सहारनपुर हिंसा: भीम सेना के संस्थापक चंद्रशेखर को डलहौजी से गिरफ्तार किया गया

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में पिछले महीने की जाति-हिंसा में शामिल भीम सेना के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद को गुरुवार को हिमाचल प्रदेश के डलहौजी से गिरफ्तार कर लिया गया है। उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा आज पूछताछ के लिए उन्हें सहारनपुर लाया जाएगा|

भीम सेना को सहारनपुर दंगो में मुख्य दोषी माना गया है

भीम सेना को सहारनपुर दंगो में मुख्य दोषी माना गया है

इससे पहले उन्होंने कहा था कि अगर 37 “निर्दोष” दलितों को जमानत पर रिहा कर दिया जाता है तो वह आत्मसमर्पण करने को तैयार है। उन्होंने एबीपी न्यूज को यह भी बताया था कि उन्हें मुठभेड़ में मार गिराए जाने की आशंका है। उन्होंने कहा कि वह अदालत के सामने आत्मसमर्पण करेंगे। समाचार एजेंसी पीटीआई को यहां से करीब 50 किलोमीटर दूर एक छुपी जगह पर बोलते हुए, 30 वर्षीय वकील ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश पुलिस असली अपराधियों को नहीं गिरफ्तार कर रही है| बल्कि निर्दोष लोगों को जेल में कैद कर दिया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि दलित समुदाय के खिलाफ अत्याचार के मामलों में वृद्धि हुई है, जबसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पदभार संभाला है। युवा की मौत पर उन्होंने कहा, शुरू में पुलिस ने कहा कि उसे गोली मार दी गई। बाद में पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में कहा गया कि वह घुटन से मर गया।

मुझे लगता है कि उत्तर प्रदेश सरकार दलितों के मुद्दों से निपटने में नाकाम रही है। मुख्यमंत्री ने पुलिस और प्रशासन पर नियंत्रण खो दिया है। पिछले एक साल की तुलना में पिछले महीने में दलितों के खिलाफ अत्याचार के मामले अधिक हैं। चंद्रशेखर ने पीटीआई को बताया| सहारनपुर के शाबीरपुर गांव में दलितों और ठाकुरों के बीच 5 मई को होने वाली हिंसा के बाद भीम सेना द्वारा गोली चलाई थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई घायल हो गए।
जाति हिंसा से जुड़े चंद्रशेखर एक प्रमुख व्यक्ति हैं और उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसपर 12,000 रुपये का इनाम घोषित किया था।

मजिस्ट्रेट और दिल्ली पुलिस ने मुझे गिरफ्तार नहीं किया

सहारनपुर की हिंसा के वास्तविक अपराधियों को गिरफ्तार करने के बजाय, पुलिस ने निर्दोष लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और उन्हें सलाखों के पीछे रखा है। इससे दलितों के बीच गुस्से में बढ़ोतरी हुई है। यह पूछने पर कि क्या वह आत्मसमर्पण करेंगे| उन्होंने दावा किया कि वे पहले ही दिल्ली पुलिस और मजिस्ट्रेट के सामने पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने उन्हें गिरफ्तार करने से इनकार कर दिया। अब मैं चाहता हूं कि 37 निर्दली दलित जो जेल में हैं, उन्हें जमानत पर रिहा किया जाए, तभी मैं आत्मसमर्पण करूँगा।

शब्बीरपुर संघर्ष पर उन्होंने दावा किया कि दलितों को धमकी दी गई थी कि अगर उन्होंने जुलूस में हस्तक्षेप किया| जो ठाकुरो द्वारा किया जाता है तो उन्हें गोली मार दी जाएगी। जब हमने पुलिस को इसके बारे में सूचित किया, तो अफवाह फैल गई कि हमारा समुदाय रैली का विरोध कर रहा है। प्रतिशोध में गांव में दलितों के घरों को आग लगा दी गई। ऐसा लगता था कि हमले की योजना पहले ही बनाई गई थी| यह मिडिया को गिरफ्तार युवा ने बताया जो हिंसा में पकड़ा गया था।