्धि
15. राम मोहन तथा सकी बहन जाती है।क्रियासंबंधीअशुद्धि
16. बसंत ऋतु अच्छे लगते हैं। लिंग संबंधी औषधि
17. यहां लोग बहुत ईमानदार और उदार होते हैं क्रिया संबंधी अशुद्धियां
18. कौन है भाई ,देखो ! विराम चिन्ह अशुद्धि
19. मुझसे पत्र नहीं लिखा जाता। क्रिया संबंधी
20. रमा ने सबको बुलाया है । सर्वनाम संबंधी अशुद्धि
21. कोने में रखी हुई वह किताब बहुत अच्छी है। पद अन्विति संबंधी अशुद्धि।
22. वह तो उससे मेलजोल बढ़ाना चाहता है पर वह उसका मुंह नहीं देखना चाहता । पद अन्विति दोष
23. जो विद्यार्थी डॉक्टर बनना चाहते हैं उनको इस विद्यालय में शिक्षा दी जाती है। पद अन्विति दोष
24. वह गुनगुने पानी से स्नान करता है । अति पद दोष
25. पिछले कुछ वर्षों मैं भारत और पाकिस्तान की सत्यता बढ़ी है । कारक संबंधी दोष
26. भैंस का दूध ताजा होता है। पदक्रम दोस्त।
27. बालक ने रोटी खाई । सर्वनाम संबंधी दोष
28. मैं आपके दर्शन करने आया हूं। बच्चन संबंधि अशुद्धियां
29. लगता है मानसून आ गया प्रिया संबंधी अशुद्धियां
30. रामचरितमानस पढ़कर पाठकों की आंखें खुल गई। वचन संबंधी अशुद्धि
31. प्रत्येक चित्र बुरा नहीं होता ।वचन संबंधी सकती
32. बाढ़ पीड़ितों के परिवारों की सहायता करना सरकार का दायित्व है ।पदक्रम दोष
33. मुझे आपका काम पसंद है। सर्वनाम संबंधित अशुद्धि
34. आपकी बुद्धि अद्भुत है। विशेषण संबंधी अशुद्धि
35. किसी को क्षमा करने में ही बड़प्पन है। विशेषण संबंधी अशुद्धि
36. किसी के स्त्रियों को आंका नहीं जा सकता पदोन्नति दोस्त
37. मुंबई जाने में 2 दिन शेष बचे हैं। अति पद दोष
38. उसने आसानी से काम समाप्त कर लिया कारक संबंधी अशुद्धि
39. मुंबई जाने में 2 दिन शेष बचे हैं अति पद दोष
40. जितना गुड़ डालोगे उतना ही मीठा होगा। सर्वनाम संबंधी दोस्त
41. महात्मा गांधी का देश सदैव कृतज्ञ रहेगा संज्ञा संबंधी दोष
42. कांग्रेस को अल्पसंख्यकों से नहीं बल्कि भगवान राम से क्षमा मांगनी चाहिए लिंग संबंधी दोष
43. बीती बातों को भुला देना चाहिए लिंग संबंधी दोस्त
44. संजय ने पुस्तक पढ़ी। वचन संबंधित अशुद्धि
45. कक्षा में बड़े बड़े लड़के और लड़कियां पढ़ती है। लिंग संबंधी दोष
46. आपका स्वास्थ्य कैसा है लिंग संबंधी अशुद्धि
47. उस सभा में अनेक लोग आए । वचन संबंधी दोष
48. राम ने एक बर्फी और दो रसगुल्ले खाए हैं ।लिंग संबंधी अशुद्धि
49. आप जब भी आओ मुझसे मिलो पदक्रम दोष
50. प्रधानाचार्य कक्षा में आते हैं दिन संबंधी अशुद्धि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *