किसी को भी गुरु मानने से पहले पढ़ लें चाणक्य की ये नीतियां

त्यजेद्धर्म दयाहीनं विद्याहीनं गुरुं त्यजेत्। त्यजेत्क्रोधमुखी भार्या निःस्नेहान्बान्धवांस्यजेत्॥
जिस गुरु के पास अध्यात्मिक ज्ञान नहीं है उसे उसे त्याग देना चाहिएधर्म में यदि दया न हो तो उसे त्याग देना चाहिए । विद्याहीन गुरु को, क्रोधी पत्नी को तथा स्नेहहीन बान्धवों को भी त्याग देना चाहिए । (जिस व्यक्ति के पास धर्म और दया नहीं है उसे त्याग देना चाहिए, जिस गुरु के पास अध्यात्मिक ज्ञान नहीं है उसे त्याग देना चाहिए, जिस पत्नी के चेहरे पर हर समय घृणा है उसे त्याग देना चाहिए, जिन रिश्तेदारों के पास प्रेम नहीं उन्हें त्याग देना चाहिए।)

गुरुरग्निर्द्विजातीनां वर्णानां ब्राह्मणो गुरुः। पतिरेव गुरुः स्त्रीणां सर्वस्याभ्यगतो गुरुः॥
chanakya neeti घर में आया हुआ अतिथि सभी का गुरु होता है ।ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य, इन तीनो वर्णों का गुरु अग्नि है । ब्राह्मण अपने अतिरिक्त सभी वर्णों का गुरु है । स्त्रियों का गुरु पति है । घर में आया हुआ अतिथि सभी का गुरु होता है ।

राजा राष्ट्रकृतं पापं राज्ञः पापं पुरोहितः। भर्ता च स्त्रीकृतं पापं शिष्य पाप गुरुस्तथा॥
chanakya neeti शिष्य के पाप को गुरु भोगता है ।राष्ट द्वारा किये गए पाप को राजा भोगता है । राजा के पाप को उसका पुरोहित, पत्नी के पाप को पति तथा शिष्य के पाप को गुरु भोगता है ।