चाँद ख़ुदकुशी करने निकला है

Advertisement

आज मैं कोई कविता नहीं लिखूंगा
कोई कहानी नहीं सुनाऊंगा
बस बैठ कर
इन्तेजार करुंगा

चाँद खुदकुशी

तुम्हें पता ना हो
शायद
कि सायों की भी रूह होती है
जो धूप में पिघल जाती है
और अंधेरों से डरती है
जब साये लंबे होते हैं
तो वो अक्सर बातें करती हैं
मैं आज डूबते सूरज की रोशनी से
एक रूह को बाँध लूँगा
मुझे देखना है
कि अंधेरे में
क्या साये भी किरदार बदलते हैं?

आज मैं कोई कविता नहीं लिखूंगा
कोई कहानी नहीं सुनाऊंगा
बस बैठ कर
इन्तेजार करूंगा

मुझे सितारों से कोई गिला नहीं
राहू से मेरी दोस्ती है
अकसर वो किस्मत की तंग गली में
मुझे मिल ही जाता है
कई बार साथ बैठ कर हमने
सिगरेट सुलगाई है
और रातें शाद की हैं
जब वो नाचता है तो गजब की ताल होती है
आज मुझे उसके घुँघरूओं का हिसाब करना है
वो कहता है
जब ये आवाज करते हैं
तो मैं सो नहीं सकता

Advertisement

आज मैं कोई कविता नहीं लिखूंगा
कोई कहानी नहीं सुनाऊँगा
बस बैठ कर
इन्तेजार करूंगा

कहते हैं आज रात भारी है
चाँद ख़ुदकुशी करने निकला है
वो मायूस है कि उसके चेहरे के दागों ने
आईने को भी बदशकल बना डाला
मैं उस से बात करूंगा
शायद वो ये समझ पाए
कि आईने बाजारों में बिकते हैं
कीमत अदा जो करे
उनका वही हबीब है

आज मैं कोई कविता नहीं लिखूंगा
कोई कहानी नहीं सुनाऊँगा
बस
इन्तेजार
करूंगा

~ स्कंद नयाल खान

Advertisement