जीवन को वरदान बना दो – आशीष श्रीवास्तव की कविता

।।जीवन को वरदान बना दो।।

CEREBRAL PALSI AFFECTED CHILDमस्तिष्क पक्षाघात से जूझ रहा हूँ
छोटा-सा सवाल पूछ रहा हूं ?

क्यों नहीं हो सकता मुझपे खर्च
वैज्ञानिक क्यों नहीं करते रिसर्च।

रोबोट में तो डाल रहे संवेदना
समझ नहीं रहा कोई मेरी वेदना।

क्यों रहूं मैं किसी पर निर्भर
मैं भी होना चाहता हूं आत्मनिर्भर।

अंतरिक्ष के रहस्य जानना चाहता हूं
मैं भी इंसान होना चाहता हूं ।

कई रोगों का तो मिटा दिया धब्बा
मैं थामे हूं अब भी दवाईयों का डब्बा।

क्या कमाल नहीं, तुमने दिखला दिए
आविष्कारों से उजियारे ला दिए।

देखना बुझे न विश्वास के दीये
मैं भी खुशियां के जलाऊं दीये।

अरे क्यों आपस में लड़ते हो
किससे होड़कर जलते हो।

लड़ना ही है तो निःशक्तता से लड़ो
सच्चे इंसान बन आगे बढ़ो।

बस एक ही सवाल मुझे है सालता
कब दूर होगी दुनिया से विकलांगता।

जीवन को वरदान बना दो
मुझको भी हंसना सिखा दो।

हे महान वैज्ञानिक! तुम सुन लो मेरी बात
इस धरा से समाप्त कर दो मस्तिष्क पक्षाघात

उचित इलाज के अभाव में हो न किसी पे आघात
इस दुनिया से दूर भगा दो मस्तिष्क पक्षाघात

मस्तिष्क पक्षाघात यानी सेरेब्रल पाल्सी : ऐसे बच्चे जो जन्म के समय नहीं रोते या जिन्हें पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती, वे बहुविकलांगता का शिकार होकर बाकी की जिंदगी रेंगते हुए अथवा दूसरे के सहारे जीने को विवश होते हैं। इन बच्चों की आयु कम होती है, लेकिन इनकी संख्या कहीं अधिक है।

– आशीष श्रीवास्तव
पटकथा लेखक, मध्यप्रदेश