क्या वजह है कि आज तक आतंकवाद ख़त्म न हो सका? – ताबिश सिद्दीक़ी

Advertisement

मुसलमान भाईयों.. क्या आपने ग़ौर किया कि “गऊ हत्या” के मामले में भीड़ का कितना भी साथ देने वाले लोग सामने आ जाएं मगर उनमें से भी बहुत कम लोग ऐसे मिलेंगे जो ये कहते मिलें आपको कि “ये जो मार रहे हैं भीड़ बनकर ये हिन्दू नहीं हैं”.. कितनी तेज़ी से इस समाज ने स्वीकारा है कि ये “उन्ही” के लोग हैं जो “धार्मिक उन्माद और नफरत से ग्रस्त हैं”.. बहुत हैं जो इन्हें बचाने में लगे हैं मगर उसके बावजूद वो ये नहीं कह रहे हैं कि ये “हमारा धर्म मानने वाले लोग नहीं हैं

इन लोगों ने समस्या पहचान ली है फ़ौरन.. भले मोदी जी की कथनी करनी पर लाख सवाल उठाएं हम मगर उन्होंने ये तो स्वीकारा है कि ये लोग “गऊ रक्षक” ही हैं जो हिंसक हो गए हैं.. उन्होंने ये नहीं कहा कि जनाब ये “नेपाल” की चाल है और ये तो हमारे धर्म के लोग ही नहीं हैं

Advertisement

मुसलमान भाईयों.. आपने कभी ग़ौर किया कि आपके आलिमों और उलेमाओं का रटा रटाया जुमला क्या होता है आतंकवादियों के बारे में? वो कहेंगे “ये मुस्लिम हैं ही नहीं”.. वो कहेंगे “ये यहूदी हैं”.. वो कहेंगे “ये अमेरिका की चाल है”.. आपके आलिम और आप कभी ये ना स्वीकारेंगे कि “ये हैं तो मुसलमान ही मगर हां ये हिंसक हो चुके हैं”

Advertisement

समस्या को पहचान लेना समस्या को हल करने के दिशा में पहला और कारगर क़दम होता है.. मुस्लिम समाज समस्या तो जानता है मगर मुँह फेर लेता है..क्या वजह है कि आज तक आतंकवाद ख़त्म न हो सका? यही सबसे बड़ी वजह है.. क्यूंकि जब आप स्वीकारेंगे ही नहीं कि आतंकवादी मुस्लिम हैं तो फिर इसे हल कौन करेगा आख़िर? जब ISIS यहूदी संगठन है फिर तो अब मुसलमानो की कोई ज़िम्मेदारी ही न बनी उस पर.. जब इस तरह मुह फेरा जाएगा तो फिर समस्या की “जड़” कहाँ है उस तक भला कैसे कोई जाएगा?

हिन्दू समाज ने कितनी तेज़ी से इस समस्या को पहचाना है.. कैसे दुत्कार रहे हैं ये लोग अपने ही लोगों को.. आपके समाज से कोई रवीश जैसा इस तरह से अपने ही समाज के ख़िलाफ़ खड़ा हो जाये और कहे कि समस्या “हमारा धार्मिक उन्माद” ही है तो क्या आप उसका साथ देंगे? आप उसे तारिक़ फ़तेह बना देते हैं और उसकी बेटी कितने लोगों के साथ सोती है या तारिक़ फ़तेह दारू पीता है ये कहकर आप उसे दुत्कार देते हैं

Advertisement
Pulse Oximeter in Hindi corona virus

ये बात बहुत ज़रूरी था कहना क्यूंकि ये जो लोग आपके साथ हाथों में काली पट्टी बांध कर आये हैं ये आपके धर्म के लोग नहीं हैं.. इनके अपने और इनके समाज के सैकड़ों लोग आपके ही “धार्मिक आतंकवाद” का शिकार हो चुके हैं मगर आपके यहाँ सिर्फ कुछ मासूम मारे गए और ये लोग तुरंत भारी संख्या में आपके साथ खड़े हो गए और आपके विरोध को सफ़ल बनाया.. ये किस तरह की शिक्षा है इनकी जो आपकी शिक्षा से एकदम अलग है.. ये क्या है इनके मूल में जो इंसाफ़ के हक़ में बोलने के अपने समाज और सरकार से टक्कर लेने पर इन्हें मजबूर कर देता है?

Advertisement

ये क्या है इनके भीतर जो “हिन्दू राष्ट्र” का सब्ज़बाग़ दिखाने के बाद भी कोई इन्हें भ्रामित नहीं कर पाता है और ये उनके ख़िलाफ़ खड़े हो जाते हैं जबकि “शरीया” के ख़्वाब देखने वालों के प्रति आप मौन रहते हैं और मूक समर्थन दे देते हैं? क्या है ये.. ये सैकड़ों और लाखों लोग जो न नमाज़ पढ़ें और न रोज़ा रखें उन्हें आपके यहाँ मारे जा रहे मासूमों की फ़िक़्र आपके मदरसों के पांच वक़्त नमाज़ी आलिमों से भी ज़्यादा है?

ये किस तरह की शिक्षा है इनकी.. ये किस सोच के लोग हैं जो समस्या तुरंत पहचान गए और लड़ने को खड़े हो गए.. ये किस तरह के लोग हैं जो बिना “शांति” के धर्म को अपनाए इतनी शांति और इंसाफ की बात करते हैं? ये क्या पढ़ते हैं अपने घरों में जो आप इनके अगल बगल रहने के बावजूद आज तक नहीं पढ़ पाए?

सोचिये थोड़ा इस पर और आपको समझ आये तो मुझे भी समझाइये.. क्यूंकि अब समस्या आपको भी पहचाननी है.. वक़्त आ चुका है

~ताबिश

FBVARTA – हिन्दीवार्ता के इस पन्ने पर हम फेसबुक की दुनिया में लिखे जा रहे ऐसे उत्तम लेखों और रचनाओं से आपको रूबरू करवा रहे हैं जो आम पाठकों तक कई बार नहीं पहुँच पाते बावजूद इसके कि इन लेखों और रचनाओं के लेखकों के राजनीतिक, सामाजिक और साहित्यिक सरोकार बहुत उम्दा स्तर के हैं.

Advertisement