एक रोजेदार मुस्लिम अफसर की वजह से नाकाम हुआ आतंकी हमला

श्रीनगर : कमांडर इकबाल अहमद का रोजा रखना आतंकियों द्वारा CRPF हमले को नाकाम करने में एक बड़ा फैक्टर साबित हुआ. श्रीनगर के सम्बल कैंप में हुए आतंकी हमले को सेना के जवानो ने बिना किसी नुक्सान के नाकाम कर दिया और चार आतंकियों को भी मार गिराया.

brave commandar
Image for Representational Purpose

उस समय 45 CRPF बटालियन के कमांडर थे कमांडर इकबाल अहमद जिनको कमांडर चेतन चीता की जगह कमांडर बनाया गया था.

कमांडर उस दिन रोजा रखने के लिए सेहरी के वक़्त थोड़ा जल्दी जाग गए थे. अचानक उनका वायरलेस बज उठा जिसपर हमले के बारे में बताया गया. कमांडर इक़बाल उसी समय सब कुछ छोड़ अपनी असॉल्ट राइफल ले कर हमले के स्थल की तरफ भागे तथा आतंकियों से तबतक लोहा लिया जबतक सब मारे नहीं गए.

इसके बाद से जवानों के बीच उनकी बहादुरी के काफी चर्चे हो रहे हैं.

2 कुत्तों ने भी निभाया अहम् किरदार

CRPF के जवानों को पहले से ही घुसपैठ का अंदाजा तो था परन्तु कुत्तों ने भी अहम् भूमिका निभाई. असल में CRPF के जवान इन कुत्तों को कुछ न कुछ खिलाते रहते हैं.

जिस दिन हमला हुआ उसदिन ये कुत्ते लगातर भौंक रहे थे जिससे जवान सतर्क हो गए और इन हमलों को रोक कर बहुत सी जिंदगियां बचायी जा सकीं .