अति आनन्द मगन महतरी में कौनसा अलंकार है?

अति आनन्द मगन महतरी में कौनसा अलंकार है?

प्रश्न – अति आनन्द मगन महतरी में कौनसा अलंकार है? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिये।

उत्तर – मुदित आसीस देत मुनि नर –नारी, अति आनन्द मगन महतरी पंक्ति में अनुप्रास अलंकार है क्योंकि इसमे अ और म की आवृत्ति से चमत्कार हो रहा है।

इस पंक्ति में अनुप्रास अलंकार का कौन सा भेद हैं?

जहां काव्य में एक या अनेक वर्णों की केवल एक बार आवृत्ति हो वहाँ छेका अनुप्रास होता है। इस उदाहरण में म और अ की एक बार आवृत्ति के कारण छेका अनुप्रास है।

जैसा कि आपने इस उदाहरण में देखा जहां पर किसी वर्ण के विशेष प्रयोग से पंक्ति में सुंदरता, लय तथा चमत्कार उत्पन्न हो जाता है उसे हम शब्दालंकार कहते हैं।

अनुप्रास अलंकार शब्दालंकार का एक प्रकार है। काव्य में जहां समान वर्णों की एक से अधिक बार आवृत्ति होती है वहां अनुप्रास अलंकार होता है।

अति आनन्द मगन महतरी में अलंकार से संबन्धित प्रश्न परीक्षा में कई प्रकार से पूछे जाते हैं। जैसे कि – यहाँ पर कौन सा अलंकार है? दी गई पंक्तियों में कौन सा अलंकार है? दिया गया पद्यान्श कौन से अलंकार का उदाहरण है? पद्यांश की पंक्ति में कौन-कौन सा अलंकार है, आदि।

[display-posts category_id=”2993″  wrapper=”div”

wrapper_class=”my-grid-layout”  posts_per_page=”10″]

Leave a Reply