कहते हैं ‘हिम्मते मर्दा तो मददे खुदा’. इंसान के में जीवन चाहे कितनी भी चुनौतियां आये अगर वो हिम्मत और हौसला तो भगवान् भी उसकी मदद करता है. ऐसी ही हिम्मत की कहानी बिहार में रहने वाली परवीन की है. 18 साल की परवीन एक ऐसी बीमारी से जूझ रही है.

जिसके कारण उनके शरीर में मौजूद हड्डीयां अब तक लगभग 1000 बार टूट चुकी हैं. लेकिन वो कभी हिम्मत नहीं हारती हैं. यहाँ तक कि परवीन अपने आप को अपंग भी नहीं मानती हैं. वो कहती हैं मेरे इरादे बहुत मजबूत हैं. मैं केवल हिल नहीं पाती लेकिन मेरा दिमाग बिल्कुल सही काम करता है. लोग मुझे केवल इस लिए तरस की नज़र से देखते हैं क्योंकि मैं अपनी जगह से हिल भी नहीं सकती हूँ. परवीन ने हाल ही में एक सहायक की मदद से अपनी परीक्षा दी है. वो आगे चल कर एक बड़े बैंक में नौकरी करना चाहती हैं. वो कहती हैं कि नौकरी ही उनकी किस्मत बदल सकती है.

वैसे तो परवीन का जन्म आम बचों के तरह ही हुवा था. लेकिन जैसे ही वो दो साल की हुई अचानक उनके शरीर में कुछ बदलाव होने लगे. परवीन की माँ गज़ाला बताती हैं कि, “जब परवीन पैदा हुई थी, तो उसकी त्वचा बहुत पतली थी. उस वक़्त डॉक्टर ने बताया था कि परवीन के शरीर में कैल्सियम की कमी है. उनके जन्म के बाद उन्हें भारी मात्र में कैल्सियम दिया भी गया लेकिन उनपर कोई असर नहीं हुवा.

कई बार परवीन अपने इस हालत से परेशान भी हो जाती हैं. वो कहती हैं कि वो भी दूसरी लड़कियों की तरह उड़ना चाहती हैं. उन्हें अपना शरीर एक कैद खाने के तरह लगता है. आपको बता दें कि परवीन ‘Osteogenesis Imperfecta’ नाम के एक जेनेटिक डिसऑर्डर से पीड़ित है. इस बीमारी के कारण शरीर की हड्डियाँ हलके से दबाव पड़ने पर भी आसानी से टूट जाती है.

परवीन की जिंदगी में उसके माता पिता के अलावा एक पालतू बिल्ली है. जिसके साथ वो पूरे दिन खेलते रहती हैं. उसके पसंदीदा हीरो सलमान खान है.

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Mritunjay
राष्ट्रीय राजनीति में विशेष रुझान रखते हैं. कभी कभार अन्य मुद्दों पर भी अपनी राय बेबाक तरीके से रखते हैं ! विशेष जानने के लिए इनसे फेसबुक के माध्यम से जुड़ सकते हैं! हिन्दीवार्ता पर इनके रोचक लेखों को पढ़िए और दिल खोल कर शेयर कीजिये.