अतन्द्र और अतन्त्र में अंतर – श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द युग्म

अतन्द्र और अतन्त्र में क्या अंतर है – समोच्चरित भिन्नार्थक शब्द युग्म

अतन्द्र का अर्थ – आलस्य रहित

अतन्त्र का अर्थ – तन्तुहीन, नियंत्रण रहित

अतन्द्र का वाक्य प्रयोग-

जब तक अतन्द्र नहीं होगे काम में मन नहीं लगेगा।

अतन्त्र का वाक्य प्रयोग-

अतन्त्र समाज में अराजकता आना स्वभाविक है।

atandra ka arth – aalasya rahit

atantra ka arth – tantuheen, niyantran rahit

अतन्द्र और अतन्त्र शब्द युग्म के बारे में विभिन्न परीक्षाओं में कई प्रकार से प्रश्न पूछे जाते हैं। जैसे –

अतन्द्र का अर्थ, अतन्त्र का अर्थ, अतन्द्र और अतन्त्र में अंतर बताइये, अतन्द्र का वाक्य प्रयोग, अतन्त्र का वाक्य प्रयोग, अतन्द्र और अतन्त्र श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द युग्म में अंतर स्पष्ट कीजिये, आदि।

समोच्चरित भिन्नार्थक शब्द युग्म की विस्तार से जानकारी के लिए निम्न पोस्ट पढ़ें :-

500 श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द युग्म

10 Important शब्द युग्म जो परीक्षा में पूछे जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *