मनोज तिवारी ने आमिर खान को कहा देशद्रोही, बवाल मचने पर दी सफाई

नई दिल्ली. “अतुल्य भारत” कैंपेन (Incredible India Campaign) से आमिर खान (Amir Khan) को हटाये जाने के विवाद में एक नया चैप्टर जुड़ गया है। बताया जा कि “अतुल्य भारत” अभियान से आमिर खान को हटाये जाने पर संसदीय पैनल की बैठक में हुई चर्चा के दौरान लोकगायक से सांसद बने मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने आमिर खान को देशद्रोही कह डाला और इस कैंपेन से आमिर खान के हटाये जाने को सही ठहराया। जब बाद में विवाद बढ़ा तो सफाई देते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि ये मेरे शब्द नहीं हैं और मेरी बात को तोड़ मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।

BJP MP Manoj Tiwari calls Amir Khan Traitor Deshdrohiआपको बता दें कि मनोज तिवारी भोजपुरी कलाकार हैं और इस समय दिल्ली से सांसद हैं। मनोज तिवारी का विवादित बयान ट्रांसपोर्ट, टूरिज्म और कल्चर पर बनी पार्लियामेंट की स्टैंडिंग कमिटी की बैठक के दौरान सामने आया जब विपक्षी दलों के संसद “अतुल्य भारत” से आमिर खान के हटाये जाने को लेकर टूरिज्म सेक्रेटरी से सवाल कर रहे थे। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार तिवारी ने कहा, “आमिर तो देशद्रोही हैं, अच्छा हुआ जो उन्हें इस कैम्पेन से हटा दिया गया।”

जब तिवारी के इस बयान पर विवाद खड़ा हो गया और बवाल मचने लगा तो मनोज तिवारी सफाई देते नजर आये और उनके सारे तेवर गायब हो गए। उन्होंने सफाई में कहा कि – ”मैंने आमिर खान के लिए कभी देशद्रोही शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। अगर किसी अखबार ने यह खबर छापी है तो मैं उसे नोटिस भेजूंगा। मैंने सिर्फ यही कहा कि जो भी व्यक्ति इन्क्रेडिबल इंडिया का चेहरा है, उसे ये नहीं कहना चाहिए कि भारत रहने लायक जगह नहीं है।”

यह भी पढ़िए – आमिर खान का बयान, मुंबई पुलिस ने कहा नहीं घटाई गयी है सुरक्षा

मीडिया में आई खबरों के अनुसार पार्लियामेंट्री मीटिंग में विपक्षी सांसदों ने तिवारी के बयान का जोरदार विरोध किया तो मनोज तिवारी चुप हो गए और बगलें झांकते दिखाई दिए। कांग्रेस और सीपीएम के सांसदों ने टूरिज्म सेक्रेटरी विनोद जुत्शी से आमिर को हटाए जाने पर जवाब मांगा तो जुत्शी ने डिटेल्स देने से इनकार कर दिया। इससे विपक्षी सांसद नाराज हो गए।

साथ ही इस कैंपेन पर आने वाले खर्च का सवाल उठाते हुए सीपीएम सांसद रीताब्रत बनर्जी ने पूछा कि आमिर मुफ्त में कैम्पेन कर रहे थे। अब उनकी जगह जो दूसरा शख्स यह कैम्पेन करेगा, वो कितनी फीस लेगा? कांग्रेस सांसद कुमारी सैलजा और केसी. वेणुगोपाल ने भी यह मुद्दा उठाया। इन सवालों के जवाब में टूरिज्म सेक्रेटरी विनोद जुत्शी चुप हो गए और उनसे कोई जवाब देते नहीं बना। यह भी कहा जा रहा है कि आमिर ने मैक्केन ग्रुप या टूरिज्म मिनिस्ट्री के साथ कोई कॉन्ट्रैक्ट साइन नहीं किया था। वे अपनी मर्जी से इस कैम्पेन से जुड़े थे।

यह भी पढ़िए – आमिर खान हिन्दुस्तान छोड़ कर जाएंगे कहाँ?

ऐसा लगता है कि इनक्रेडिबल इंडिया कैंपेन का यह विवाद जल्दी थमने वाला नहीं है। इसे देखते हुए पीएमओ मामले पर टूरिज्म मंत्रालय से स्टेटस रिपोर्ट मांगी है।

ऐसा बताया जा रहा है कि इसी विवाद के चलते अभिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) का नाम फाइनल होने के बावजूद उनके नाम की घोषणा “अतुल्य भारत” कैंपेन ने ब्रांड एम्बेसडर के तौर पर नहीं की जा रही है। कुछ सूत्र यह भी रहे हैं कि अभिनेता अक्षय कुमार का नाम भी संभावित है। गौर तलब हो कि जहाँ आमिर खान असहिस्णुता के मुद्दे पर विवादित बयान देकर आलोचना झेल रहे हैं वहीँ अक्षय कुमार खुल कर पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ बोल रहे हैं। अक्षय कुमार तो यहाँ तक बोल चुके है कि पाकिस्तान में घुस कर आतंकी हमलों का बदला लेना चाहिए ।