Advertisement

चढ़ तुंग शैल – शिखरों पर सोम पियो रे में कौनसा अलंकार है?

चढ़ तुंग शैल – शिखरों पर सोम पियो रे में कौनसा अलंकार है?

प्रश्न – चढ़ तुंग शैल – शिखरों पर सोम पियो रे में कौनसा अलंकार है? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिये।

Advertisement

उत्तर – प्रस्तुत पंक्ति में अनुप्रास अलंकार की सुंदर अभिव्यक्ति हुई है। श वर्ण की पुनरावृति से काव्य पंक्ति में चमत्कार उत्पन्न हो रहा है।

इस पंक्ति में अनुप्रास अलंकार का कौन सा भेद हैं?

Advertisement

जहां काव्य में एक ही वर्ण बार बार आए तो वहाँ वृत्यानुप्रास होता है।इस काव्य पंक्ति में च वर्ण की आवृत्ति हुई है इसलिए काव्य पंक्ति में वृत्यानुप्रास की उपस्थिति है।

जैसा कि आपने इस उदाहरण में देखा जहां पर किसी वर्ण के विशेष प्रयोग से पंक्ति में सुंदरता, लय तथा चमत्कार उत्पन्न हो जाता है उसे हम शब्दालंकार कहते हैं।

अनुप्रास अलंकार शब्दालंकार का एक प्रकार है। काव्य में जहां समान वर्णों की एक से अधिक बार आवृत्ति होती है वहां अनुप्रास अलंकार होता है।

चढ़ तुंग शैल – शिखरों पर सोम पियो रे में अलंकार से संबन्धित प्रश्न परीक्षा में कई प्रकार से पूछे जाते हैं। जैसे कि – यहाँ पर कौन सा अलंकार है? दी गई पंक्तियों में कौन सा अलंकार है? दिया गया पद्यान्श कौन से अलंकार का उदाहरण है? पद्यांश की पंक्ति में कौन-कौन सा अलंकार है, आदि।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply